कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

भारत की इन 12 महिला डॉक्टर ने चिकित्सा क्षेत्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई

Posted: जुलाई 1, 2020

आइये इस डॉक्टर्स डे ऐसी ही कुछ भारतीय महिला डॉक्टर के बारे में जानते हैं जिन्होंने चिकित्सा के क्षेत्र में अविस्मरणीय योगदान दिया। 

जब महिलाओं को पढ़ने की आज़ादी भी नहीं थी तब कुछ ऐसी महिलाएं थीं जिन्होंने सारे सामाजिक बंधनों को तोड़कर खुद को साबित किया और अलग अलग क्षेत्र में अपना परचम लहराया।

आइये इस डॉक्टर्स डे ऐसी ही कुछ भारतीय महिला डॉक्टर के बारे में जानते हैं जिन्होंने चिकित्सा के क्षेत्र में अविस्मरणीय योगदान दिया

डॉ आनंदी जोशी

Anandi Gopal Joshi - Wikipedia

आनंदी गोपाल राओ जोशी भारत की पहली महिला डॉक्टर और संयुक्त राष्ट्र से एलोपैथी में स्नातक करने वाली पहली भारतीय महिला थीं। उन्होंने भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका में चिकित्सा के क्षेत्र को आगे बढ़ाने के लिए कई महिलाओं को प्रेरित किया है। गोपालराव की चाहते थे कि आनंदीबाई चिकित्सा सीखें और दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाएं।

आनंदी बाई 14 साल की उम्र में पहली बार माँ बानी और उन्होंने चिकित्सा की असुविधा के कारण 10 वे दिन ही अपना बच्चा खो दिया ,इस बात ने आनंदी बाई को चिकिटसक बनने क लिए और प्रेरित कियाउन्होंने भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका में चिकित्सा के क्षेत्र को आगे बढ़ाने के लिए कई महिलाओं को प्रेरित किया है। 26 फरवरी 1887 को 21 वर्ष की आयु में तपेदिक की वजह से उनकी मृत्यु हो गई और वह अपने देश में एक महिला डॉक्टर के रूप में अभ्यास नहीं कर पायीं।

डॉ कादम्बनी गांगुली

Kadambini Ganguly from Bihar was the first lady doctor in the country

कादम्बनी का जीवन बहुत संघर्ष पूर्ण रहा उनकी निजी ज़िन्दगी से लेकर उनकी पेशेवर ज़िन्दगी में कदम कदम पर परेशानियां आयीं। कादम्बनी  काफी संघर्ष से कलकत्ता मेडिकल कॉलेज में भर्ती होने वाली पहली महिला बनीं और उन्होंने कलकत्ता यूनिवर्सिटी से ही स्नातक की डिग्री हासिल की।  न केवल भारत में, बल्कि पूरे दक्षिण एशिया में पश्चिमी चिकित्सा की पहली महिला डॉक्टर बनीं।

जब वो चिकित्सा के क्षेत्र में जाना चाहती थीं उस समय भारत में महिलाओं को विद्यालय में एडमिशन भी नहीं दिया जाता था उनका दाखिला करने क लिए उनके पति द्वारकानाथ ने आंदोलन किये और महिलाओं के हक़ में आवाज़ उठायी लेकिन दाखिला मिलने के बाद भी हालत यह थे की वह के शिक्षक ने उन्हें फेल कर  दिया था और इसी वजह से उनको ऍम डी की डिग्री नहीं मिल पायी।

जब उन्होंने सीएमसी में अपनी पढ़ाई पूरी की, तो तत्कालीन प्रिंसिपल डॉ. जेएम कोट्स ने  GMCB डिप्लोमा से सम्मानित किया, जिसने उन्हें महिला डॉक्टर के रूप में एक निजी प्रैक्टिस शुरू करने की अनुमति दी। हालाँकि, उनके  पास एम बी की डिग्री नहीं थी और परिणामस्वरूप, अपनी निजी प्रैक्टिस शुरू की लेकिन असफल रही।

अंत में आगे के मेडिकल अध्ययन के लिए इंग्लैंड  जाने का फैसला किया। सभी बंधनों को तोड़ते हुए, बंगाली महिला ने अपने बच्चों को अपनी बड़ी बहन के पास  देखभाल के लिए छोड़ दिया और 1893 में इंग्लैंड की यात्रा की।

कादम्बिनी हाई ब्लड् प्रेशर  से पीड़ित थी लेकिन उसे और उन्होंने काम के बीच कभी नहीं आने दिया। 3 अक्टूबर, 1923 को, 63 वर्षीय कादम्बिनी  एक महत्वपूर्ण ऑपरेशन किया और उसी शाम को उनका निधन हो गया।

डॉ. शिवरामकृष्ण अय्यर पद्मावती

A Woman of Many Firsts: Meet India's First and Oldest Cardiologist!

