कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मेरे अस्तित्व की यह परिभाषा

Posted: जनवरी 12, 2021

हर घर की मैं मुस्कान हूँ , शान हूँ। मेरे सहनशक्ति व त्यागमयी ममता मेरी ढाल हैं। कमजोर न समझना मेरा अस्तित्व चट्टान की तरह विशाल हैं।

नर अगर शब्द हैं
तो नारी पूरी भाषा हैं
मेरे अस्तित्व की यह पूरी परिभाषा है
माँ -बेटी, बहु-बहन से पहले मैं एक औरत हूँ।
सीता भी मैं हूँ , दुर्गा भी मैं हूँ
अबला नहीं मैं सिंह की दहाड़ हूँ
जननी हूँ , बेइंतहा बेमिसाल हूँ
मेरे अस्तित्व से यह कायनात हसीन है।
हर घर की मैं मुस्कान हूँ , शान हूँ
मेरे सहनशक्ति व त्यागमयी ममता मेरी ढाल हैं
कमजोर न समझना मेरा अस्तित्व चट्टान की तरह विशाल हैं।

मूल चित्र: Bulbul Ahmed via Unsplash 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020