कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

कबीर सिंह की वनिता खरात के न्यूड फोटोशूट में है एक ख़ास संदेश

Posted: जनवरी 6, 2021

न्यूड तस्वीर के साथ है वनिता खरात का ख़ास मैसेज, “मुझे अपने टैलेंट, पैशन, कॉन्फिडेंस पे गर्व है, मुझे अपने शरीर पे गर्व है क्यूंकि मैं मैं हूँ!”

कबीर सिंह मूवी तो आप दर्शकों को याद ही होगी और उसमें कबीर सिंह की मेड का रोल करने वाली पुष्पा (वनिता खरात) जिनका रोल तो बहुत छोटा था लेकिन दर्शकों को बेहद पसंद आया था। विनीता जो कि एक मराठी कलाकार हैं, उनकी एक तस्वीर इन दिनों इंस्टाग्राम पे बेहद चर्चा में है।  कारण है बॉडी पॉसिटिविटी पे दिया उनका कैप्शन और विनीता की बोल्ड अवतार में डाली गई उनकी तस्वीर।

इस तस्वीर में वनिता खरात बिना कपड़ों के है और उन्होंने अपनी बॉडी सिर्फ पतंग से ढकी है। इसके साथ ही उनका एक पॉजिटिव मैसेज, “मुझे अपने टैलेंट, अपने पैशन अपने कॉन्फिडेंस पे गर्व है, मुझे अपने शरीर पे गर्व है…क्यूंकि मैं मैं हूँ…!” इसके साथ वनिता खरात ने अपील की है कि आइये मेरे साथ बॉडी पॉसिटिविटी मूवमेंट में जुड़ते हैं।

तस्वीर देखते मेरे ज़ेहन में पहला सवाल

ये तस्वीर देखते मेरे ज़हन में पहला सवाल ये आया कि क्या सेलिब्रिटी भी बॉडी शेमिंग के शिकार होते हैं? इसका ज़वाब यक़ीनन हां ही होगा तभी तो वनिता जैसी सेलिब्रिटी को ये स्टेप उठाना पड़ा।  आगे बढ़ने से पहले ये जानना जरुरी है कि ये बॉडी शेमिंग है क्या और आज के समय में ये इतना बड़ा मुद्दा क्यों है? साथ ही बॉलीवुड या टीवी इंडस्ट्री की वे कौन कौन महिला कलाकार है जिन्होंने बॉडी शमिंग का सामना किया और इसके खिलाफ अपनी आवाज़ भी उठाई।

किसी भी इंसान की शारीरिक बनावट या रंग के लिये उसपे तंज कसना या उसका मज़ाक उड़ान बॉडी शेमिंग होता है। मोटापा आज कल आम बात है साथ ही कई बार कुछ मेडिकल कम्प्लीकेशन की वज़ह से भी मोटापा होता है तो कई बार जेनिटिकल प्रॉब्लम भी वजह होती है।

शारीरिक मापदंड सफलता के सूचक है ना कि टैलेंट

मोटापा कोई नई बात नहीं है पहले की फिल्मों की हीरोइने भी बहुत स्लिम नहीं होती थी लेकिन आज कल फिल्मों और मॉडलिंग में सिर्फ और सिर्फ पतली और गोरी लड़कियों को ही दिखाया जाना कहीं ना कहीं बॉडी शेमिंग जैसे मुद्दे को बढ़ावा देता है। मुझे लगता है ये एक गलत मैसेज है जो फिल्मों से समाज की ओर जाता है क्यूंकि हम ये नहीं भूल सकते की फिल्मो और हमारे समाज का साथ बहुत पुराना है और फिल्मों में जो दिखया जाता है उसका गहरा असर हमारे समाज पे पड़ता है। क्या गोरी, पतली और लम्बी लड़कियाँ ही सफल होगीं या क्या आज के युग में क्या यही शारीरिक मापदंड सफलता के सूचक है ना कि टैलेंट? ये सवाल कई युवा लड़कियों के साथ मेरे ज़हन में भी आता है।

विद्या बालन का वज़न की बना था एक मुद्दा

पिछले कुछ समय में कई महिला कलाकारों ने इस मिथ को तोड़ने का प्रयास भी किया और कुछ हद तक सफल भी रही जैसे बहुत ही प्रसिद्ध महिला कलाकार विद्या बालन को ही ले लें। विद्या बेहद उम्दा कलाकार हैं और मेरी पसंदीदा भी लेकिन अपने वजन को ले कर हमेशा मीडिया और दर्शकों के एक ख़ास वर्ग के निशाने पे रही है। विद्या के अनुसार फ़िल्म इंडस्ट्री एक ऐसी जगह है जहाँ छरहरी काया की लड़कियों को खूबसूरत माना जाता है। काफ़ी प्रयास के बाद भी जब विद्या का वजन कम नहीं हुआ तब एक मोड़ पे खुद से नफरत करने लगी थी विद्या। मुझे विद्या की बातें जान ये कतई विश्वास नहीं होता की क्या एक कलाकार के लिये उसकी कला से ज्यादा उसका शारीरिक बनावट मायने रखता है, लेकिन दुर्भाग्य से ये आज की सच्चाई है।