पद्मावती भारत की पहली ह्रदय रोग विशेषज्ञ महिला चिकित्सक बनीं। उन्होंने भारत में ह्रदय रोग से सम्बंधित अनेक शोध किये साथ ही डॉ। डॉ पद्मावती अपने परिवार के साथ द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 1941 में बर्मा से कोयंबटूर गईं। एक के जुनून के साथ, उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका में जॉन्स हॉपकिन्स अस्पताल और हार्वर्ड मेडिकल कॉलेज में क्रमशः कार्डियोलॉजी के अग्रणी डॉ हेलेन तौसिग और डॉ पॉल डडली व्हाइट के साथ दवा का अध्ययन किया।

पद्मावती ने पहले कार्डियोलॉजी क्लिनिक और कैथेटर लैब की स्थापना की, पहला भारतीय मेडिकल स्कूल-आधारित कार्डियोलॉजी विभाग, और भारत का पहला हृदय फाउंडेशन भी उन्होंने ही खोला। वह इस साल जून में 103 साल की हो गईं और अब भी सक्रिय हैं।

डॉ मंजुला अनगनी

This Padmasri Winning Doctor Is Revolutionizing Gynec Laparoscopy ...

मंजुला एक जानी मानी गयनेकोलॉजिस्ट और ओब्स्टेट्रिशन हैं। जब उन्होंने 90 के दशक में दवा का अभ्यास करना शुरू किया, तो न्यूनतम इन्वेसिव  सर्जरी अपने अपने शुरूआती दौर में थी।
उनकी उपलब्धियों में महिला के एर्गोनॉमिक्स पर काम करना और लैप्रोस्कोपी में नई तकनीकों को विकसित करना और न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी शामिल है। सर्जन के लिए सर्जरी को कम जटिल और आसान बनाने के लिए वह एक नई एंट्री तकनीक लेकर आई। तब से उसने स्त्री रोग में 10,000 से अधिक लेप्रोस्कोपिक सर्जरी का प्रदर्शन किया है और आंध्र प्रदेश में शीर्ष स्थान पर है और भारत में कुछ प्रमुख लेप्रोस्कोपिक सर्जनों में से एक है।

डॉ वी शांता

Myths surrounding cancer should be dispelled: Dr V Shanta – Indus ...

एक प्रमुख कैंसर विशेषज्ञ, वी शांता  देश में गुणवत्ता और सस्ती कैंसर उपचार उपलब्ध कराने में उत्कृष्ट और महत्वपूर्ण प्रयासों के लिए जानी जाती है। वह अड्यार कैंसर संस्थान, चेन्नई की अध्यक्ष हैं, जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने देश के शीर्ष रैंकिंग कैंसर केंद्र के रूप में दर्जा दिया है। वी शांता को 1986 में पद्मश्री , 2006 में पद्मभूषण और 2016 में पद्मविभूषण से नवाज़ा गया। उनको साल 2005 में रमन मैग्सेसे पुरस्कार से भी नवाज़ा गया।

डॉ इंदिरा हिंदुजा

Dr. Indira Hinduja - Gynaecologist & Obstetrician Doctors - Book ...

डॉ इंदिरा हिंदुजा आईवीएफ को भारत में लाने वाले पहले डॉक्टरों में से एक थीं। इंदिरा हिंदुजा एक भारतीय स्त्री रोग विशेषज्ञ, प्रसूति विशेषज्ञ और मुंबई में बांझपन विशेषज्ञ हैं। उन्होंने  Gamete intrafallopian transfer technique  पहले GIFT बच्चे की डिलीवरी की।  इससे पहले उन्होंने  भारत का दूसरा टेस्ट ट्यूब बेबी की डिलीवरी की थी।

डॉ कामिनी राओ

Milann looks for growth beyond B'luru; to focus more on ...

