कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

शिकवा है कुछ लोगों को मुझसे, तुम हो गए हो बदले-बदले…

Posted: जून 28, 2020

कुछ लोगों को शिकवा है मुझसे, तुम हो गए हो बदले बदले। जो पत्ते पेड़ से टूट गए, क्या अब भी वो रंग ना बदले? क्या अब भी वो रंग ना बदले?

कुछ लोगों को शिकवा है मुझसे,
तुम हो गए हो बदले बदले।
जो पत्ते पेड़ से टूट गए,
क्या अब भी वो रंग ना बदले?

कहते हैं प्रकृति का नियम है ये,
बदलाव ही तो जीवन है।
गर मैं भी ज़रा सी बदल गई,
तो क्यूँ कहते तुम हो बदले?

तितली की तरह उन्मुक्त उड़ूँ,
पन्छी की तरह पर फहराऊँ।
पानी की तरह मैं बह जाऊं,
कोई चाह नहीं इसके बदले।

मैं तो खेल रही थी वैसे ही,
जैसे पत्ते मुझको थे मिले।
तुमने ही बाजी पलट डाली,
तुमने ही पत्ते अदले-बदले।

मुझसे तो शिकायत है सबको,
पर झाँको ज़रा अपने भीतर।
क्या तुम भी पहले ऐसे थे?
क्या तुम नहीं बदले बदले?

कुछ लोगों को शिकायत है मुझसे ,
तुम हो गए हो बदले बदले।
जो पत्ते पेड़ से टूट गए,
क्या अब भी वो रंग ना बदले?

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Samidha Naveen Varma Blogger | Writer | Translator | YouTuber • Postgraduate in English Literature. • Blogger at Women's

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020