कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

आज का वर्ल्ड हेल्थ डे कोरोना मरीज़ों की सेवा में लगी नर्सों को समर्पित है

Posted: अप्रैल 7, 2020

वर्ल्ड हेल्थ डे के दिन, जब पूरी दुनिया में ऐसा लग रहा जैसे प्रलय ने अपना तांडव मचाया हुआ है, हमको अपने स्वास्थ्य कर्मियों का एहसान मानना चाहिए। 

आज, यानी 7 अप्रैल 2020, है विश्व स्वास्थ्य दिवस। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा आयोजित स्वास्थ्य दिवस पूरे विश्व में मनाया जाता है। इसमें लोगों को जागरूक करने के लिए अभियान चलाए जाते हैं। इस समय पूरा विश्व COVID19 के प्रकोप से जूझ रहा है। इसके लिए इस बार WHO ने नर्सों और मिडवाइफ/दाई को सम्मान समर्पित किया है। यह वर्ष महिलाओं की मेहनत के लिए समर्पित किया गया है। यह अपने आप में एक महत्वपूर्ण सम्मान को दिखाता है और प्रेरित करता है उन लाखों नर्सों को जो, इस समय अपनी जान जोख़िम में डाल कर मरीजों का इलाज कर रहीं हैं।

वर्ल्ड हेल्थ डे यानि विश्व स्वास्थ्य दिवस की शुरुआत

विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाने की स्थापना वर्ष 1948 में हुई। 1948 में WHO की पहली स्वास्थ्य सभा का गठन किया गया और ड्राफ्ट तैयार किया गया।और तिथि निर्धारित की गई 7 अप्रैल। इसके बाद विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाने की शुरुआत 1950 से की। प्रत्येक वर्ष की 7 अप्रैल को पूरे विश्व में विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है।

विश्व स्वास्थ्‍य संगठन का उद्देश्य

विश्व स्वास्थ्य संगठन का प्राथमिक और महत्वपूर्ण उद्देश्य है कि सम्पूर्ण वैश्विक स्वास्थ्य की देखरेख की जाए और लोगों में स्वास्थ्य को लेकर जागरूकता फैलाई जाए। विश्व स्वास्थ्य संगठन को यह लक्ष्य हासिल करने के लिए यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि सामुदाय में  विश्व के सभी लोगों को स्वास्थ्य की सेवाएं मिल रहीं है और यह भी ध्यान में रखा गया कि कोई वंचित वर्ग इस योगदान का लाभ उठा पा रहा है या नहीं? जिसमें उनको देखभाल मिले जिसकी उन्हें ज़रुरत है।

विश्व के सभी देशों के सभी क्षेत्रों में इस प्रकार सेवाएं पहुंचाई जा रही हैं जिससे लोगों की सहायता की जा सके।
मगर आज भी लाखों लोगो को अच्छी स्वास्थ्य देखभाल हासिल नहीं हो पाती तथा करोड़ों लोगो को स्वास्थ्य के साथ साथ मूलभूत चीज़े जैसे, रोटी ,कपड़ा, और मकान जैसी चीजों की भी आवश्यकता होती है।

वर्ष 2020 बनाम महिलाओं को सम्मान – मिडवाइफ और नर्सों को समर्पित

विश्व स्वास्थ्य दिवस 2020, WHO नर्सों और दाइयों के कार्य के योगदान का सम्मान करते हैं और पूरे विश्व को स्वस्थ रखने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका की पहचान करवाते हैं। यह एक बहुत बड़ा सम्मान है जो विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा महिलाओं को दिया जा रहा है। वर्तमान सम्पूर्ण विश्व में कोरोना जैसी घातक बीमारी के समरूप खड़े होने वाले नर्स और अन्य स्वास्थ्य कार्यकर्ता COVID -19 के इलाज की प्रतिक्रिया की वजह से सुर्खियों में हैं, पूरे समाज की रक्षा के लिए वह ख़ुद के स्वास्थ्य को खतरे में डाल रहे हैं। नर्स और दाई के 2020 के अंतर्राष्ट्रीय वर्ष में, विश्व स्वास्थ्य दिवस दुनिया भर में नर्सिंग और दाई के सराहनीय कार्यों को उजागर करने का एक अच्छा मौका है।

वर्ल्ड हेल्थ डे 2020 एक प्रेरक कदम जो महिलाओं को अपने कार्य के प्रति प्रेरित करेगा

यह वर्ष 2020, 7 अप्रैल, नर्सों और दाइयों के काम को उजागर करने का और उत्सव की तरह मनाने का दिन है और पूरी दुनिया के लोगों को याद दिलाता है कि वे दुनिया को स्वस्थ रखने में कितनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कोई अपने माता पिता को छोड़कर अस्पतालों में मरीजों की देखभाल कर रही हैं और कोई अपनी दूधमूहिं बच्ची को घर पर छोड़कर सेवा भाव में लगी है। कई कई रात सोते नहीं हैं। COVID-19 की प्रतिक्रिया में नर्स और अन्य स्वास्थ्य कार्यकर्ता सबसे अव्वल रहे हैं ।

नर्स और मिडवाइफ के इस वर्ल्ड हेल्थ डे को, नर्सिंग और मिडवाइफ/दाई की वर्तमान स्थिति को पूरी दुनिया में उजागर करेगा। किस प्रकार वह अपनी पूरी मेहनत और लगन से दुसरो के जीवन को बचाने के लिए महत्वूर्ण कदम उठा रही हैं। हमारा यहाँ इशारा सिर्फ महिला स्वास्थ्य कर्मचारी की तरफ नहीं है पुरूष स्वास्थ्य कर्मचारी के काम भी सराहनीय हैं। मगर महिला स्वास्थ्य कर्मचारी और नर्सों के कार्य उनकी सामाजिक जीवन शैली उनके रूटीन को प्रभावित करती है। वर्ष 2011 के आंकड़ों के मुताबिक 19.3 मिलियन नर्स और मिडवाइफ हैं। पूरे विश्व में 91% नर्स महिलाएं हैं, और केवल 9 प्रतिशत पुरूष। यह आँकड़े यही दर्शाते हैं कि महिलाओं के सेवाभाव में कहीं न कहीं सकरात्मक शक्ति है, जो उनके हाथों के ज़रिए मरीजों तक पहुंचती है।

इस वर्ल्ड हेल्थ डे पर क्या करें

यह समय है जब पूरी दुनिया में ऐसा लग रहा जैसे प्रलय ने अपना तांडव मचाया हुआ है। हमको इन स्वास्थ्य कर्मियों का एहसान मानना चाहिए, यह किसी जीवन को बचाने के लिए अपने जीवन को दांव पर लगा रहे हैं। इनको समझने और इनको सम्मान देने का समय है। इस समय हमको इनको कोई पुरस्कार नहीं देना, कोई मूल्यवान वस्तु गिफ्ट नहीं करनी। करना है बस इतना के अपने सरकार की एडवाइजरी को मानिए और WHO द्वारा दी गई जानकारी का लिंक नीचे साझा किया जा रहा है जिससे आप खुद का बचाव कैसे करें जैसी कई जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं।

COVID19 जानकारी – https://www.who.int/emergencies/diseases/novel-coronavirus-2019/technical-guidance

संदर्भ- ( आँकड़े) https://www.hci.edu/hci-news-blog/730-male-nursing-statistics

मूल चित्र : PTI 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020