कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

करवा चौथ है आज भी मेरे लिए ख़ास…

ज़िंदगी की उलझनों से ठहरकर फिर याद दिलाना, हम एक दूसरे के लिए बहुत ख़ास, इस दिन के बहाने ही सही, एक बार फिर अपने प्यार को पुलकित करते हैं...

ज़िंदगी की उलझनों से ठहरकर फिर याद दिलाना, हम एक दूसरे के लिए बहुत ख़ास, इस दिन के बहाने ही सही, एक बार फिर अपने प्यार को पुलकित करते हैं…

रोज़ रोज़ कहाँ होता है अब सजना सँवरना
घर की जिम्मदारियों में ही भूल से गए है खुद का ध्यान रखना
पति पत्नी चक्की के दो पाट
चल रहे है अपनी अपनी धुरी में
जिम्मदारियों कर्तव्यों को पूर्ण करने में ख़ास
वर्ष भर चलता है त्योहारों का आना जाना
पर करवाचौथ के रोमांच का तो क्या ही है कहना
ये दिन पति पत्नी के लिए है बहुत ही ख़ास

ज़िंदगी की उलझनों से ठहरकर
फिर एक दूसरे को याद दिलाना,
हम एक दूसरे के लिए भी है बहुत ख़ास
इस दिन के बहाने ही सही
एक बार फिर से अपने प्यार को पुलकित करते है
एक दूसरे के प्रति सम्मान और प्रेम को व्यक्त करते है
इस तरह पति पत्नी अपने रिश्ते को फिर से मज़बूत करते है

दिल में नयी उमंग के साथ
सोलह शृंगार करने का उत्साह
फिर से पिया के लिए सुंदर दिखने की चाह
उसकी लम्बी उम्र के लिए कुछ भी कर जाने की चाह
चाहे अपने सुहाग को सलामत रखने के लिए चलनी पड़े काँटों की राह
बेझिझक कर लेगी वो उसका चुनाव
यही तो है एक सुहागन के मन की कामना
जब तक जीवन रहे उसका सुहाग सदा सलामत रहे!!

मूल चित्र : Visage from Canva Pro 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

45 Posts | 235,207 Views
All Categories