कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

क्या सर से पाँव तक ढकी औरतों के बलात्कार नहीं होते?

Posted: अप्रैल 7, 2021

मेरा महोदय से सिर्फ एक सवाल है, ये कैसे तय होता है कि क्या अश्लील है और क्या नहीं? क्या किसी तरह की विशिष्ट रिसर्च में ऐसा कहा गया है?

ट्रिगर वार्निंग: इस लेख में यौन उत्पीड़न/बलात्कार का ज़िक्र है और सभी पाठकों के लिए उपयुक्त नहीं है। 

हाल ही में पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने जनता के साथ दो घंटे लंबे प्रश्न-उत्तर सत्र का आयोजन किया। इसमें एक कॉलर ने दो प्रश्न किये:

सरकार ने बलात्कार और बाल शोषण को रोकने के लिए क्या कदम उठाए हैं, और क्या आप उनसे संतुष्ट हैं?

चूंकि आप मदीना राज्य की बात कर रहे हैं, तो सरकार बलात्कारियों को सार्वजनिक रूप से फांसी क्यों नहीं देती?

प्रधानमंत्री ने सटीक ज़वाब देने के बज़ाय एक अलग दिशा में यह कहते हुए शुरुआत की कि इस मुद्दे से उन्हें बहुत पीड़ा होती है। वास्तव में पाकिस्तान में अखबारों में बच्चों और महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों का 1% भी रिपोर्ट नहीं होते हैं। हमारे समाज में बलात्कार हमेशा से मौजूद है, लेकिन लोग शर्मिंदगी की वज़ह से इसके बारे में पहले बात नहीं करते थे, लेकिन अब, अधिक लोग इसके बारे में बात कर रहे हैं।

प्रधान मंत्री ने कहा, “मैं कहना चाहता हूं कि जैसे भ्रष्टाचार कानून बनाने से नहीं मिटता है, ठीक वैसे ही बलात्कार के मामलों के साथ है। हमने बलात्कार और बाल शोषण पर कानून बहुत सख्त बना दिया है, लेकिन समाज को मिलकर इसका मुकाबला करना चाहिए। समाज को यह तय करना है कि ये अपराध समाज के विनाश के लिए (बराबर) है।”

प्रधानमंत्री इमरान खान के इस विचार से मैं बिलकुल सहमत हूँ। लेकिन आगे जो उन्होंने कहा उससे साफ़ प्रतीत होता है कि विक्टिम ब्लेमिंग से हमारी लड़ाई लम्बी है।

कैसे तय होता है कि क्या अश्लील है और क्या नहीं?

आगे इमरान खान ने बलात्कार और यौन शोषण के बढ़ते मामलों को “अश्लीलता” से जोड़ा।

तो सबसे पहले ये कैसे तय होता है कि क्या अश्लील है और क्या नहीं? और ये कैसे बलात्कार का सिर्फ एक कारण है? क्या यह किसी तरह की स्पेशल रिसर्च करके कहा जाता है? मेरी नज़र में यह तो अश्लीलता का आरोप लगाकर बलात्कारी से जुर्म हटाना है।

आगे उन्होंने कहा, “अगर आप अश्लीलता करते हैं, तो इसका हमारे समाज पर कुछ प्रभाव पड़ेगा। हर किसी में प्रलोभन का विरोध करने की इच्छाशक्ति नहीं होती है। यही कारण है कि पर्दा सिस्टम इतना महत्वपूर्ण है।”

तो क्या औरत के शरीर पर कपड़ों की परतें बलात्कार रोकने के लिए काफी हैं?

बिलकुल भी नहीं!

इससे लग रहा है कि महिलाओं की सुरक्षा का बोझ उन पर ही है। लेकिन समस्या उन महिलाओं और बच्चों में नहीं है, जिनके साथ दुर्व्यवहार और उत्पीड़न होता है, न ही यह उनके कपड़ों में है – यह बलात्कारियों और दुर्व्यवहार करने वालों और उनकी मानसिकता में है।

औरतों को पर्दे में रखने की जगह पुरुषों को शिक्षित करना चाहिए

अगर पुरुषों में कंट्रोल नहीं है तो बेशक उनके लिए ऐसी रिहैबिलिटेशन थेरेपी शुरू किये जाने चाहिए जो इतने बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं कि वे हिंसा का सहारा लेते हैं? औरतों को पर्दे में रखने की जगह पुरुषों को शिक्षित करना चाहिए।

इमरान खान ने आगे कहा कि जब वह क्रिकेट खेलने के लिए 70 के दशक के दौरान ब्रिटेन गए थे, तो ‘सेक्स, ड्रग्स और रॉक एन रोल’ संस्कृति बंद हो रही थी, जिसका सीधा असर उनके परिवारों पर पड़ा है। उन्होंने कहा कि आजकल तलाक की दर ‘उस समाज में अश्लीलता के कारण 70 प्रतिशत से अधिक हो गई है।’

मेरी नज़र में तलाक़ दर में वृद्धि होना गलत नहीं है। एक ज़बरदस्ती के रिश्ते में रहने से अच्छा अलग होना है। इसीलिए हमें तलाक़ के केसेस पर चिंता व्यक्त करने की बजाय असल मुद्दों पर चिंता व्यक्त करनी चाहिए।

अगर आज भी लोग ऐसी सोच रखते हैं तो सबसे पहले उन्हें समझने की ज़रूरत है कि आखिर बलात्कार है क्या और औरतों, बच्चों और पुरुषों, जी हाँ पुरुषों, पर इस हिंसा का असर किस प्रकार होता है।

यह बात बिलकुल सत्य है कि बलात्कार हर किसी की समस्या है और यह कानून पर्याप्त नहीं है, हम सभी को मिलकर इसका मुकाबला करना चाहिए लेकिन एक महत्वपूर्ण मुद्दे पर इस तरह के विचार व्यक्त करना किस और इशारा कर रहा है।

ऑथर शगुन मंगल के अन्य लेख पढ़ें यहां और ऐसे ही और लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

मूल चित्र : dawn.com, AFP/ File

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020