कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

‘लड़का विदेश में है’ सुनते ही लड़की का रिश्ता तो तय कर दिया, लेकिन…

Posted: सितम्बर 7, 2020

काजल को समझ नहीं आ रहा कि वो क्या करे, कैसे अपने पति को वापस बुलाए। अब उसके ससुराल वालों को भी नहीं पता कि उनका बेटा कहाँ है।

आज मैं आपको एक कहानी बता रही हूं जो अभी के दौर की है। आजकल विदेश में रहने वालों के साथ हम रिश्ता तो जोड़ लेते हैं, लेकिन वो रिश्ता कितने समय के लिए चलता है, यह कोई नहींं बता सकता।

काजल गाँव की भोली भाली, सुंदर, पढ़ी-लिखी लड़की है। घर में माता-पिता और तीन भाई-बहन हैं। काजल के पिता को उसकी बहुत चिंता रहती है क्योंकि काजल बहुत भोली है। जल्दी से किसी पर भी विश्वास कर लेती है, उसे औरों की तरह उसे बातें बनाना नहीं आता। अपने परिवार में सबसे शांत रहती थी काजल। अपने काम से काम रखना, सबसे प्यार से बात करना, किसी को भी अपने दुःख के बारे में न बताना, काजल के गुण थे। पिता ने भी हमेशा साथ दिया काजल का। अब शादी की उम्र हो गयी है यह सोचकर पिता ने अखबार में इश्तिहार दे डाला और अपने रिश्तेदारों से बोल दिया कि कोई अच्छा लड़का हो तो बताना काजल के लिए। अब उसके हाथ पीले करने का समय आ गया।

कुछ दिनों के बाद एक परिवार वाले आ गए। घर परिवार अच्छा था, लड़का विदेश में जॉब करता था। उसके माता-पिता वहीं उनके गाँव के पास ही रहते थे। उसकी एक बहन जिसकी शादी हो चुकी थी। कुल मिलाकर यह परिवार काजल के लिए बिलकुल सही था। दोनों पक्षों की रजामंदी से रिश्ता पक्का कर दिया। शादी की सुहानी शाम भी आ गयी। काजल के परिवार वालों ने अपनी हैसियत से बढ़कर उसकी शादी में सोने के गहने सहित, घर में काम आने वाले सभी आइटम और अन्य कीमती उपहार दिए थे।

काजल भी अपनी नई नवेली शादी से बहुत खुश थी। लेकिन शादी के कुछ महीनों के बाद ही उसका पति पुनीत और ससुराल परिवार की ओर से उसे और दहेज लाने के लिए परेशान किया जाने लगा। इतना सब दहेज मिलने के बाद भी वो काजल को परेशान करते।

इसी बीच उसका पुनीत विदेश चला गया। काजल अपने व्यवहार से सबका दिल जीतने की कोशिश करती, लेकिन कुछ भी कर ले उसके ससुराल वाले उसको नीचा ही दिखाते और काजल ने अपने परिवार को इस बारे में कुछ नहीं कहा। काजल ने अपने ससुराल में रहने के लिए हर तरह की ज्यादतियों को सहने का प्रयास किया और सहा भी।

वो उसके साथ मारपीट करते और एक दिन रात को काजल को घर से निकाल दिया गया। अब काजल को अपने पिता के घर आना पड़ा। काजल के पिता ने पुलिस में शिकायत और केस कर दिया। अब पुलिस ने शिकायत को सुनकर पुनीत के माता-पिता को हवालात में बंद कर दिया और पुनीत को भी विदेश से वापस इंडिया बुला लिया। पुनीत ने आते ही अपने माता-पिता की तरफ से माफी मांगी और आपसी समझौते के तहत काजल को अपने साथ अलग घर लेकर रहने को तैयार हो गया। कुछ दिन सब कुछ ठीक चला।

कुछ समय तक साथ रहने के बाद काजल को पता लगा कि वो माँ बनने वाली है, लेकिन तब पुनीत काजल से कहा कि वो इंडिया में अपना बिजनेस शुरु करना चाहता है। इसके लिए वो अपने सारे जेवर दे दे और अपने मायका से 5 लाख रुपए भी लेकर आये। भोली काजल अपने पति की इस गहरी चाल को समझ नहीं पाई और अपने पिता से लेकर अपने पति को दे दिये। इसके बाद एक दिन पुनीत ने कहा कि तुम्हारी तबीयत ठीक नहीं रहती तुम कुछ दिन के लिए अपने मायके चली जाओ, काजल ने वैसा ही किया।

कुछ दिनों के बाद काजल को पता चला कि उसका पति उसे बिना बताए विदेश चला गया। अब काजल को समझ नहीं आ रहा कि वो क्या करे, कैसे अपने पति को वापस बुलाए। अब उसके ससुराल वालों को भी नहीं पता कि उनका बेटा कहाँ है। पुलिस वाले भी उसे नहीं पकड़ पा रहे। अब काजल की जिंदगी दो राहों पर है, एक तरफ़ पुनीत को ढूंढना है, दूसरी तरफ अपने बच्चे की खातिर उसका इंतजार करना था। काजल को अपने प्यार पर विश्वास करने की सज़ा मिली। लेकिन अब काजल ने अपने अजन्मे बच्चे की खातिर खुद को मजबूत किया।

आगे पढ़ाई की, और आज अपने पैरों पर खड़ी है। काजल को बेटी हुई उसने अपनी बेटी की पूरी जिम्मेदारी ले रखी है। आज भी काजल अपने पति का परदेस से आना का इंतजार कर रही है। ताकि उसे सजा दिलवा सके और उसे न्याय मिल सके।

आज भी हमारे समाज में ऐसे अनेकों परिवार मिल जायेंगे जो लड़कों की बिना जांच पड़ताल किये रिश्ता कर देते हैं और बाद में पूरी जिंदगी पछताना पड़ता है। विदेशों में रहने वाले सभी गलत नहीं होते। अक्सर देखा गया कि विदेश की चाह में अनेक लड़के अपनी पत्नी, बच्चों, यहाँ तक की अपने माता पिता को भी छोड़ कर चले जाते हैं और वहाँ की चकाचौंध वाली जिंदगी को अपना लेते हैं। 

लेकिन अगर विदेश ही जाना था, वहीं रहना पसंद था? तो भोली भाली लड़की से शादी क्यों करते हैं? किसी का विश्वास क्यो तोड़ देते हैं? उनके लिए रिश्तों, संस्कारों का कोई मूल्य नहींं है।

मूल चित्र : Canva Pro

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020