कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

क्या आप अभी भी इस शादी को निभाना चाहते हैं?

निधि ने शादी को लेकर क्या सपने सजाए थे। खुद को संभालते हुए उसने अमृत से कहा, "क्या आप इस विवाह बंधन में बंधे रहना चाहते हैं?"

Tags:

निधि ने शादी को लेकर क्या सपने सजाए थे। खुद को संभालते हुए उसने अमृत से कहा, “क्या आप इस विवाह बंधन में बंधे रहना चाहते हैं?”

“निधि दीदी! लड़का देखा मैंने, अच्छा लगा”, स्वीटी ने अपनी बहन से बोला। “और पता है ये लोग दिल्ली के रहने वाले हैं…निधि दीदी आपकी तो ऐश ही ऐश होगी। इतने बड़े शहर में जाओगी।”

निधि की मां ने बोला, “स्वीटी तंग ना कर अपनी बहन को…पहले हां तो होने दे, निधि को पसंद तो कर लें।”

“मेरी दीदी लाखों में एक है क्यूं नहीं आएगी पसंद।”

“अच्छा चल जा मेरी लाडो लड़के वालों के लिए चाय लेकर… और ध्यान से बैठना, ज्यादा बातें नहीं…बस हां ना में सिर हिला देना…”

निधि को मिलते ही घर वालों ने पसंद कर लिया। सभी की सहमति से गाजे-बाजे और धूमधाम से निधि की शादी होती है।

सुहागरात की सेज पर बैठी निधि सुहागरात से जुड़ी हर चीज़ को सोच-सोच कर प्रसन्न हो रही थी। उसका रोम-रोम पुलकित हो रहा था।

अचानक दरवाज़ा बंद करने की आवाज़ से निधि की धड़कनें बढ़ जाती हैं। निधि का पति अमृत उसके काफी करीब आ आता है। निधि अपनी तेज चलती धड़कनों को अच्छे से सुन पा रही थी और अचानक से अमृत तकिया और बेडशीट लेकर वहां से चला जाता है। ये सब इतना जल्दी हुआ कि निधि को कुछ समझ ही नहीं आया।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

मुश्किल से निधि उस रात सो पाई थी। अगले दिन दोनों हनीमून के लिए निकल पड़े। दोनों के बीच बस औपचारिक बात हो रही थी। निधि ने अपनी तरफ़ से कई बार बात करने की कोशिश की पर अमृत बातों से बच कर निकल जाता।

निधि से रहा नहीं जा रहा था। आखिर मेरा कसूर ही क्या है निधि ने सोचा। उसने ठान लिया आज वो बात करके ही रहेगी।

अमृत, निधि के सो जाने के बाद कमरे में आता था। निधि सोने का बहाना कर आज जाग रही थी।

रात होते ही अमृत कमरे में आता है।

“मेरी गलती क्या है, अमृत?”

निधि की आवाज़ सुन अमृत चौंक जाता है, “तुम सोई नहीं अभी तक?”

“नींद तो मेरी कितने दिनों से गायब है, अमृत। मैंने ऐसी क्या गलती कर दी जो आप मुझसे दूर रहते हैं।”

“इसमें तुम्हारी कोई गलती नहीं है। अपराधी तो मैं हूं”, कहते हुए अमृत चुप हो गया।

“ऐसा क्या हुआ है अमृत आप मुझे तो बताइए। हो सकता है मैं आपकी मदद कर सकूं।”

“कोई मेरी मदद नहीं कर सकता, निधि…”

“मुझ पर विश्वास करें, अमृत…”

“तो सुनो निधि एक कड़वा सच। मुझे महिलाओं में नहीं पुरुषों में रूचि है। माफ़ करना मैं तुम्हें ये सच ना बता पाया। मैं कायर था मुझमें हिम्मत नहीं थी समाज का सामना करने की।”

निधि को धक्का लगा। उसने शादी को लेकर क्या सपने सजाए थे। खुद को संभालते हुए उसने अमृत से कहा, “क्या आप इस विवाह बंधन में बंधे रहना चाहते हैं?”

“बिल्कुल निधि मैं तुम्हारा साथ चाहता हूं। तुमने जिस संयम के साथ मेरा साथ दिया उसके लिए मैं तुम्हारा त्रृणी हूं…”

“अमृत ये आपकी कोई बिमारी नहीं जिसे आप छुपा रहे हैं। हमें परिवार वालों से बात करनी होगी।  उन्हें आपको समझना होगा और आप तनिक भी परेशान ना हों। मैं अब आपके साथ हूं हर कदम पर।”

निधि और अमृत ने दूसरे दिन अपने-अपने माता-पिता से इस विषय पर बात की। सभी अमृत को समझाने में लगे थे। अमृत की मां ने तो किसी बाबा से झाड़-फूंक कर ठीक कराने की बात कही…

निधि ने सभी को बड़े ही प्यार से समझाया, “ये कोई बिमारी नहीं या भूत प्रेत का साया नहीं जो झाड़-फूंक से जाएगा। जब हम ही उनको नहीं समझेंगे, तो बाहर वालों को तो मौका मिलेगा उंगली उठाने का। आप सभी इनके मित्र बनें शत्रु नहीं। आप सभी का साथ मिलेगा, तो इनका खोया आत्मविश्वास भी वापस आएगा।”

निधि के सास-ससुर और माता-पिता को आज निधि पर गर्व हो रहा था। अमृत ने निधि को कहा, “धन्यवाद मुझे समझने के लिए और मेरा सबसे अच्छा दोस्त, शुभचिंतक और हमदर्द बनने के लिए।”

ऑथर रश्मि शुक्ला की अन्य पोस्ट्स पढ़ें यहां और ऐसी अन्य कहानियां पढ़ें यहां

मूल चित्र : Still from MensXp Web Series, YouTube

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

73 Posts | 367,838 Views
All Categories