कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

अपने अस्तित्व का प्रमाण

बार बार वार करता है उसकी मासूमियत पर कभी गालों पर तो कभी हाथों पर कभी चेहरे पर तो कभी आँखों पर इंसान नहीं सामान समझ वो खुद को समझे भाग्यविधाता।

बार बार वार करता है उसकी मासूमियत पर कभी गालों पर तो कभी हाथों पर कभी चेहरे पर तो कभी आँखों पर इंसान नहीं सामान समझ वो खुद को समझे भाग्यविधाता।

आज फिर से उसकी आँखों में नमी है
आज फिर वो खुद के लिए अजनबी है
प्रतिदिन प्रतिपल मिटा रही थी जिसके लिए
उसको आज तक उसकी फ़िक्र नहीं है।

बार बार वार करता है उसकी मासूमियत पर
कभी गालों पर तो कभी हाथों पर
कभी चेहरे पर तो कभी आँखों पर
इंसान नहीं सामान समझ
वो खुद को समझे भाग्यविधाता।

पहली बार हुआ है पलट वार
हज़ारों बार टूटकर भी जोड़ा था,
खुद को जिसने
आज करते ही उसके पलटवार
दुनिया उसकी हिल जाती है।

आँखों के सामने से उसके अहम की पट्टी हट जाती है
ये अबला नहीं सबला निकली
ये देख उसकी घिग्घी बंध जाती है
एक बार के विरोध से ही
उसको अपने अस्तित्व की असलियत पता चल जाती है।

जिसे समझता था पैर की जूती
उसके इस प्रचंड रूप को देख औक़ात उसे अपनी पता चल जाती है
उसका भी अस्तित्व है ये बात उसे समझ आ जाती है।

कर पलटवार दे प्रमाण उसने अपने अस्तित्व का
दिया हिला उसकी अहम की दुनिया।

मूल चित्र: Pradeep Ranjan via Unsplash

Never miss real stories from India's women.

Register Now

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

45 Posts | 235,224 Views
All Categories