कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

माँ, मैं आपके जैसी नहीं बनना चाहती हूँ…

Posted: मई 17, 2021

आप जैसी हो, मैं आपसे वैसे ही प्यार करती हूँ। मैं चाहकर भी आपसे प्यार करना बंद नहीं कर सकती लेकिन मैं आपके जैसा नहीं बनना चाहती।

ट्रिगर वॉर्निंग: यह बचपन में हुए दुर्व्यवहार, घरेलू हिंसा, अवसाद और प्रसवोत्तर अवसाद से संबंधित है, और उत्तरजीवीयों के लिए ट्रिगर हो सकता है।

मेरी माँ केवल 20 वर्ष की थीं जब मैं पैदा हुई थी। उन्होंने 19 साल की उम्र में शादी कर ली। मेरे पिता उनके कज़िन थे।

जब मैंने शादी करने का फैसला किया (मैं 28 साल की थी) और मैंने उनसे गर्भनिरोधक के बारे में पूछा। उन्होंने कहा कि उन्होंने कभी इसका इस्तेमाल नहीं किया। इसलिए हम स्त्री रोग विशेषज्ञ के पास गए, जिसे उन्होंने चुना और इसलिए वह मेरी उम्र से ज्यादा उनकी उम्र की थीं। लेकिन मेरे विकल्पों को समझाने के लिए अच्छी थीं। 

मेरी माँ, जो चुप चाप बेठी थीं, उन्होंने, जब मैं डॉक्टर को जवाब दे रही थी कि क्या मैं तुरंत बच्चे पैदा करने का इरादा रखती हूँ या नहीं, तुरंत मेरी बात काट दी।

वे इस बात पर जोर दे रही थीं कि बहुत जल्द ही में बच्चा पैदा करूँगी क्यूँकि, मैं ‘पहले से ही ज़्यादा उम्र की’ थी। हमने वहां पर हंगामा करना शुरू कर दिया, बेचारी डॉक्टर हैरान हो गयी। उसने अंततः मेरी माँ को बाहर जाने के लिए कहा ताकि वह और मैं आराम से बात कर सकें।

यह कहना कि ‘मेरी माँ नाराज थीं’, कम है

32 साल की उम्र में खुद माँ बनने के बाद ही मैंने चीजें अपने ढंग से करने की ठानी। जिस स्त्री रोग विशेषज्ञ से मैंने अपनी गर्भावस्था और बाद में प्रसव के दौरान सलाह ली, वह मुझसे कुछ साल ही बड़ी थीं, इसलिए हम पहले दोस्त थे, और डॉक्टर-पेशेंट बाद में। 

मेरी बेटी के जन्म के छह महीने बाद, मेरा बच्चा और मैं दोनों अपने नए घर में अकेले थे, एक बड़ी जगह पर जहां मैं और मेरे पति ने अभी-अभी रहना शुरू किया था। यह जगह मेरे माता-पिता के घर के भी करीब था। 

मुझे लगा कि यह सिर्फ ‘पीपीडी’ है, लेकिन ये कुछ और सीरियस था  

मेरे पति के काम के कारण वह सप्ताह में तीन से चार दिन यात्रा पर रहते थे। मैं अपने बच्चे के अलावा किसी और को देखे बिना ही दिन गुजार देती थी। चूंकि मैं अपार्टमेंट काम्प्लेक्स में नयी थी, मैं किसी को नहीं जानती थी।

मैंने देखा कि मेरा रोना रुकता ही नहीं कर होता था। मैं दिन-रात रोती रहती। मेरे गाइनेक ने मुझे पीपीडी (पोस्ट पार्टम डिप्रेशन) के संकेतों के बारे में चेतावनी दी थी, और मुझे बताया कि मुझे ये हो सकता था क्यूँकि आमतौर मासिक धर्म से पहले मुझे मूड स्विंज़ होते थे।

