कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

खत्म ना होगी, मुझसे ये कविता!

Posted: जुलाई 13, 2020

खत्म ना होगी, मुझसे ये कविता…आखिरी बात बता दूं सबको, मैं जब बनी माँ बच्चों की, अचरच में थी मेरी नानी!  बोली, हो गई, कब तू इतनी बड़ी? 

इक्का, दुक्का, तिक्का।
नाना पीते हुक्का।
गुड़गुड़! बोला पानी!
दौड़ी आई नानी!
जाने किसकी थी, ये कविता?

गा-गा कर भाग जाती थी, मैं!
नानी को खूब सताती थी।
नाना के संग पढ़ती थी।
नाना के संग खेलती थी।

खुद को समझ लक्ष्मीबाई!
मैं तो खूब इतराती थी।
अन्नपूर्णा थी, नानी मेरी!
विद्वान थे, मेरे नाना!
होती थी, जब गर्मी की छुट्टी
उनकी परछाई, मैं बन जाती थी।

नानी के हाथों के पकवान!
नाना के किताबों की खान!
बस! इनसे थी मेरी दोस्ती।
बाकी सबसे कट्टी हो जाती थी।

खेलते थे जब भाई बहन
छुपा-छुपी, पतंग बाजी
मैं नानी की गोद में बैठी
लोकगीत गुनगुनाती थी।

मामा बोले! चल घुमा लाऊं!
नाना के बगीचे में जा छुप जाती थी।

खत्म ना होगी, मुझसे ये कविता!

आखिरी बात! बता दूं सबको।                                                                                                    मैं जब बनी माँ बच्चों की
अचरच में थी मेरी नानी!
बोली! हो गई, कब तू इतनी बड़ी?
अभी तो मुझसे बाल बँधवाती थी!

काश कि लौट आए वो बचपन
और लौट आए मेरे नाना नानी!!

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य - महत्त्वपूर्ण जानकारी आपके लिए

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020