कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

नारी हूं…

तीर नहीं जो चूक जाऊं, नीर नहीं जो सूख जाऊं, सृष्टी पर भारी हूं! नारी हूं, न हारी थी, न हारी हूं!

तीर नहीं जो चूक जाऊं, नीर नहीं जो सूख जाऊं, सृष्टी पर भारी हूं! नारी हूं, न हारी थी, न हारी हूं!

हवा नहीं जो थम जाऊं,
सूर्य नहीं जो अस्त हो जाऊं,
धड़कन नहीं जो रुक जाऊं,
बर्फ नहीं जो पिघल जाऊं,
चट्टान नहीं जो तिड़क जाऊं,
धूल नहीं जो बिखर जाऊं,
ऋतु नहीं जो बदल जाऊं,
कहानी नहीं जो अधूरी रह जाऊं,
उम्र नहीं जो ढल जाऊं,
सागर नहीं जो रीत जाऊं,
वक्त नहीं जो बीत जाऊं,
गीत नहीं जो बिसर जाऊं,
मीत नहीं जो बिछड़ जाऊं,
तीर नहीं जो चूक जाऊं,
नीर नहीं जो सूख जाऊं,
सृष्टी पर भारी हूं !
नारी हूं,
न हारी थी,
न हारी हूं !

मूल चित्र : Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

98 Posts | 278,511 Views
All Categories