कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

क्यों राजकुमारी को नहीं चाहिए अपने सपनों का राज कुंवर…

Posted: जून 27, 2020

क्यों रहती हूँ मैं बंद सजीले महल भवन में? न रोक सकेगा मुझको अब कोई रूढ़ि, धर्म, समाज, तोड़ दिए सब बंधन पहन साहस का चोला आज…

खड़ी क्षितिज को दूर निहारती थी एक राजकुमारी
ढूंढती अपना अस्तित्व अनुपम विशाल सृष्टि में सारी

क्या है मेरा कोई टुकड़ा समस्त ब्रम्हांड सृजन में
क्यों रहती हूँ मैं बंद सजीले महल भवन में

नहीं स्वीकार मुझे हीरे मोती जड़ी ऊंची दीवारें
सतरंगी आकाश झरोखों से मुझे हर क्षण पुकारे

नहीं प्रतीक्षारत, न मैं चाहूँ सपनों का राज कुंवर
तज परदे पहरेदार, ओढ़नी है धूप की चादर

सूरज की प्रचंड अग्नि, बुलाये दुर्गम पर्वत की प्राचीर
मैं रचना चाहूँ नियम, क्यों न लिखूं खुद अपनी तक़दीर

मैं पद्मिनी, मैं दुर्गा, मैं अन्नपूर्णा, मैं ही कल्याणी
रज़िया मैं, सावित्री मैं, सीता भी मैं और मैं क्षत्राणी

जीवन दायिनी माँ भी मैं हूँ और असुरों की संहारिणी
पृथ्वी, नभ, सागर की सहचर, मैं चिर हिम-निवासिनी

विचरूँ मैं पंख पसार उन्मुक्त नील गगन में
आशाओं के अश्व चढूँ, फिरूं हर वन उपवन में

न रोक सकेगा मुझको अब कोई रूढ़ि, धर्म, समाज
तोड़ दिए सब बंधन पहन साहस का चोला आज

लांघी लक्ष्मण रेखा करने अपनी मिट्टी को नमन
मेरा भी अधिकार, मुझको भी प्यारा मेरा वतन।

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

I am an avid reader and nature,music,art lover.

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020