कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मैं थोड़ा अपने लिए लड़ लेती तो क्या हो जाता?

Posted: जुलाई 14, 2020

थोड़ा पढ़ा लिखा देते तो क्या हो जाता? मैं थोड़ा अपने लिए लड़ लेती तो क्या हो जाता? आज मुझे बेटा पैदा न होने पर मारा तो नहीं जाता…..

हे भगवान! लड़की पैदा हुई,
हे भगवान! जी का जंजाल हुई।

लड़की यानी जी का जंजाल,
तुम भी करते हो खूब कमाल।

बताते फिरते हो दुनिया को,
लड़का-लड़की एक समान।
तो क्यों अपनी ही बिटिया को,
समझते हो बोझ जैसे हो सामान।

न तो उसे पढ़ने देना चाहते हो,
न ही उसे दुनिया समझाना चाहते हो।

दिन-दुनिया खराब है,
पहने सब नकाब है,
थक गयी ये बातें सुनकर।

जानती हूँ बहुत करते हो फिकर,
तो क्यों कर देते हो विदा गैर समझकर।

जिसे रखा था तुमने इतना सहेजकर,
भेज देते हो ऐसे घर,
जहाँ जीती है मर-मर कर।

बन जाती है वो एक औरत,
जिसे समझते है वो अपनी रैयत।

चाहे कुछ भी हो, सहना है,
चाहे कुछ भी हो, रहना है।

औरत हो औरत की तरह रहो,
मर्द के जैसे जीने की कोशिश मत करो।

थोड़ा पढ़ा लिखा देते तो क्या हो जाता?
मैं थोड़ा अपने लिए लड़ लेती तो क्या हो जाता?
औरत हो कह, ये करो वो करो ना कहा जाता?
आज मुझे बेटा पैदा न होने पर मारा तो नहीं जाता…..

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020