कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मुर्दादिल जिंदगी….

Posted: May 19, 2020

कुछ ऐसे भी हैं जो जिंदा होना तो चाहते हैं लेकिन तय नहीं कर पा रहे कि जिंदा होकर वापिस उसी दुनिया में खुश रह पाएंगे कि नहीं।

जब चारों ओर देखा तो कुछ लोग जिंदा लगे और कुछ लोग जिंदा होने के बावजूद मर चुके थे।
लेकिन विडंबना यह कि यदि इन मरे हुए जिंदा लोगों से बात करें तो महसूस होगा कि ये मानने को ही तैयार नहीं कि ये मर चुके हैं। कोई ज़मीर के हाथों मर चुका है,कोई शर्म के हाथों मर चुका है,
किसी को लालच ने मुखौटे बदल-बदल कर मार डाला है तो किसी का गला उसीकी अनगिनत हसरतों ने घोंट दिया है, किसी-किसी की मौत की जिम्मेदारी शोहरत और पैसे की चाह ने खुद अपने सिर ले ली है। इन्हें दोबारा जिंदा करने की कोशिश करो तो ये आप पर ही सवाल खड़े कर देंगे !

कुछ ऐसे भी हैं जो जिंदा होना तो चाहते हैं लेकिन तय नहीं कर पा रहे कि जिंदा होकर वापिस उसी दुनिया में खुश रह पाएंगे कि नहीं। कुछ लोग भीतर से मुर्दा होने के बावजूद भी खुद को जिंदा रखने की चाह में जी-जान से जुटे हुए हैं। इधर कुछ दिनों से सालों से मुर्दा जीवन जी रहे लोग फिर से जिंदा होकर बहुत खुश हैं और सोच रहे थे कि काश वे पहले ही जिंदा होने का फैसला ले लेते। तो कुल मिलाकर यही कहना है कि एक न एक दिन सदा के लिए मुर्दा होना तय ही है तो जब तक जिंदा हो तब तक मुर्दा मत रहो। वो चीज़े जो तुम्हें मुर्दा बनाती हैं उन्हें अपने दिल की गहराई में इस कदर घुसपैठ न करने दो कि वे तुम्हें ही जीते-जी मार डालें।
याद रखें-
‘जिंदगी जिंदादिली का नाम है,
मुर्दादिल क्या खाक जीया करते हैं !’

मूल चित्र : Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?