कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

क्यों माँगता है यह समाज औरत से प्रमाण पत्र?

जब लगी पुकारने उन समाज के ठेकेदारों को, तो लेकर लेखा जोखा उसके आज़ाद खयालों का, तो करने लगा हिसाब समाज उसके फटे चीथड़ों का।

जब लगी पुकारने उन समाज के ठेकेदारों को, तो लेकर लेखा जोखा उसके आज़ाद खयालों का, तो करने लगा हिसाब समाज उसके फटे चीथड़ों का।

धिक्कार है! हाँ हाँ! धिक्कार है!
उसकी लुटी अस्मत का भी
मांगता प्रमाण पत्र ये संसार है।

करती रही सवाल उन अपनों की झुकी नज़रों से
मेरा क्या कसूर क्यों भेद रहा हर कोई मुझे सवालिया नज़रों से?

समेट अपने बुत शरीर और पीकर सूखे आंसुओं को
जब लगी पुकारने उन समाज के ठेकेदारों को,
तो लेकर लेखा जोखा उसके आज़ाद खयालों का
करने लगा हिसाब समाज उसके फटे चीथड़ों का,
धिक्कार है उस विधि विधान पर
जो दरिंदों के कुकर्म का मांगता है अबला नारी से प्रमाण पत्र।

मूल चित्र: R.D. Smith via Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

टिप्पणी

About the Author

Ruby Jain

Hi I'm Ruby Jain, married with two grown up kids, I'm an experienced primary teacher, love to cook, dance and sometimes paint, currently enjoying my writing passion, women's web is an amazing read more...

4 Posts | 90,481 Views
All Categories