कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

आपन भोजपुरी – आज मैं बाबूजी की समस्या समझ गई थी

Posted: सितम्बर 14, 2020

शहरीकरण के इस दौर में शहरी बनने की होड़ में मैंने और सुधांशु ने अपने बच्चों को अपनी भाषा की विरासत ना दे कर एक विदेशी भाषा का आकर्षण दिया था।

“कुछ ओ कह आपन भोजपुरी बोले में जौन आनंद बा उ आनंद कहीं थोड़े बा।” बाबूजी आज बड़े दिनों बाद प्रफुल्लित थे, जब से यहां आए थे बुझ से गए थे। बच्चों और सुधांशु को अंग्रेजी में बातें करते देख चुप हो जाया करते और मुझसे बहू वाला लिहाज था, तो थोड़ा कम ही बोलते। मैं समझ नहीं पा रही थी कि आखिर बाबूजी हमारे घर में सामान्य क्यों नहीं महसूस कर पा रहे हैं।

एक दिन यूं ही बाबूजी के साथ सब्ज़ी खरीदने गई, वहां बाबूजी के कोई दोस्त मिल गए और अपने दोस्त से भोजपुरी में बात कर बाबूजी ऐसे खुश थे जैसे किसी रूठे बच्चे को उसका खोया खिलौना मिल गया हो।

आज मैं बाबूजी की समस्या समझ गई थी और यह सोचने को मजबूर हो गई थी कि अपनी भाषा से लगाव क्या होता है। शायद शहरीकरण के इस दौर में शहरी बनने की होड़ में मैंने और सुधांशु ने अपने बच्चों को अपनी भाषा की विरासत ना दे कर एक विदेशी भाषा का आकर्षण दिया था।

भाषा अच्छी और बुरी नहीं होती, बल्कि अपनी मातृ भाषा को ना जान किसी विदेशी भाषा को अपनी जीवनशैली में शामिल करना मेरे बच्चों को बाबूजी रूपी बरगद की छांव से वंचित कर गया और बाऊजी को उनके फूलों से।

मूल चित्र : Photo Abstract from Getty Images via Canva Pro

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

A mother, reader and just started as a blogger

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020