कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

निर्भया केस में दोषियों के ‘तालिबानी’ वकील के सारे पैंतरे फेल; कल सुबह होगी फाँसी!

पटियाला हाउस कोर्ट में दोषियों की फांसी के डेथ वारंट पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। अब उनका कल सुबह 5:30 बजे फांसी पर लटकना तय है।

पटियाला हाउस कोर्ट में दोषियों की फांसी के डेथ वारंट पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है, अब उनका कल सुबह 5:30 बजे फांसी पर लटकना तय है।

आज कोर्ट में हाई वोल्टेज ड्रामा चला मगर अंत में फैसला निर्भया के पक्ष में आया

दोषी अक्षय की पत्नी ने निर्भया की मां के पैर पकड़कर कहा कि आप मेरी मां जैसी हैं। मेरे पति की फांसी रुकवा दीजिए। वहीं सुप्रीम कोर्ट ने दोषी मुकेश कुमार की याचिका को सिरे से खारिज कर दिया है। साथ ही लताड़ते हुए कहा है कि दोषी अपनी सारी कानूनी उपचारों को आजमा चुके हैं अब वे किसी तरह के पैंतरे ना अपनाएं।

दोषीयों के वकील की अंतहीन चाल का अंत

निर्भया के दोषियों का केस लड़ते-लड़ते उनके वकील स्वयं एक अपराधी की भाषा बोलने लगे हैं। अपने विगत स्टेटमेंट में उन्होंने कहा कि यदि उनकी बेटी या बहन शादी के पूर्व शारीरिक संबंध बनाती है तो, वे उसे फार्म हाउस में ले जाकर परिवार वालों के सामने जिंदा जला देंगे।

उन्होंने कहा कि एक स्त्री हमेशा किसी ना किसी पुरुष के संरक्षण में रहती है, पहले अपने पिता एवं भाई के, फिर उसकी शादी के बाद अपने पति के, फिर बेटे के। इस तरह से उसका सारा जीवन किसी पुरुष की छत्रछाया में ही बीतता है। उन्होंने ये भी कहा कि यदि शादी के पूर्व संबंध बनाए जा सकते हैं, स्वीकार किए जाते हैं तो हमें रेप को भी स्वीकार करना होगा। आधी रात को बाहर घूमना, अध-नंगे कपड़े पहनना, इस तरह की स्वतंत्रता ही रेप की असली वजह है।

आज कोर्ट में अजीबोगरीब दलीलें दीं

आज कोर्ट में दोषियों के वकील एपी सिंह ने कहा कि अक्षय को मानसिक और शारीरिक प्रताड़ना जेल के अंदर दी गई है, पहले उसकी जांच की जाए। वकील एपी सिंह के मुताबिक राजनीति के लिए दोषियों को फांसी पर चढ़ाया जा रहा है ऐसी गंदी राजनीति ना की जाए।

उन्होंने कहा कि ये सारे लड़के युवा है, इन्हें फांसी के बदले उम्र कैद की सजा सुनाई जाए। इन दोषियों को फांसी पर चढ़ाने पर क्या रेप कम हो जाएंगे? अजीबोगरीब दलील देते हुए उन्होंने कहा इनकी जिंदगी का इस्तेमाल बॉर्डर पर कीजिए इन्हें पाकिस्तान और चाइना बॉर्डर पर खड़ा कर दीजिए।

एपी सिंह ने दलील दी कि सभी कोर्ट फिलहाल कोरोना के कारण बंद हैं, अभी हमारी याचिकाएं अलग-अलग अदालतों में लंबित हैं। कोर्ट को एपी सिंह ने बताया कि इसके अलावा एक दोषी की पत्नी उससे तलाक लेना चाहती है। वह केस लंबित है, इसके अलावा इंटरनेशनल कोर्ट में भी हमने अर्जी दी हुई है, कोरोना के चलते वहां कोर्ट बंद है।

अब सज़ा नहीं रोकी जा सकती

पटियाला हाउस कोर्ट के जज ने कहा कि CRPC के किसी भी प्रोविजन के इस्तेमाल कर अब फाँसी की सजा रोकी नहीं जा सकती। दूसरों की वकील की सारी उठापटक, सारी दलील, सारे पैंतरे, सारे दांव-पेच बेकार गए।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

अब देखना है कि इस तालिबानी वकील का लाइसेंस कब रद्द होता है। अब यह फैसला बार काउंसिल के पास सुरक्षित है। अभी इस वकील के स्टेटमेंट पर कड़ी समीक्षा की जा रही है।

लेटेस्ट ख़बरों के अनुसार दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने दोषियों की फांसी बरकरार रखी है। कल सुबह 20 मार्च को फांसी तय है।

मूल चित्र : YouTube 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

41 Posts | 286,991 Views
All Categories