कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

सच : कितना कड़वा?

Posted: अक्टूबर 14, 2020

बचपन की वो बात याद आती है जब हम स्कूल जाते थे तब अध्यापक हमे सच का महत्त्व समझाते थे। लेकिन अब सच के मायने बदल गए हैं। 

सच एक ऐसा शब्द है जो कहने में तो अच्छा लगता है पर क्या सुनने में उतना अच्छा लगता है? ईश्वर ने ये दुनिया बनाई जिसमें पेड़-पौधे, पशु-पक्षी, जीव-जंतु सभी की रचना की और फिर एक खूबसूरत रचना की वो था – इंसान। उसकी रचना करते वक़्त ईश्वर ने सोचा था कि मेरे द्वारा बनाई सभी रचना की देखभाल करेगा इंसान लेकिन क्या सही मायने में इंसान ने उसकी कदर की। शायद नहीं। इंसान तो अपनी सहूलियत को देखते हुए प्रकृति से खिलवाड़ करता गया।  इतने में ही नहीं रुका, इंसान ने तो ऐसा एक दूसरे के साथ भी  भावनात्मक रूप से ही चोट पहुंचाकर शुरू कर दिया। जहां स्वयं का फायदा नजर आया वहीं मुड़ता गया। झूठ का सहारा लेता गया ताकि अपने को बचाता रहे लेकिन उसे यह भी याद रखना रखना चाहिए कि सौ झूठ मिलकर भी एक सच का सामना नहीं कर सकते। सच अपना रास्ता निकाल कर दुनिया के सामने आ ही जाता है।

ना जाने क्यों इंसान इतना स्वार्थी बनता जा रहा है कि किसी दूसरे के दुख-तकलीफ उसकी नजरों में बेबुनियाद या बेमानी से लगते हैं। ईश्वर ने हमारे अंदर सोचने-समझने की इतनी शक्ति प्रदान की है कि हम एक दूसरे के मन के भाव आसानी से पढ़ सकते है परन्तु फिर भी हम स्वंयकेंद्रित हो गए है। यदि किसी के बारे में उसको कोई सच बोलना हो तो हम जज बनकर उसको अपना फैसला सुना देते हैं और वहीं सच अपने बारे में किसी दूसरे के मुंह से सुनना पड़े तो हम एक अच्छे वकील की तरह पैरवी करने लगते हैं। सच बोलना, आज के समय में साहस का काम है। ऐसे बहुत कम लोग रह गए है जो सच से प्यार करते हो। सच सुनकर उसका सामना कर सके।

बचपन की वो बात याद आती है जब हम स्कूल जाते थे तब अध्यापक हमे सच का महत्त्व समझाते थे। कहानियों को सच मानते थे। कोई गलती करते थे तो मां बोलती थी सच-सच बोलना अगर झूठ बोला तो तेरी नाक लंबी हो जाएगी और हम इस डर से मां को सब सच बता देते थे।

जैसे-जैसे समय बीतता गए हम बड़े होते गए। सच के मायने बदल गए। जाना जिंदगी के इस सफर को लोग कैसे तय कर रहे है। सच्चाई आज खुद अपने लिए इंसाफ मांगती हुई नजर आती है। इंसान यह भूल गया है कि सत्य अपने आप में एक अखंड सत्य है। कोई भी त्रुटि तर्क-वितर्क करने से सत्य नहीं बन सकती और ना ही कोई सत्य त्रुटि। कहते है ना इंसान मज़ाक-मज़ाक में सच बोल जाता है।बात सिर्फ इतनी सी है कि सच के लिए सिर्फ दो लोगो की आवश्यकता होती है: एक बोलने के लिए और दूसरा सुनने के लिए। यदि हम सच बोलते हैं तो हमें कुछ याद रखने की जरूरत नहीं होती इसलिए अपने दिल की सुनिए उसे सच पता होता है।

मूल चित्र : Shahzin Shazid via Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020