कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

देखते-देखते ना जाने मैं कहाँ खो गयी?

आज दर्पण में खुद को देखते-देखते ना जाने मैं कहाँ खो गयी। चाँद की चाँदनी को देखते-देखते ना जाने मैं कहाँ खो गयी। 

आज दर्पण में खुद को देखते-देखते ना जाने मैं कहाँ खो गयी। चाँद की चाँदनी को देखते-देखते ना जाने मैं कहाँ खो गयी। 

रीति-रिवाज़ों और मर्यादाओं के बीच ना जाने मैं कहाँ खो गयी
हर किसी की ख़ुशी की परवाह करते-करते ना जाने मैं कहाँ खो गयी
आज दर्पण में खुद को देखते-देखते ना जाने मैं कहाँ खो गयी
चाँद की चाँदनी को देखते-देखते ना जाने मैं कहाँ खो गयी
दिल की ख्वाहिश थी कुछ और
पर समय की धारा में मैं ना जाने कहाँ खो गयी
मंज़िल तय की थी कुछ और
पर जीवन के बहाव में मैं ना जाने कहाँ खो गयी। 

मूल चित्र: Surya Deepak via Unsplash 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

45 Posts | 235,218 Views
All Categories