डॉ कामिनी ए राव भारत में असिस्टेड रिप्रोडक्शन के क्षेत्र में अग्रणी हैं। उन्हें दक्षिण भारत का पहला सीमेन  बैंक स्थापित करने का गौरव प्राप्त है उन्होंने कामिनी केयर्स  फाउंडेशन की स्थापना की है, जो हमारे देश में बालिकाओं और महिलाओं के जीवन को बेहतर बनाने, बढ़ाने और ज्ञान देने की दिशा में काम कर रहा है।

डॉ जयश्री मोंडकर

Dr.Jayshree Mondkar - महाराष्ट्र बुलंद टाइम्स

जयश्री लोकमान्य तिलक नगर के अस्पताल में नवजात विभाग की  प्रमुख हैं।  मुंबई के सायन अस्पताल में डॉ जयश्री मोंडकर द्वारा संचालित एशिया का पहला ह्यूमन मिल्क बैंक, उन नवजात शिशुओं के लिए प्रदान करता है जिनकी माताएँ किसी भी कारण से स्तनपान नहीं कर पाती हैं।

डॉ अजेता चक्रबोर्ती

1926 में जन्मे, अजीता चक्रवर्ती ने मनोचिकित्सा में विशेषज्ञता प्राप्त की, न्यूरोलॉजी विभाग की प्रोफेसर और बाद में इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (IPGMER), कलकत्ता के निदेशक के रूप में सेवानिवृत्त हुई । वह इंडियन साइकियाट्रिक सोसाइटी की अध्यक्ष थीं। भारत की पहली महिला मनोचिकित्सकों में से एक, डॉ. अजीता चक्रवर्ती के अध्ययन में देवताओं और देवी के दृश्य मतिभ्रम शामिल थे जिन्हें उन्होंने विशेष रूप से महिलाओं में देखा था। वह 25 वर्षों के लिए विश्व मनोचिकित्सक संघ, ट्रांसकल्चरल साइकियाट्री सेक्शन की सदस्य रही हैं।

डॉ नीलम कलेर

Neelam Kler | Neonatology | Sir Ganga Ram Hospital

सर गंगा राम अस्पताल में प्रख्यात नियोनेटोलॉजिस्ट केलर, बेहद बीमार शिशुओं के लिए नवजात आपातकालीन परिवहन कार्यक्रम विकसित करने में अग्रणी हैं। यह केलर के निरंतर प्रयासों के कारण है कि प्रीटरम शिशुओं (37 सप्ताह से पहले जन्म) की जीवित रहने की दर बढ़कर 90 प्रतिशत हो गई है और संक्रमण की दर गिरकर प्रति 1,000 प्रवेश पर 9.8 हो गई है।

डॉ सुभद्रा नायर

M Subhadra Nair - Alchetron, The Free Social Encyclopedia

एम सुभद्रा नायर एक भारतीय स्त्री रोग विशेषज्ञ, चिकित्सा शिक्षक और सामाजिक कार्यकर्ता हैं, जिन्हें कथित तौर पर 50,000 से अधिक जन्मों की सहायता का श्रेय दिया जाता है। भारत सरकार ने उन्हें 2014 में, चिकित्सा के क्षेत्र में उनकी सेवाओं के लिए पद्म श्री के साथ चौथा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, पद्म पुरस्कार प्राप्त करने वाली पहली स्त्री रोग विशेषज्ञ के रूप में सम्मानित किया।

डॉ कस्तूरी राजध्यक्ष

Kasturi Rajadhyaksha - Obituary

कस्तूरी राज्याक्षक्ष ने एक चिकित्सक के रूप में काम किया, और गर्भवती महिलाओं के साथ होने वाली कठिनाइयों को देखने के बाद, उन्होंने महिलाओं के लिए संगठनों की स्थापना करते हुए सामुदायिक सेवा में अपना करियर शुरू किया। 1965 में, संयुक्त राज्य में चली गई, जहाँ उन्होंने महिलाओं की मदद के लिए अपना सामुदायिक काम जारी रखा।

पब्लिक हेल्थ में अपनी मास्टर डिग्री पूरी करने के बाद, वह जोंकोगो के लिए एशियाई समन्वयक बन गई, जो गैर-लाभकारी संगठन है, जो जॉन्स हॉपकिंस विश्वविद्यालय द्वारा स्त्री रोग और प्रसूति विज्ञान में अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा में सुधार के लिए चलाया जाता है। कस्तूरी, जिन्हें  अक्सर डॉ. राजा के रूप में जाना जाता है, एक भारतीय चिकित्सक और सामाजिक  कार्यकर्ता थे। उन्होंने  विशेष रूप से भारतीय तथा  दक्षिण एशियाई लोगों के लिए कई सहायता समूहों की मदद की, और विशेष रूप से घरेलू हिंसा को समाप्त करने और दक्षिण एशियाई व्यवसायी लोगों की मदद करने पर ध्यान केंद्रित किया।

इन सभी महिला डॉक्टर ने चिकित्सा के क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बनायी है और साथ ही हर उस इंसान के लिए मिसाल कायम की है जो अपने जीवन में कुछ करना चाहता है।

मूल चित्र : Practo/Twitter/YouTube/ET/legacy.net

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य - महत्त्वपूर्ण जानकारी आपके लिए

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020