उन्होंने मेरे घर के पास ही एक थेरपिस्ट खोजने में मदद मेरी की, ताकि मुझे कंसल्टेशन के लिए बहुत दूर न जाना पड़े।

और कुछ ऐसा ही हुआ। मेरी डिलीवरी के सात महीने बाद, मैंने सीरियस पीपीडी के लिए मदद मांगी। लेकिन मेरे थेरपी के कुछ सेशन के बाद मेरे थेरपिस्ट के अलग ही विचार थे। उन्होंने ने कहा की मुझेआयडेंटिटी क्राइसिस है और एक खराब बचपन के कारण संभावित भावनात्मक असंतुलन। 

मेरे लिए इसका कोई मतलब नहीं बन रहा था – 10वीं कक्षा में एक स्टेट टॉपर और मेरे रेज़्यूमे में शीर्ष स्तरीय इंजीनियरिंग और एमबीए डिग्री के साथ, और एक अच्छी तनख्वाह वाले कॉर्पोरेट करियर के बाद, मुझे पता था कि मैं कौन हूँ।

जहाँ तक मेरे बचपन का सवाल है, मैंने अपने उन दोस्तों की तुलना में, इसे विशेष रूप से आश्रय और आरामदायक ही माना था। तो समस्या क्या थी?

मैंने अपने नाम से जुड़े लेबल्स कभी अच्छे नहीं लगते थे, और जब मैंने अपनी बेटी के स्कूल जाने तक एक फुल-टाइम माँ बनने के लिए नौकरी छोड़ी, तो मैंने लेबल्ज़ की चिंता भी पूरी तरह से छोड़ दी।

मेरे बच्चे को मेरे इंजीनियरिंग सीजीपीए या मेरे पिछले डेसिग्नेशन की परवाह नहीं थी; अगर उसे मेरा बनाया हुआ खाना पसंद नहीं आया, तो वह उसे एकदम थूक देती। एक माँ के रूप में मेरा पहला वर्ष कौशल, आत्म-मूल्य और हॉर्मोन्स की पुनर्गणना था। 

मैं अपनी माँ जैसा नहीं बनना चाहती थी!

लगभग एक साल की थेरपी के बाद, मेरे थेरेपिस्ट ने सुझाव दिया कि हम उन मुद्दों पर काम करने का प्रयास करें जो मेरे माता-पिता के साथ थे, जो उन्हें लगा कि मेरी सभी समस्याओं का मूल कारण है।

उन्होंने ने मुझे अपनी माँ एक पत्र लिखने का सुझाव दिया, जिसमें मैंने उन सभी चीजों के बारे में लिखा, जो मुझे तब तक परेशान करती थीं, लेकिन मैं बोल नहीं पाती थी।

मैंने एंटी-ऐंज़ाइयटी दवा के लिए एक मनोचिकित्सक से भी सलाह ली। मुझे शुरू से ही कोई भी पदार्थ या धुआं पसंद नहीं, जो मेरी सोच से खिलवाड़ करता हो।

प्रोज़ैक-समतुल्य के कारण, जो मैं स्वेच्छा से हर सुबह लेती थी, मैं पूरे दिन डकार लेती रहती थी, और लगभग एक सप्ताह तक मेरा दिमाग़ पर कोहरा सा छाया रहा, जब तक जब तक कि मेरे जिद्दी दिमाग़ ने खुद को इस दवा के हवाले नहीं किया।

कभी-कभी मैं थेरपी के पूरे घंटे रोते हुए बिता देती थी, क्योंकि यह मेरे लिए बहुत मुश्किल था – बदलना।

मैं ज़ोर से व्यक्त करने की कोशिश करती, हांफते हुए एक दम घुटने वाली आवाज में, कि मैं अभी भी ऐसा क्यों कर रही थी। मैं अपनी माँ नहीं बनना चाहती थी।