मिस वर्ल्ड ऐश्वर्या राय भी बॉडी शेमिंग का शिकार

आम लड़कियों की बात मैं क्या करू जब मिस वर्ल्ड ऐश्वर्या राय को भी एक समय में बॉडी शेमिंग का शिकार होना पड़ा और बेहद अफ़सोस की बात ये है की वो भी एक ऐसे समय में जब वो माँ बनने वाली थीं। ऐसी अवस्था में बॉडी शेमिंग का शिकार होना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। हम कैसे भूल सकते हैं कि ऐश्वर्या सिर्फ बॉलीवुड कलाकार या मिस वर्ल्ड नहीं एक महिला भी हैं।

ज़रीन खान, सोनक्षी सिन्हा, प्रियंका चोपड़ा भी हैं इस लिस्ट में शामिल

इसी कड़ी में मैं आगे जिक्र करुँगी जरीन खान का। जरीन को फिल्मो में ज्यादा सफलता तो नहीं मिली लेकिन अपने वजन को ले कर वो लगातार ट्रोल होती रही है जिस पर चुप बैठने की बजाय जरीन ने ट्रोलर्स को अपने जबरदस्त ज़वाब से चुप भी करवा दिया है। जरीन साफ कहती है मैं ऐसी ही हूँ और मुझे खुद पे गर्व है। मेरे शारीरिक ढांचा ही ऐसा है और वो नेगेटिव लोग होते है जो बॉडी शेमिंग करते हैं।

बॉडी शेमिंग को सोनाक्षी सिन्हा ने अपने कॅरियर के शुरुआत से देखा और सहा भी है। कड़ी मेहनत से स्टारडम पाने वाली सोनाक्षी को हमेशा उनकी एक्टिंग नहीं उनके बॉडी वेट के लिये लोगों द्वारा जज किया जाता रहा है।

बॉडी शेमिंग जैसी मानसिकता की शिकार महिला कलाकरो की लिस्ट लम्बी है इसमें मिस वर्ल्ड प्रियंका चोपड़ा भी शामिल है जिन्हें बेहद कम उम्र में अपने रंग को ले कर ट्रोल का शिकार होना पड़ा। प्रियंका एक बेहद मजबूत इरादों वाली लड़की है जो ट्रोल हो कर भी रुकी नहीं बल्कि मिस वर्ल्ड का ख़िताब जीत सबका मुँह बंद कर दिया। साथ ही प्रियंका आज की युवा लड़कियों को प्रोत्साहित करते हुए मैसेज देती हैं कि “अपनी प्रतिभा को पहचाने और सारी नेगेटिव बातों को एक दूर कर दें, उन्ही चीज़ो पे फोकस करें जो आपको सफलता दिलाये।”

बॉडी शेमिंग के मामले टीवी इंडस्ट्री में भी

बॉडी शेमिंग के मामले सिर्फ बॉलीवुड में नहीं टीवी इंडस्ट्री में भी देखने को मिलते रहे है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण भारती सिंह है। प्रसिद्ध कॉमेडियन भारती अपने वजन को ले कर काफ़ी ट्रोल हुई हैं लेकिन उनके जज्बे को मेरा सलाम है की अपने वजन का खुद मज़ाक उड़ा ना सिर्फ उन्होंने ट्रोल्स का मुँह बंद किया बल्कि कॉमेडी में बड़े बड़े स्थापित पुरुष कलाकारों को भी टक्कर दी।

“मैं जैसी हूँ वैसी रहूंगी आपको देखना है आप देखो नहीं देखना है मत देखो।” सोनाक्षी का ये स्टेटमेंट कहीं ना कहीं ये दर्शाता है की आम लड़कियों के साथ बड़े सेलेब्रिटी भी बॉडी शेमिंग जैसे मानसिकता का शिकार होते रहे हैं। साथ ही मैं ये भी जरुर बताना चाहूंगी कि ट्रोल हो कर भी ये सेलिब्रिटी कलाकार घर में बैठी नहीं, ना ही डरी और ना ही रोई बल्कि बेबाकी से और स्पष्ट रूप से उन ट्रोलर्स को ज़वाब भी दिया है। ये आज की पीढ़ी के लिये ख़ास कर उन लड़कियों के लिये जो ऐसी परिस्थिति का सामना करती है एक बड़ा उदाहरण है की ऐसे ट्रोलर्स का सामना डट कर करें ना की डर कर।

सीरत से प्यार करें ना कि सूरत से

बहुत दुखद है ये कि आज की प्रोगेसिव सोसाइटी में ऐसे सोच के लोग भी है जो महिलाओं को उनके रंग, कद और शारीरिक बनावट से आंकते हैं ना कि उनकी प्रतिभा से। साथ ही मुझे बेहद गर्व भी है की आज वनिता खरात, विद्या, जरीन जैसी महिलाये भी है जो ना सिर्फ बॉडी पॉसिटिविटी मूवमेंट से जुड़ती हैं, बल्कि सामने आ कर बॉडी शेमिंग जैसे मुद्दों पे अपनी राय रख ट्रोलर्स को करारा ज़वाब भी देती हैं।

अंत में यही कहूँगी कि अगर प्यार करना है तो किसी की सीरत से करें ना कि किसी की सूरत से।  आज के समय में नये जनरेशन को ये समझना बहुत जरुरी है कि प्रतिभा किसी भी मापदंड की मोहताज नहीं होती. आज बहुत जरुरी है समाज में बॉडी पॉसिटिविटी पे जागरूक होना और खुल के अपनी राय देना वर्ना वनिता जैसी सेलिब्रिटी कलाकार को इस तरह के फोटोशूट का सहारा लेना पड़ता रहेगा बहरे समाज तक अपनी आवाज़ पहुँचाने के लिये।

मूल चित्र : Vanita Kharat, Instagram 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020