कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

तब समझना प्रेम पूर्ण और साकार हुआ है…

Posted: अक्टूबर 5, 2020

जब एक के बिना दूसरा अपूर्ण हो जाए, तब समझना इस संसार में सबसे बड़ी जीत हंसिल की है तुमने। तब समझना प्रेम पूर्ण हुआ है!

जब एक की खामोशी दूसरे की बेचैनी बन जाए,
जब एक की नाराज़गी दूसरे की मुस्कान बन जाए,
जब एक का तूफ़ान दूसरे का ठहराव बन जाए,
जब एक की चोट दूसरे का दर्द बन जाए,
जब एक की तमन्ना दूसरे का उद्देश्य बन जाए,
जब एक की आँखों की चमक दूसरे का दिल का सुकून बन जाए,
जब एक की चुप्पी दूसरे के शब्द बन जाए,
जब एक की नज़रें बिन बोले ही दूसरे को सब कह जाए,
जब एक का मक़सद दूसरे की राह बन जाए,
जब एक दूसरे की ख़ुशी में ही खुद की ख़ुशी निहित हो जाए,
जब एक का चेहरा दूसरे का अस्तित्व बन जाए,
जब एक दूसरे की ज़रूरत नहीं आदत बन जाए,
जब एक में दूसरे का प्रतिबिम्ब हो जाए,
जब एक के बिना दूसरा अपूर्ण हो जाए,
तब समझना इस संसार में सबसे बड़ी जीत हंसिल की है तुमने।
तब समझना प्रेम पूर्ण और साकार हुआ है।
तब समझना प्रेम पूर्ण हुआ है!

मूल चित्र : NavdeepSoni via Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020