मैं एक सहानुभूतिपूर्ण, अच्छी तरह से समायोजित, और ख़ुशहाल बच्चे की परवरिश करना चाहती थी। मैं अपने घर को उसके लिए एक सुरक्षित स्थान बनाना चाहती थी, जहां वो जो चाहे वह कर सकती थी, और वह यह जान सके कि हम उससे बहुत प्यार करते हैं। 

मेरी माँ को एक पत्र

प्रिय माँ, 

मुझे पता है कि आप ग़ुस्सा हैं। मेरे साथ जो कुछ बचपन में हुआ था उसे ठीक करने की कोशिश की वजह से।

लेकिन आप मुझसे पूछें तो तार्किक रूप से, मुझे नहीं लगता कि आपने जानबूझकर कुछ गलत किया है। २० साल की उम्र में, आप स्वयं एक बच्ची थी और आपके ऊपर एक और जीवन की जिम्मेदारी  थी, एक घर चलाना, और ससुराल वालों को संभालना जो अधिक अनुचित थे क्योंकि वह आपको जीवन भर जानते रहे।

ऐसी कई चीजें हैं जो मैं चाहती हूँ कि काश वे नहीं हुई होतीं

मैं बहुत कम खाना खाने वाले लोगों में थी इसलिए आप मुझे जबरदस्ती खाना खिलाते थे, और अगर मैं अपनी थाली में सब कुछ खत्म नहीं करती तो आप मुझे पीटते थे। उन दिनों यही नियम था। लेकिन आज यही वजह है कि मैं स्ट्रेस-ईट (तनाव के कारण ज़्यादा खाना) करती हूं।

सफाई से लेकर, विशेष तरीके से किए जाने वाले कामों के साथ, मुझे क्या पहनना चाहिए और मुझे सार्वजनिक रूप से कैसे बात करनी चाहिए और कैसे व्यवहार करना चाहिए, आपकी कई पाबंदियां थीं, लेकिन ज्यादातर, आप चाहते थे कि नियंत्रण आपके हाथ में हो।

मैं भी बिल्कुल ऐसा ही थी, और अब हर दिन मैं एक चीज़, जिससे मैं अपने मुताबिक़ ‘सही’ करने की कोशिश करती, को छोड़ने की कोशिश करती हूँ। 

जिन शब्दों का इस्तेमाल कर आप मुझे बुलाती थीं या जिनसे आप मेरा वर्णन करते थे, वे मुझे आज भी दर्द पहुंचते हैं। 36 की उम्र पर भी…

क्यों-नहीं, आत्म-आलोचना और बीती बातों के गुस्से से भरा सिर, मुझे खोखला महसूस कराता है, जबकि मेरी ज़िन्दगी तो मेरे सपनों से आगे बढ़ने की ख़ुशी से भरी होनी चाहिए।

यह कहना कि कुल मिलाकर मेरे लिए चीज़ें बहुत आसान हैं, एक भारी न्यूनोक्ति है। मैं आपको भी ऐसा ही करने के लिए कहूँगी, लेकिन मैं यह जानती हूँ कि आप मुझे अक्षम, बेकार और बेवकूफ कहेंगी, जो कि मैंने बड़े होते हुए कई बार सुना है। 

36 साल की उम्र में, कई उपलब्धियों और अपने परिवार के साथ भी यह मुझे अभी भी चुभते हैं। भगवान ही जानता है क्यों।

मुझे पता है कि आपका जीवन कठिन था, आपके साथ दुर्व्यवहार हुआ, जल्दी शादी करा दी गयी थी, कोई सहारा नहीं था, लेकिन…

ऐसा नहीं था कि आप भावना या प्रेम के काबिल नहीं थे; आप बस यह नहीं जानते कि इसे कैसे दिखाया जाए क्योंकि किसी ने आपको ये नहीं दिखाया।

मुझे अब पता चला है कि यह आपके अब्यूसिव पिता की वजह से था, जिन्हें आपको या मेरी नानी को पीटने के लिए किसी कारण की आवश्यकता नहीं थी।

