कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

हाँ, मुझे एक शादीशुदा आदमी से प्यार है…

Posted: जुलाई 12, 2020

कई बार ज़िन्दगी हमें ऐसे मोड़ पर ले आती है कि सोच-समझ कुछ भी काम नहीं आती, इस लेख में ऐसी ही एक कश्मकश को साझा किया गया है… 

वह मेरी बहन का एक अच्छा दोस्त हुआ करता था। मुझसे उम्र में 3 साल बड़ा। जब वह दीदी से बात करता था, तब वह मुझे बिल्कुल पसंद नहीं था। लेकिन कहते हैं ना कि होनी को कुछ और ही मंजू़र था।

एक दिन काम के सिलसिले में मुझे उसकी मदद चाहिए थी और बस यहीं से हमारे प्यार की शुरूआत होती है। जब बात धीरे-धीरे आगे बढ़ने लगती है, तब वह अपने जीवन के एक ऐसे काले सच से सामना करवाता है, जिसे मैं भुलाए नहीं भूल सकती।

वह बात जिसने मेरी ज़िंदगी बदल दी…

उसने बताया कि उसकी शादी हो चुकी है, लेकिन पिछले चार साल से उसने गौना नहीं आने दिया है। वह लड़की उसके घर वालों की पसंद है। उसकी शादी उसके पापा ने अपने खास दोस्त की बेटी के साथ तय कर दी थी और कुछ महीनों बाद उनका देहांत हो गया था।

उसने कहा कि उसके बाद घरवालों के दबाव में आकर उसे शादी करनी पड़ी थी। उसने अपने करियर की शुरुआत भी नहीं की थी और उसके परिवार वालों ने उसके ऊपर थोपी हुई शादी निभाने की ज़िम्मेदारी सौंप दी थी।

यह मेरे लिए धर्म संकट था कि मुझे क्या करना चाहिए? सोचने व समझने में यह बात काफी आसान लगती है कि अरे भाई, जब वह शादीशुदा था, तब इतना क्या सोचना, छोड़ देने में ही आसानी व समझदारी है।

मेरा मानना है कि हां, यह उन लोगों के लिए आसान है, जो लोग प्यार से ऊपर समाज की दकियानूसी सोच व प्रथा को महत्व देते हैं।

हमें दिमागी तौर पर बीमार कहा गया…

कई कोशिशों के बाद भी हम, हमारे रिश्तों को कोई नाम नहीं दे पाए। मेरे और उसके घरवालों का कहना था कि यह संभव ही नहीं है कि तुम दोनों इस रिश्ते को आगे ले जाओ।

उसके घर वालों ने उसपर उस लड़की को अपनाने और उस बेमेल शादी को हर हाल में निभाने के लिए परेशान किया। मुझसे कहा गया कि यह प्यार – व्यार कुछ नहीं होता है, बस दिमागी तौर पर बीमार हो तुम दोनों।

मेरे लिए तो मेरे चरित्र पर सवाल उठाए जाने लगे कि  कैसी केरेक्टरलेस लड़की है। पसंद आया भी तो कौन एक शादीशुदा लड़का?

मुझे यह एहसास करवाया गया कि प्यार गुनाह है और अगर प्यार करना ही है तो अपने कास्ट, रंग-रूप और जाति के आधार पर करो वरना यह समाज तुम्हें अपनाएगा नहीं।

मैं ये सब बस आप सब से साझा करना चाहती हूँ….

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020