कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मोलकी सीरियल अपनी कहानी की वजह से चर्चा का विषय बन चुका है!

Posted: नवम्बर 17, 2020

एक नये अनूठे और बिलकुल अलग विषय पर आधारित है ये बालाजी टेलीफिल्मस का कलर्स चैनल पर 16 नवंबर 2020 से एयर होना वाला सीरियल मोलकी…

मोल से जुड़े रिश्ते की कहानी है कलर्स चैनल के सीरियल मोलक्की यानि मोलकी, जिसे ले कर आ रही है टेलीविज़न के स्टार प्रोडूसर एकता कपूर। एक नये अनूठे और बिलकुल अलग विषय पर आधारित है ये सीरियल  मोलक्की।

बालाजी टेलीफिल्मस के द्वारा निर्मित मोलकी सीरियल की मुख्य भूमिकाओं में हैं प्रियल महाजन, जो कि पूर्वी का किरदार निभा रही हैं और टेलीविज़न के जाने माने कलाकार और अपनी एक्टिंग का लोहा मनवा चुके अमर उपाध्याय, जो कि वीरेंद्र प्रताप सिंह का किरदार निभाते नज़र आने वाले हैं।

अपने अनूठे नाम और नये विषय के कारण ऑनएयर होने से पहले ही ये सीरियल रातों रात चर्चा में आ चूका है। कलर्स चैनल पे 16 नवंबर से हर सोमवार से शुक्रवार रात 10 बजे से शुरु होने वाला ये शो काफ़ी मायनों में दिलचस्प होगा।

मोलकी का अर्थ है मोल। जब किसी लड़की की शादी उसकी मोल दे कर होती है तो उस लड़की को मोलकी कहते हैं। हरियाण और उत्तर प्रदेश में होने वाली ऐसी शादियों की कुप्रथा पे आधारित है ये सीरियल मोलक्की, जिसमें कम उम्र और गरीब घरों की लड़कियों के माता पिता को उनकी लड़की का मोल चूका उसकी शादी उनसे बड़ी और दुगनी उम्र के लड़कों से शादी कर दी जाती है। लिंग अनुपात में होने वाले अंतर भी इस कुप्रथा के जिम्मेदार है जो की समाज का एक कटुसत्य है।

इस सीरियल में भी पूर्वी का किरदार एक आम लड़की की तरह ही हंसमुख और चंचल है। अपनी जिंदगी अपने शर्तों पर जीने वाली पढ़ लिख कर नौकरी देखने का सपना देखने वाली लड़की है।  पहले एपिसोड में ही पूर्वी के साहस का परिचय मिल गया दर्शकों को।

कपड़ा मिल लगने के बाद उसके पिता का हाथ करघा का काम बंद हो जाता है। गरीबी से जूझते अपने परिवार को एक समय अच्छा खाना खिलाने के लिये पूर्वी नदी में कूद पैसे इक्कठे करने से भी नहीं हिचकती। उसी साहसी पूर्वी को उसके लालची पिता उसका मोल ले उसकी शादी उस से उम्र में दुगने एक रौबदार शख्सियत के मालिक और न्यायप्रिय सरपंच वीरेंद्र प्रताप सिंह से कर देते हैं, जिनकी मर्जी के बिना एक पत्ता भी नहीं हिलता। पहले से शादीशुदा वीरेंद्र दो बच्चों के पिता भी है।  पहली पत्नी के मृत्यु के बाद घर वाले चाहते हैं कि उनका दूसरा विवाह हो जाये।

क्या लड़कियों की इस तरह मोल ले उनकी शादी करना उनके साथ अन्याय नहीं है? पढ़ने लिखने की उम्र में लड़कियों की शादी उनसे दुगने उम्र के लड़कों से करना किसी भी दृष्टि से उचित नहीं कहा जा सकता।

चंचल पूर्वी और गंभीर स्वभाव के वीरेंद्र प्रताप के इस बेमेल और मोल से जुड़े रिश्ते का क्या भविष्य होगा ये देखना दिलचस्प होगा। क्या मोड़ लेगा पूर्वी और वीरेंद्र का रिश्ता क्या मोल से बंधे इस रिश्ते में प्यार अपनी जगह बना पायेगा इसके लिये जुड़े रहें मोलक्की/मोलकी सीरियल से।

चित्र साभार : Trailer Screenshot, YouTube

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020