आप जैसी हो, उसी रूप में मैं आपसे प्यार करती हूँ: मैं चाहकर भी आपसे प्यार करना बंद नहीं कर सकती। आप उतना ही मेरा हिस्सा हो जितनी मैं आपकी। लेकिन आपके द्वारा लगातार ठुकराए जाने के बाद मैं इतना ही कर सकती हूं।

आपका जीवन आसान नहीं रहा है। मुझे पता है क्योंकि आपने मुझे अपने जीवन की कहानियां बार-बार सुनाई हैं। मैं केवल बुरे हिस्सों को जानती हूं, शायद इसलिए क्यूँकि आपको बस वही याद है।

मुझे पता है कि आपकी ज़िंदगी के कुछ अच्छे हिस्से भी रहे होंगे। अपने वर्तमान के हर मिनट को तड़पते हुए और अपने अतीत के भूले-बिसरे हिस्सों से दूर भागने की कोशिश करने में व्यतीत करना, आप आज इसका भुगतान कर रहे हैं, पचास साल बाद।

आप पहले से ज्यादा गुस्से में हैं, आप पहले से ज्यादा शक्तिहीन महसूस करती हैं, और स्वास्थ्य के लिहाज से आप पहले से ज्यादा बीमार हैं।

लेकिन मैं #BreakTheChain चुनती हूं और खुद की मदद करती हूं, ताकि मैं खुद एक बेहतर माँ बन सकूं

मैं चाहती हूं कि आपको पता चले कि मैंने खुद को और आपके साथ अपने रिश्ते को सुधारने का फैसला किया है। मैंने अलग तरह से जीने का फैसला किया है, अपने सच्चे स्व को खोजने के लिए।

हाँ, यह एक संघर्ष है, और हाँ, इसका मतलब यह होगा कि मैं सफलता की एक झलक पाने से पहले ही कई बार असफल हो जाऊँगी। मुझे पता है कि आप फेल होने वाले को स्वीकार नहीं करती हैं, और यह कि आप मेरे बारे में किसी भी बातचीत को स्वार्थी होने के रूप में मानती हैं।

लेकिन इसमें से कोई भी मेरे लिए उतना महत्वपूर्ण नहीं है जितना यह सुनिश्चित करना कि मेरी बेटी ‘मेरे जैसे आप’ नहीं बनती, जिसके ख़िलाफ़ मैं हर मिनट, हर दिन ज़ोर दे रही हूँ। अगर मुझे अगले बीस साल #BreakTheChain की कोशिश में बिताने पड़े, तो मैं करूँगी।

मैं चाहती हूं कि वह हमारी गलतियां ना दोहराए। मैं चाहती हूं कि उसे पता चले कि उसकी माँ हर चीज का एक आदर्श अवतार नहीं है, बल्कि एक त्रुटिपूर्ण इंसान है जिसने उम्मीद नहीं खोई है। दुनिया में किसी भी चीज़ से ज्यादा, मैं चाहती हूं कि मेरी बेटी खुद से प्यार करे, जैसी वह है उस रूप में। 

ढेर सारा प्यार और एक आलिंगन जो मैं हमेशा से तुम्हें देना चाहती हूं लेकिन नहीं दे पा रही, 

आपकी बेटी…

लेखक का नोट: मैं विमेंस वेब को धन्यवाद देना चाहती हूं मुझे कुछ ऐसा करने में मदद करने में जो मेरे थेरपिस्ट मुझसे तीन साल से करवाने की कोशिश कर रहे है – मेरी माँ के बारे में लिखना। 

नोट : ये लेख पहले यहां अंग्रेजी में पब्लिश हुआ और इसका हिंदी अनुवाद मृगया राय ने किया है

मूल चित्र: a still from the short film Methi Ke Laddoo

I asked so many questions that I stopped getting answers. Then I started writing.

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020