कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

आप एक, आपके रूप अनेक : ब्रह्मांड स्वयं साक्षी है औरत की विविधता और एकता का

Posted: अप्रैल 24, 2020

इन सब का आधारिक पात्र हैऔरत ! इसके समावेश में ही कोई पुत्र बनता है तो कोई पिता, कोई पति बनता है तो कोई भाई, एक सशक्त पात्र है यह सम्पूर्ण विश्व का…

समाज में एक औरत कितने ही पात्र से होकर होकर गुजरती है, गिरती है उठती है, संघर्ष करती है, और आख़िरी में अपने दम पर खड़ी भी हो जाती है।

बेटी

इस कर्मठ और संघर्षशील जीवन व्यतीत करने वाली को हम औरत बोलते हैं, औरत के जीवन की शुरुआत बेटीसे करते हैं, सबसे पहले वह एक बेटी होती है और उसी समय उसका विकास होता है।

बेटी हूँ, तनुजा हूँ, तनया भी, नंदिनी भी
छुपकुंगी, निकलूंगी, चली जाऊंगी एक दिन।

बहन

बहन एक ऐसा शब्द है, जिसको सुन कर सबसे पहले जो शब्द ख़्याल में आता है वह है दोस्त का। कई बार हम अपने माता पिता से वह बात नहीं कर पाते जो हमारे दिल में होती है, मगर हमारे पास अगर बहन है तो हमारे पास समझिए बहुत कुछ है।

भगिनी हूँ, बहना हूँ, अनुजा हूँ,सहोदरा भी,
तैरूँगी,फिसलूंगी,जी जाऊंगी एक दिन।

पत्नी

बहन और बेटी के बाद जो अन्य पात्र है, जिसमें संघर्ष है और कई बार दर्द भी। वह है पत्नी का। पत्नी के लिए या किसी भी लड़की के लिए आसान नहीं के वह किसी अंजान घर में आकर अपने आप को एक ही दिन में अपने ससुराल वालों के रंग में खुद को ढाल ले।उसको वही माहौल चाहिए होता है जो वह पीछे छोड़कर आई है।

पत्नी हूँ, तिरिया हूँ, भामा हूँ, भामिनि भी,
रूठूँगी, बिलखुंगी, संवर जाऊंगी एक दिन।

माँ

फिर माँ, को कौन भूल सकता है? यह वह किरदार है जो खुद का न सोच कर दूसरों का सोचता है, और निस्वार्थ भावना से लबरेज़। माँ की ममता के आगे मेरी नज़र में कोई से भी एहसास नहीं ठहरता। माँ कभी लड़ती है तो पुचकारती भी है, और गले से भी लगाती है।

माता हूँ, जननी हूँ, अंबा हूँ, अम्बिका भी,
सिसकुंगी, झिड़कूँगी, बदल जाऊंगी एक दिन

औरत

इन सब का आधारिक पात्र है औरत इसके समावेश में ही कोई पुत्र बनता है तो कोई पिता, कोई पति बनता है तो कोई भाई, एक सशक्त पात्र है यह सम्पूर्ण विश्व का। यह चलते चलते थकती है, गिरती है और फिर चलती है और अंत में आखिरकार संभल जाती है।

औरत हूँ,गृहणी हूँ,रमणी हूँ, वनिता भी।
टुटूंगी, बिखरूँगी, संभल जाऊंगी एक दिन।

मूल चित्र : Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020