कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

कल्पना एक प्रेम की…

मैं कल्पना में उसकी तस्वीर साथ रखती हूँ, चलो आज मैं तुम सब से उसकी बात करती हूँ। चलो आज मैं उसे तुम सब पहचान करती हूँ...

मैं कल्पना में उसकी तस्वीर साथ रखती हूँ, चलो आज मैं तुम सब से उसकी बात करती हूँ। चलो आज मैं उसे तुम सब पहचान करती हूँ…

मैं कल्पना में उसकी तस्वीर साथ रखती हूँ,
चलो आज मैं तुम सब से उसकी बात करती हूँ।

रहता नहीं है साथ वो, पर उसे अपने दिल के पास रखती हूँ,
चलो आज मैं उसे तुम सब पहचान करती हूँ।

है लंबा कद में, आंखो में चमक उसकी दिवाकर जैसी,
देखे तो आँख पर धुंध, ना देख तो नमी इन आँखों में है उनकी।

शांत सा स्वरूप है, पहचान रखता है वह अलग,
मिलता नहीं है वह जल्दी किसी से बस रहता है वो सब विलग।

नहीं भूख है उसे नाम की, ना गम है सब खत्म हो जाने का,
जो है उसका, जितना उसका सब पर है एकाधिकार उसका।

सुबह से शाम में उसके साथ करती हूँ,
रहती हूँ दूर उसे नज़रों पर दिल में उसके राज करती हूँ।

मनमोहनी उसकी बाते, दिल को भाए उसकी बस मेरे लिए हीं शरारतें,
कब ना वो मुझे कर पाया है, जो मेरे दिल में हो

Never miss real stories from India's women.

Register Now

बस वो उसके दिल तक बिन कहे जाने पहुंच कैसे पाया है।

भीड़ से है रहता दूर, दुनिया से है अलग उसका वजूद,
खुद को ही हार कर वो खुद को ही जीत कई बार पाया है।

धीर है गंभीर है घमंड में नील है, होके धनवान सबसे
रहता अति सामान्य वो, कोई नहीं है जैसा उसके,
इसलिए मुझे अभी तक वो कहा यहां मिल पाया है।

गलत पर है वो तेज़ बोलता, प्रेम में वो अति धीर रखता,
सबके लिए गर्व, और अपने लिए पागल बन कर रहता

उसका है ऐसा फैशन मानो वो कहीं और का रहता।

इसलिए अभी तक मुझे कहा वो इस भीड़ में दिख पाया है।
खोजती है निगाह गर मिले ऐसा तो बताना मुझे
पता तुम्हे अपने दिल का मैंने राज आज देती हूँ।

रंजनी(आंनद) चित में बस जाएं वो बिन कहे सब वो कह जाए,
खर्च ना करू शब्द मैं अपने, आती हो उसको भी मन की भाषा
कुछ नहीं मन में मेरे ही वो बस जाए, बिन कहे मुझे समझ जाए।

इस कल्पना को मैं अत्मसद्य करती हूँ।
मिलो तुम मुझे बस अब यही ऊपर वाले से फरियाद करती हूँ।

मूल चित्र : Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

रंजनी मणि त्रिपाठी

Occupation -Lawyer , Blogger, Author, Social activities, " If my view at any one person to intratect and understanding my inner surface how to I explained and why I explained this is too much for me" ((कोई भी बदलाव एक ही दिन नहीं होता, उसके लिए सदिया जगनी पड़ती है)) ।।रंजनी श्रीमुख शांडिल्य।। read more...

7 Posts | 15,232 Views
All Categories