कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

ये कैसी पूजा है? ये कैसी संस्कृति है?

Posted: अक्टूबर 19, 2020

माँ दुर्गा को शक्ति रूपिणी मानते, नारी को तो अबला बोलते। कन्या पूजन करते लेकिन, बेटी को तो नहीं चाहते। फिर ये कैसी पूजा है?

माँ दुर्गा को शक्ति रूपिणी मानते,

नारी को तो अबला बोलते।

कन्या पूजन करते लेकिन,

बेटी को तो नहीं चाहते।

मां काली की पूजा करते,

औरत को तो गोरी चाहते।

धन की देवी लक्ष्मी मानते,

औरत को दौलत का हक नहीं देते।

महिषासुरमर्दिनी की पूजा करते,

महिला को भोग वस्तु समझते।

मां सरस्वती को ज्ञान की देवी मानते,

लड़की को पढ़ाई से मना करते।

ये कैसी पूजा है? ये कैसी संस्कृति है?

मूल चित्र : Sonika Agarwal via Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Home maker at present. Worked as English teacher. My short stories and poems are published

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020