कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

विधवा हो तो क्या हुआ …

Posted: July 9, 2020

“विधवा हूँ। समाज क्या कहेगा। तुम्हें भी मुझसे शादी करके क्या मिलेगा? मुझे तो अब शादी के नाम से ही डर लगता है। कितने अरमानों से शादी की थी पर क्या मिला?” सुधा ने बैचेनी से कहा।

“क्या हुआ सुधा? तुमने मेरे सवाल का जबाब नहीं दिया अब तक। एक हफ्ते से पूछ रहा हूँ। इतना टाइम थोड़े ही लगता है सोचने में। ये फैसला सिर्फ तुम्हें लेना है पर..” यह कहकर आशीष अपनी कुर्सी से उठा।

“तुम मेरे पीछे क्यों पड़े हो? हजारों लड़कियों की लाइन लग जायेगी तुम्हारे पीछे। लग क्या जायेगी, अभी भी लगती है तुम्हारे पीछे तो। क्या नहीं है तुम्हारे पास। फॉरेन रिटर्न, ओहदे में एम.डी., गोरे, लंबे, पैसा, रुतबा सब कुछ तो है तुम्हारे पास। एक लड़की को और क्या चाहिए? मेरे पीछे अपनी जिन्दगी मत बर्बाद करो” सुधा ने खिड़की से बाहर देखते हुए कहा।

तुम्हें पता है न मैं विधवा हूँ…

“मैं जीवन बर्बाद नहींं आबाद करना चाहता हूँ। शादी करूंगा तो सिर्फ़ तुम से। मुझे हजारों लड़कियों से थोड़े ही शादी करनी है। मुझे तो सिर्फ तुमसे करनी है। मुझसे शादी करने में तुम्हें क्या परेशानी है बताओ न ” आशीष ने चिंतित होते हुए कहा।

“तुम्हें पता है न मैं विधवा हूँ और मेरे एक बेटा भी है। समाज क्या कहेगा। पहले पति को खाकर दूसरी शादी करने चली। नहीं तो यह भी कह सकता हैं कि अपने बॉस के साथ नैन मटक्का चल रहा है। साल भर हुआ नहीं अपने बॉस को अपने रूप जाल में फंसा लिया। हम विधवाओं के लिए दूसरी शादी इतनी सहज नहीं है। बहुत काँटों भरी राह है। एक विधवा की खुशियां उसके पति के साथ ही चली जाती हैं” सुधा ने आँसू पोंछते हुए कहा।

समाज क्या कहेगा…

आशीष ने पीछे से सुधा को पकड़ते हुए उसके कान में हौले से पूछा “प्यार करती हो मुझसे।” आशीष का आलिंगन पाकर वह खुद को रोकते हुए बोली  “पता नहीं।”

आशीष ने पीछे से और जोर से गले लगाते हुए पूछा “करती हो पर बोलती नहीं। मुझे पता है तुम समाज से डरती हो।”

“विधवा हूँ। समाज क्या कहेगा। तुम्हें भी मुझसे शादी करके क्या मिलेगा? मुझे तो अब शादी के नाम से ही डर लगता है। कितने अरमानों से शादी की थी पर क्या मिला?” सुधा ने बैचेनी से कहा।

पहला पति नहीं रहा तो इसका मतलब यह नहीं की दूसरा पति भी न मिले…

“उसकी चिंता मत करो। मैं हूँ न। हम दोनों एक दूसरे के लिए बेहतर जीवनसाथी साबित होंगे। पहला पति नहीं रहा तो इसका मतलब यह नहीं की दूसरा पति भी न मिले।” आषीश ने सुधा के बाल ठीक करते हुए कहा।

आशीष के इतने प्यार के लिए सुधा ने आशीष को इशारों में हाँ कर थी।

दोस्तों, आज भी हमारे समाज में यह देखने को मिलता है कि एक विधवा को हेय दृष्टि से देखा जाता है। उसे पति  की मृत्यु का जिम्मेदार माना जाता है। जबकि जन्म और मृत्यु ईश्वर के हाथ है।

मूल चित्र : Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य - महत्त्वपूर्ण जानकारी आपके लिए

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020