कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मन : एक एहसास

Posted: May 15, 2020

मन ही ईश्वर, मन ही देवता, यह एक कहावत है संसार में मनुष्य की सभी गतिविधियां मन ही निर्धारित करता है। 

खुद के सिवा न कोई संगी ,
मन होता भई बड़ा दुरंगी।

किसी पराए को जा अपनाता ,
कभी अपनों को पराया कर जाता ,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।

माया की ऊँची नगरी बसाता ,
कभी उसी नगरी को आग लगाता ,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।

चाहे तो दोस्त से दुश्मनी निभाता ,
कभी जा पुराने बैरी को गले लगाता ,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।

प्यार में चाहे तो दुनिया लुटाता ,
कभी उसी दुनिया को मिट्टी में मिलाता ,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।

मोह में बंधने की तरकीब जुटाता ,
कभी वही बंधन तोड़ भाग जाता ,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।

किसी के गुण पर बरबस रीझ जाता ,
कभी उन्हीं गुणों को धता बताता ,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।

सुख में कभी कलपता रहता,
कभी दुखों में चैन की बंसी बजाता,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।

जब प्यार मिले तो चिढ़ सा जाता ,
कभी प्यार बांटने को अकुलाता ,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।

लगी प्यास बुझाने नदी तक जाता ,
कभी बारिश बन सागर की प्यास बुझाता ,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।

भरे मेले में भी अकेला पड़ जाता ,
कभी अकेले में सपनों की दुनिया सजाता ,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।

जहां लग जाए वहीं धूनी रमाता।
कभी उखड़ जाए फिर लौट कर न आता ,
मन ये भईया बड़ा दुरंगी।
तभी तो खुद के सिवाय ,
इसका कोई न संगी !

मूल चित्र : Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?