कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

उतने में ही गुज़र बसर करें जितनी ज़रूरत हो…

Posted: सितम्बर 21, 2020

बस अब तो यही दुआ करती हूं कि यह कठिन समय हम सबकी ज़िन्दगी से चला जाए। साथ ही यह गुज़ारिश करूंगी कि हम सब उतने में ही गुज़र बसर करें जितनी ज़रूरत हो। 

न जाने क्या कहे ये दौर जो चल रहा है, हमें कुछ सीखा रहा है या कुछ सचेत कर रहा है कि संभल जा ओ इंसान! जो तूने बोया है वहीं काट रहा है आखिर ठीक भी तो है, हम इंसानो ने इस प्रकृति के साथ जो मज़ाक किया है उसी की सजा हमें मिली है। कभी कुछ चाहकर या कभी अनजाने में हमने बहुत से ऐसे अपराध किए हैं जिसकी वजह से हमें ज़िन्दगी में कुछ ऐसे एहसास करा दिया है जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी।

सच बताऊं तो ये सबक ही हमारे जीवन को आगे बढ़ने की प्रेरणा देगा। हम सबको यह समझना होगा जैसा हम किसी बंदिश में रहकर जीवन यापन नहीं कर सकते वैसे ही हमें प्रकृति के साथ भी ऐसा नहीं करना है और इस वक्त ने हमें बहुत कुछ यह भी सिखाया है कि कैसे हम भौतिक चीजो के पीछे भागे फिरते रहे है।

एक होड़ में रहते रहे है कि हमारे पास सभी आरामदायक चीज़े उपलब्ध हो ताकि हमारी ज़िन्दगी में हमें अधिक मेहनत मशक्कत ना करनी पड़े। फिर चाहे कोई मशीनरी हो या फिर घर में कार्य करने वाले हमारे कर्मचारी या मेड ही हो। पर समय ने हमें आत्मनिर्भरता से जीना सिखाया कि किस तरह से हम स्वयं कार्य कर अपने जीवन का निर्वाह करें।

यही नहीं कैसे कम पैसे से हम अपने घर का गुज़र बसर कर सकते हैं। कभी कभी यह भी सोचती हूं कि इस समय से पहले वाले समय में हम कैसे भौतिक चीज़ों के पीछे भागते फिरते थे। हर वीकेंड पर शॉपिंग जाना हमारी ज़िन्दगी का अहम हिस्सा बन चुका था।  नए कपड़े खरीदना, घूमना फिरना यह हमारी ज़रूरत थी पर इस मुश्किल वक्त ने हमें यह सिखाया कैसे हम सिर्फ ज़रूरत की वस्तुओं का उपयोग कर अपनी ज़िन्दगी सादगी से व्यतीत कर सकते हैं।

सच मानो दोस्तो अब तो ऐसा लगता है जैसे कि बचपन की वो सब बातें लौट आई है जिसने हम कम चीजों के साथ भी खुश रहते थे, घर का बना खाना ही हमारे लिए बहुत होता था। बस अब तो यही दुआ करती हूं कि यह कठिन समय हम सबकी ज़िन्दगी से चला जाए फिर से हम एक दूसरे से मिल पाए।

साथ ही यह गुज़ारिश करूंगी कि हम सब उतने में ही गुज़र बसर करें जितनी ज़रूरत हो, एक दूसरे को हराने की होड़ में ना लगे रहे कि मेरे पास उससे ज़्यादा हो और हम छोटी छोटी खुशियों द्वारा अपने और अपने परिवार में खुश रहें।

मूल चित्र : Fstopper via Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020