कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

क्या एक दूध का गिलास समानता और असामनता का प्रतीक हो सकता है?

Posted: मई 17, 2020

शिक्षा अगर वास्तव में ग्रहण की गयी हो तो वह अपना असर ज़रूर दिखाती है, इंसान बुद्धिजीवी बन जाता है और साथ के साथ असमानता को घोर विरोधी बन जाता है। 

“ए राधा! जा ई दूध का गिलास बबुआ के दे आव त।”

हर शाम राधा दूध का गिलास बबुआ को देने जाती और ललचाई नज़रों से अपने बड़े भाई को दूध पीता देखती और मन ही मन सोचती, “ना जाने कैसा लगता होगा ई दूध, मास्टरनी जी तो रोज कहती हैं कि सबको दूध जरूर पीना चाहिए। पर अम्मा भी का करे इतना ही दूध आता है घर में कि बस भाई और पापा को ही पूरा पड़ पाता है।”

उधर बबुआ रोज तो दूध का गिलास खाली कर दिया करता था लेकिन आज उसके दिमाग में टीचर जी की बात कौंध रही थी।

आज तो टीचर जी बड़ा ही अजीब बात बोली थी और बबुआ दूध का गिलास ले कर चल पड़ा अपनी टीचर जी की बात अम्मा और पापा को बताने, “अम्मा तुमको पता है आज हमारी टीचर जी क्या बताई हम लोग को किलास में? ऊ बोली कि लड़का और लड़की में कोई फरक नहीं होता है। जितना जरूरत लड़का को अच्छा पढ़ाई-लिखाई का है ना, इतना ही जरूरत लड़की को भी पढ़ाई-लिखाई का है।”

“और उसी तरह जितना जरूरत हमको दूध पीने का है ना, इतना ही जरूरत राधा को भी दूध पीने का है। और इतना ही तुमको भी दूध पीने का जरूरत है, काहे कि तुम तो घर में सबसे ज्यादा काम करती हो और राधा भी तो हमसे ज्यादा मेहनत करती है। दिन में तुम्हारा मदद करती है और रात को पढ़ती है।”

अम्मा अपने बेटे की बात सुन आश्चर्य से भर उठी, “अच्छा तुम्हरी टीचर जी बोली है तो ठीक ही बोली होगी बेटा, लेकिन तुमको तो मालूम है ना कि इससे जादा दूध हम नहीं ले सकते।”

बबुआ मुस्कुराया और बोला, “हमको मालूम है इसलिए हमारे पास एक तरीका है जिससे हम सब लोग दूध पी पाएंगे।”

बबुआ रसोई से एक और गिलास ले कर आया। अपने गिलास का आधा दूध दूसरे गिलास में डाला और राधा की तरफ बढ़ा दिया। राधा और अम्मा को पहली बार अहसास हुआ कि वे दोनों भी दूध के गिलास की हकदार हैं।

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

A mother, reader and just started as a blogger

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020