कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

यहां इक तू है, तो इक मैं भी तो हूं…

Posted: April 16, 2020

ये रिश्ता अगर दो लोगों से बनता है, तो ऐसा क्यों है कि एक ज़्यादा ज़रूरी है और एक नहीं? ऐसा क्यों है कि मेरा अस्तित्व तेरे होने से ही है? 

इक तू है,
इक मैं हूं;

इक रिश्ता जो तेरा-मेरा है,
एक ही डगर पर साथ चलने सा है।

तेरे बिना मैं अधूरी,
मेरे बिना तू अधूरा;
फिर क्यूं आधी दुनिया को लगता यही,
कि तेरे होने से मैं तो हूं;
पर मेरा होना कुछ खास नहीं?

इक सवाल यही;
हर रोज ही;
दिल में सुई सी चुभोता है…

इक तु है,
इक मैं भी हूं;
इक रिश्ता जो तेरा-मेरा है,
अस्तित्व इसमें तेरा-मेरा है…

मूल चित्र : Pexels 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

A mother, reader and just started as a blogger

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?