कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

अटूट बंधन

Posted: अगस्त 3, 2020

दादी माँ! आपको क्या उपहार मिला था, सुहाग रात में?

कल मेरी पोती की शादी है। घर में बहुत चहल- पहल हो रही है। पोती की सहेलियों ने उसे घेर रखा है। खूब हँसी-ठठ्ठा चल रहा है। तभी इस बात पर मंथन होने लगा कि, शादी की पहली रात(सुहाग रात) पर वो अपने पति को क्या उपहार देगी?

सभी सहेलियाँ, जो शादीशुदा थी, अपनी राम कहानी बताने लगीं, “मैंने तो ये गिफ्ट दिया, मुझको वो गिफ्ट मिला!”

मैं चुपचाप उनकी बातों का रस ले रही थी। तभी पोती की सहेली ने मुझसे पूछा, दादी माँ! आपको क्या उपहार मिला था, सुहाग रात में?
मैंने एक ठंडी साँस ली, और कहा, “मुझे कोई उपहार नहीं मिला था। मुझसे तो एक वादा लिया गया था!”

“क्या वादा?”

“हाँ! वादा।”

जब तेरे दादा जी कमरे में आए (पुराने लोग आज भी अपने पति का नाम नहीं लेते है) तो उन्होंने कहा, रज्जो! मैं तुमसे एक वादा लेना चाहता हूँ, कि मैं किसी भी प्रमुख त्योहार पर तुम्हारे साथ नहीं रहूँगा!

मैंने पूछा, “क्यों?”

उन्होंने कहा , मेरी नानी माँ ने मुझे पाला है। मेरी माँ के अलावा उनकी कोई सन्तान नहीं थी। नाना की मृत्यु के बाद खेती बाड़ी, वही संभालती थी। उन्हें त्योहार मनाने का बड़ा शौक था। उस दिन वो पूरा घर, धो कर, उसे अच्छे से सजाती थीं। पूजा पाठ बहुत करती थीं।
जब उनकी मृत्यु का समय नजदीक आ गया, तो उन्होंने मुझे बुलाया और कहा,” ये सारे खेत-खलियान तुम्हारे हैं। इन्हें रखो, चाहे बेचो! लेकिन मेरा पुश्तैनी घर कभी नहीं बेचना। इसमें मेरे पूर्वजों का वास है। तुम मुझसे वादा करो, तुम हर त्योहार पर इस घर में दिया जलाने आओगे। मेरी देहरी को कभी त्योहार के दिन सूना नहीं रहने दोगे।”

“उनकी साँस, शायद मेरी हाँ की, ही प्रतीक्षा कर रही थी! मेरे हाँ कहते ही, उनकी आँखों में एक अलग चमक आ गयी और उन्होंने हमेशा के लिये आँखें बन्द कर लीं। मैं हर दीवाली, होली और दशहरा में, नानी माँ के गाँव जाऊँगा! तुम इस घर की बहू हो, इसलिए तुम्हें यहीं रह कर त्योहार मनाने होंगे।”

होली, दीवाली नहीं मनायी?”

“तो इतने सालों में, एक बार भी दादा जी ने, आपके साथ होली, दीवाली नहीं मनायी?”

“नहीं”, मैंने ठंडी साँस लेकर कहा।

“आपने कभी उन्हें जाने से रोका नहीं?”

“नहीं, उन्हें अपना फर्ज निभाने से कैसे रोकती? वैसे भी मना भी करती तो भी, तेरे दादा जी जाते, बुझे मन से जाते। इसलिए मैंने हमेशा उनसे कहा, यहाँ मैं हूँ, सब सम्भालने के लिये। आप निश्चिंत हो कर जाएँ।”

“रिश्ते निभाने के लिये, जरूरी है कि एक दूसरे की भावनाओं की कद्र करें।”

“अच्छा, इसलिए दादा जी, आज भी आपको इतना प्यार करते है!”

इन बच्चों के दादा जी, जो किवाड़ के पीछे छिप कर, मेरी सारी बातें सुन रहे थे।

उनकी आँखों में अपने लिये, जो गर्व और निश्छल प्रेम देखा! वो ही मेरे जीवन का आधार हैं!

मूल चित्र: Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020