कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

आशा, वहीदा और हेलेन की दोस्ती देख मैंने खुद से एक वादा किया

Posted: अप्रैल 15, 2021
Tags:

आशा, वहीदा और हेलेन की दोस्ती देख कर मैंने खुद से एक वादा किया, चाहे जो भी हो जाए मैं अपनी दोस्ती को कभी पीछे नहीं छोडूंगी।

शादी के बाद एक औरत के जीवन में उसका पति और परिवार सबसे अहम हो जाता है। उसकी प्राथमिकताएं बदल जाती हैं। अपने से ज़्यादा वो अपने परिवार की चिंता करने लगती है लेकिन ख़्याल रखते-रखते वह कभी-कभी ख़ुद को खो देती है।

ऐसा तो नहीं है कि आपका परिवार आपको पूरी तरह समझता होगा, या आपके बच्चे आराम से बैठकर आपकी सारी बात सुनते होंगे। इसीलिए ज़िंदगी में दोस्तों का होना बहुत ज़रूरी है। मैं भाग्यशाली हूं कि मेरे बचपन से अब तक के सफर में जो चंद अच्छी सहेलियां बनीं मेरा उनसे अभी तक संपर्क है और जब भी हमें मिलने का मौका मिलता है हम ज़रूर मिलते हैं।

सोशल मीडिया पर ऊंगलियां टकटकाते हुए मुझे ऐसी ही तीन सहेलियों की बहुत ही प्यारी तस्वीर दिखी। ये सहेलियां है पुराने ज़माने की मशहूर अभिनेत्रियां, आशा पारेख (78 years), वहीदा रहमान (83 वर्ष) और हेलेन (82 वर्ष)।

इनकी तस्वीर देखकर मेरी कई पुरानी यादें भी ताज़ा हो गई। ये तीनों ओल्ड एज दीवाज़ एक साथ अंडमान में छुट्टियां मना रही हैं। हिंदी सिनेमा के 50 के दशक में इन तीनों अभिनेत्रियों का जलवा था। जहां एक तरफ़ वहीदा रहमान और आशा पारेख फेमस लीडिंग एक्ट्रेस थीं वहीं हेलेन के आइटम नंबर के लोग आज भी दीवाने हैं। इनकी दोस्ती दशकों पुरानी है और अक्सर इन्हें साथ देखा जाता है।

कुछ दिनों पहले ये तीनों एक टीवी रियलिटी शो डांस दीवाने में साथ नज़र आई थी। यहां इन्होंने अपनी दोस्ती के कुछ पुराने किस्से सुनाएं।

इससे पहले भी कई बार इन तीनों अभिनेत्रियों ने कई शो में एक साथ शिरकत की है। हम कई बार सुनते हैं सिनेमा में अभिनेत्रियां एक दूसरे की दोस्त नहीं होती लेकिन इन्हें देखकर लगता है जैसे सच्ची दोस्ती किसी की सफलता और असफलता की मोहताज नहीं होती।

औरत की सबसे अच्छी दोस्त औरत होती है

एक बात है जो मुझे कई बार खटकती है कि औरत, औरत की सबसे बड़ी दुश्मन होती है। लेकिन क्यों हम ऐसा नहीं कहते की औरत ही औरत की सबसे पक्की दोस्त भी हो सकती है। मैं चाहती हूं हर औरत, औरत को समझे क्योंकि तभी तो समाज में मिलकर हम आगे बढ़ पाएंगे। एक अच्छी सहेली आपकी सारी परेशानियों का हल होती है जिससे आप दिल खोलकर सारी बातें कर सकते हैं।

बस ये तस्वीर देखकर अच्छा लगा तो सोचा साझा कर लूं

मेरी प्यारी सहेली तू दूर सही पर दिल के पास है

तू कैसे समझ लेती है कि मेरा मन उदास है

मेरे अपने भी जब मुझे समझ नहीं पाते

तब तू ही मुझे याद आती है!

तू मेरी वो ताक़त है जो मुझे संभाल लेती है!

मूल चित्र : Stills from Dance Deewane, YouTube

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020