कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मेरा सीरियल देखना आपको टाइम ख़राब करना क्यूँ लगता है?

स्टारप्लस के अनुपमा, इमली, साथ निभाना साथिया, कलर्स का बैरिस्टर बाबू आदि कई महिला प्रधान सीरियल मुझे तो बेहद पसंद हैं।

स्टारप्लस के अनुपमा, इमली, साथ निभाना साथिया, कलर्स का बैरिस्टर बाबू आदि कई महिला प्रधान सीरियल मुझे तो बेहद पसंद हैं।

“सुनो, तुम्हारा न्यूज़ हो गया हो तो ज़रा स्टार प्लस लगाना मेरे अनुपमा सीरियल का समय होने वाला है।”

“एक बात बताओं ये तुम औरतें देखती क्या हो इन सास बहु के सीरियल में। वही रोज़ रोज़ के ड्रामे, अरे भाई, न्यूज़ देखो, डिस्कवरी चैनल देखो। इन सास बहु के सीरियल में क्या रखा है?”

अपने पति रंजन की बात सुन रीमा मुस्कुरा उठी और बोली, “आप न्यूज़ देखते हैं दुनिया का हाल जानने के लिए और हम औरतें सीरियल देखती हैं अन्य औरतों के विचार जानने के लिए।”

“और वो कैसे?” पति ने पूछा।

“कोविड-19 महामारी के काल में जब सामाजिक दूरी के साथ-साथ हमें कई तरह के उथल-पुथल का भी सामना करना पड़ा तो टेलीविज़न इंडस्ट्री भी इससे अछूती नहीं है। लॉकडाउन में ढील मिलते ही कई महिला प्रधान सीरियल टीवी पे आये जिनमें कुछ तो मुझे बेहद पसंद हैं। हम महिलाएँ तो हमेशा से ही इन सीरियलों को देखना पसंद करती थीं लेकिन महामारी के इस दौर में तो ये हमारे जीवन का हिस्सा ही बन गया है।”

अब जैसे अनुपमा सीरियल की ही बात ले लो, राजन शाही और दीपा शाही के क्रुट प्रोडक्शन तले बना अनुपमा सीरियल जो की स्टारप्लस पे हर सोमवार से शुक्रवार रात दस बजे आता है। इस सीरियल की ख़ासियत है – इसकी कहानी जो एक आम भारतीय औरत की है जिसका दायरा सिर्फ उसका घर परिवार है। उसके लिये उसका पति ही सब कुछ है।

वो एक ऐसी घरेलु महिला है जो किसी भी छोटे बड़े निर्णय के लिये अपने पति का ही रुख करती है। देखने में तो ये बेहद साधारण भारतीय महिला का किरदार ही लगता है लेकिन जब उसे अपने पति के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर् का पता चला तो वो टूटती नहीं बल्कि दुगनी मज़बूती से अपने लिये खड़ी होती है। रुपाली गाँगुली की दमदार एक्टिंग ने तो हम दर्शकों ऐसा बाँधा है जैसे हर महिला ही खुद में एक अनुपमा बन गई है। अब बताओ क्या अनुपमा कई ऐसी महिलाओं की प्रेरणास्रोत नहीं जो अनुपमा जैसे हालत से ही गुजर रही है?

Never miss real stories from India's women.

Register Now

https://youtu.be/xopKKfwPmVs

“वाह रीमा, तुम्हारी बातें सुन तो मुझे और भी सीरियल के बारे में जानने की दिलचस्पी बढ़ गई है।” रीमा के पति ने कहा।

गोपी बहु की छवि हर उस लड़की की छवि है

“इसी तरह स्टारप्लस पे हर सोमवार से शुक्रवार रात 9 बजे आने वाला सीरियल साथ निभाना साथिया 2 की ही बात ले लो। इसका पहला पार्ट अपने समय का एक बेहद हिट सीरियल रहा है और इस साल इसका सेकंड पार्ट स्टार प्लस पे प्रसारित हो रहा है। देवोलिना बनर्जी ने गोपी बहु का किरदार दोनों ही पार्ट में बखूबी निभाया है। एक अनाथ और अनपढ़ लड़की की शादी एक बेहद आधुनिक और बड़े खानदान में होती है और वो अपने व्यवहार से सबका दिल जीत लेती है। साथ ही वह अपने पति के भी दिल पे राज करने लगती है। गोपी बहु की छवि हर उस लड़की की छवि है जिन्होंने अपनी शादी में अपने पति और ससुराल में अपने वर्चस्व के लिये संघर्ष किया है।” रीमा ने बताया।

https://youtu.be/vzqWlsqkFKg

सीरियल बैरिस्टर बाबू एक प्रेरक कहानी है

“इसी कड़ी में आगे है सीरियल बैरिस्टर बाबू। यह कहानी है एक छोटी सी बच्ची की जो बाल विवाह जैसी सामाजिक कुरीति से गुजरती भी है और लड़ती भी है। कलर्स चैनल पे हर सोमवार से शुक्रवार रात 08.30 बजे आने वाला ये सीरियल बैरिस्टर बाबू, उस दौर की प्रेरक कहानी है जब समाज पुराने विचारों के बोझ से दबा था और हमारे देश में औरतों पर कई पाबंदियाँ थीं। ऐसे में बंदिता, एक मात्र आठ साल की बच्ची, उसकी शादी एक साठ साल के बूढ़े से तय हो जाती है लेकिन किसी तरह ये शादी रुक जाती है। कहानी अलग मोड़ लेती है और अनिरुद्ध बंदिता का हाथ थामता है। अनिरुद्ध का साथ पा बंदिता अपने सपनों को पूरा करने में जुट जाती है।

इमली सीरियल बहुत ही दिलचस्प है

“इन सब में मैं इमली सीरियल का जिक्र करना तो भूल ही गई। स्टारप्लस पे सोमवार से शुक्रवार शाम को 08.30 पे आने वाला ये शो बहुत ही दिलचस्प है। यह कहानी एक गाँव की साधारण सी दिखने वाली लड़की जिसकी सोच असाधारण है और जो अपने गाँव के लोगो को पढ़ने और जीवन में बढ़ने का सपना देखती है। अपनी हाज़िरजवाबी से सबकी बोलती बंद करने वाली इमली की शादी के शहरी लड़के से हो जाती है जो पहले से शादीशुदा है। अब देखना दिलचस्प होगा कि कैसे इमली अपने जीवन में संघर्षो का सामना कर अपने सपने पूरे करती है।”

https://www.youtube.com/watch?v=ixF42mOmLPo

“ऐसे और भी कई सीरियल है जिन्होंने ना सिर्फ महिला मुद्दों को सामने रखा है बल्कि महिलाओं के विचारों को और उनकी भावनाओं को भी खुल के समाज के सामने रखा है।” रीमा ने आगे कहा।

“तुम सही कह रही हो रीमा, ये टीवी सीरियल की दुनियां सिर्फ सतरंगी ही नहीं बल्कि महिलाओं के ज्वलंत मुद्दों को सामने रखने का एक सशक्त ज़रिया भी है। साथ ही साथ यह मेरे जैसे कई पुरुषों के लिये एक अच्छी सीख भी है क्योंकि महिलाओं की जिन छोटी बातों पर हम कभी गौर भी नहीं करते वो एक महिला के लिये कितनी महत्वपूर्ण हो सकती हैं। आज से तो मेरा नज़रिया भी इन महिला प्रधान सीरियल की तरफ बदल गया रीमा।” रीमा के पति ने बोला।

मूल चित्र : Screenshots from YouTube

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

174 Posts | 3,858,085 Views
All Categories