कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

अनमोल ज़िंदगी की अनमोल सी खुशियां, बस ज़रूरत है थोड़ा ढूंढ़ने की ….

Posted: अप्रैल 22, 2020

ज़िंदगीं में खुशिओं का कोई मोल नहीं, और लोग इसे ढूंढ़ते हैं, मगर यह तो आपके पास खुद आपके अंदर है, बस ज़रा ग़ौर से तलाश कीजिए, सब मिलेगा …

गमों के बाज़ार में,
बड़ी नादान सी,
प्यारी सी,
छुपकर बैठी थी एक खुशी।

मेरे करीब आने की आहट सुन,
मचल उठी वो खुशी,
गले से लगाया तो,
छलक उठी वो खुशी।

मैंने पूछा,
यूँ क्यों दुबक कर बैठी है तू,
क्या किसी बात पर नाराज़ है तू?

वो धीमी सी मुस्कान संग बोली,
कर मुझे नज़रअंदाज़
लोग दुखों की ख़रीदारी में,
यूँ खो जाते हैं गम के इस मेले में।

मैं रहती हूं आस पास ही,
फिर भी मुझे ढूंढ ना पाते हैं,
अब बता तू ही,
इसमें क्या है मेरी गलती?

बाज़ार की भी यही है रीत,
जो सस्ते में मिलती वही ज़्यादा है बिकती,
मैं पसंद तो सबको आती हूँ
पर मोल मेरा कोई समझ ना पाता,
शायद इसीलिए किसी कोने में ही पड़ी रह जाती।

खुशी की इस बात पर आज फिर सोच पड़ा मन,
फिर यह कहा,
ग़मगीन नहीं मैं,
थोड़ा सा हैरान हूँ मैं,
तुझसे नाराज़ नहीं ज़िंदगी
थोड़ा सा परेशान हूँ मैं।

चारों और शोर है,
कैसी यह होड़ है,
हर तरफ भागदौड़ है,
इस भागती दौड़ती भीड़ में,
देख खो ना जाए तू।

संभाल खुद को,
कहीं आँसुओं से भीगे दामन में फिसल ना जाए तू,
दर्द की गहराइयों में समा ना जाए तू।

एतबार रख यारा!
अकेला नहीं है यहां तू
वक़्त ने सबकी झोली में है बाटें ये सन्नाटे,
कुछ है तेरा किस्सा,
कुछ है मेरा हिस्सा …

ध्यान रहे बस इतना,
दुनिया में बस दो ही हैं तेरे पास रास्ते,
या तो हो मायूस बटोर ग़म का खजाना,
या तो रह ज़िंदा दिल ढूंढ खुशी का कोई बहाना।

दिल ने दोहराया आज फिर यही तराना,
ग़मगीन नहीं मैं,
थोड़ा सा हैरान हूँ मैं,
तुझसे नाराज़ नहीं ज़िंदगी,
थोड़ा सा परेशान हूँ मैं…

मूल चित्र : Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Founder of 'Soch aur Saaj' | An awarded Poet | A featured Podcaster | Author of 'Be Wild

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020