कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

लॉक डाउन के लंबे दिन, यानि आपका आराम… लेकिन आपके घर की औरतों के आराम का क्या?

Posted: March 25, 2020

Covid – 19 लॉक डाउन, मतलब कई लोगों के लिए घर पर आराम, मगर ऐसे में क्या हम सुनिश्चित कर रहे हैं कि हमारे घर की महिलाओं को भी आराम मिले?

पूरा विश्व इस समय एक दायरे में बंध गया है। हर जगह ख़ालीपन और सूनापन हर एक जगह को घेरे हुए है। देश के प्रधानमंत्री के द्वारा दिया गया भाषण, के पूरा देश 14 अप्रैल 2020, तक बंद रहेगा। कोई बाहर न निकले, कोई कर्मचारी काम पर ना आए और जो प्राइवेट आफिस वाले हैं, वे लोग घर पर बैठ कर काम करें। सबको सैलरी मिलेगी, उनके पैसों में कटौती नहीं कि जाएगी। यह सारी बात तो कुछ वर्ग के लोगों के लिए कहीं न कहीं मददगार तो साबित होंगी, मगर कभी इनके अलावा सोचा कि जो ना तो सरकारी कर्मचारी हैं और न किसी प्राइवेट कंपनी के हिस्से, उनका क्या?

लॉक डाउन का महिलाओं पर असर

घर में काम करने वाली आया या गृहणी और हम चर्चा कर सकते हैं ऑफिस जाने वाली महिलाओं की भी। यह तीन वर्ग लिंग से और समानता से एक हैं, मगर इनके जीवन में बहुत अंतर है। कोई खाना पकाने के अलावा कुछ नहीं सीख पाईं, कुछ ने घर को ही अपना संसार मान लिया, और उनमें से कुछ ने जीवन को सुदृढ़ बनाने के लिए बाहर की दुनिया का रुख़ किया।

मौजूदा देश की स्तिथि में इन तीनों वर्ग की महिलाओं के सामने चुनौतियां हैं और समस्याएं भी। सरकार द्वारा लगाया गया देशव्यापी लॉक डाउन और उसकी गाइडलाइंस में हर तरह के करने और न करने के तथ्य हैं मगर कहीं भी घरेलू महिला, या कामकाजी महिला के लिए एक कॉलम बनना तो ज़रूरी था, चाहे छोटा सा ही कोई नियम होता।

आज की चर्चा का विषय यही है कि इनकी जो आवाज़े हैं उनको कोई सुनेगा क्या? या हर बार, हर क्षेत्र में फिर से उनकी आवाज़ों को दबा दिया जाएगा? सोचने वाली बात है, विषय गम्भीर है और ग़ौर करने वाला भी। वैसे ही महिलाओं के वर्गों को कुचलने के लिए भारतीय समाज जिम्मेदार है। इतिहास को पलट कर देख सकते हैं, सदियों से महिलाओं की दुर्दशा का इतिहास गवाह है। आज भी यही स्तिथि है, वर्तमान भारत में महिलाओं के साथ उत्पीड़न का मामला थमने का नाम नहीं लेता और उस पर नई मुसीबत का आना COVID 19 जिसने पूरे विश्व में मौत का तांडव मचा रखा है। इसी बीच ध्यान देने योग्य बात है, महिलाओं की क्या स्तिथि है।

तीन वर्गों में विभाजित महिलाएं

घरेलू आया/मेड

इस स्तिथि में सबसे दुःखद और पीड़ादायक स्तिथि घर की आया की है। वह गरीब है, लगभग असहाय है तभी तो आपके घर पर काम करने आ रही है, अपनी जान को जोख़िम में डाल कर। उसका भी परिवार है, बच्चे हैं, पति है। मगर काम करवाने वाले कई मालिक उनकी समस्या की ओर ध्यान ही नहीं दे रहे। उसको आया बनाने का श्रय भी आपको जाता है, समाज को जाता है आज आपातकाल की स्तिथि में भी उसके साथ उत्पीड़न का मामला सामने आ रहा है। वह दासी नहीं जो स्वतंत्रता से पहले अंग्रेजो की ग़ुलामी किया करती थी। वह अपनी मेहनत से काम करती है और कमाती है। कुछ प्रमुख बिंदू हैं जिनका आजकल यह महिलायें सामना कर रहीं हैं जैसे :

काम से निकाल देना

आप को किस ने सर्टिफिकेट दिया है या किसने हक़ दिया कि आप एक महामारी के कारण अपनी कामवाली को काम से निकाल रहे हैं? और कुछ दिन पहले आप उसी के हाथों का खाना भी खाते थे और घर के बर्तन और झाड़ू पोछा भी करवाते थे। अब क्या हुआ? हम मानते हैं यह बहुत ही संवेदनशील स्तिथि है, मगर इसकी रोकथाम के लिए आप उससे उसके काम बाद में भी करवा सकते हैं। आप ज़रा सोचिए ये 20 दिन वो क्या खाएगी और बच्चों को क्या खिलाएगी? क्या आप अपने घर की महिलाओं, जैसे पत्नी, माँ, बहन, या पुरूष को बाहर निकाल सकती हैं या सकते हैं? कभी नहीं!

एक बात शेयर करना चाहूंगा जो आज सुबह सुबह की है। मेरे घर के पड़ोस में ही एक सज्जन हैं। वे अक्सर सबकी मदद करते हैं उनके पास एक आज सुबह किसी मेड का फ़ोन आया और वह बोलीं, “भाईसाहब, चावल या दाल मिल सकता है क्या? इस वक्त बिल्कुल भी पैसे नहीं हैं। मेरे हस्बैंड का ऑटो भी बंद करवा दिया सरकार ने, उसी से हम रोज़ खाने का इंतज़ाम करते थे, मैं पिछले पाँच दिन से आपसे बात करना चाह रही थी मगर शर्म की वजह से कर नहीं पाई।”

उन सज्जन ने जो किया या नहीं मुझे इसका इल्म नहीं, मगर वह कितनी मजबूर होगी जो खाना माँगने पर विवश हुई। आप सब से यह बात साझा करने का उद्देश्य यही है के आप भी आस पास ध्यान दें कि कहीं कोई भूखा तो नहीं सो रहा अपने घर में। उसकी बात का एक शब्द बहुत दर्दनाक हैं, बस ज़रूरत है उसको महसूस करने की।बहरहाल बात करते हैं अन्य समस्या की।

घर में बंदी बना कर रख लेने स्तिथि

मनुष्य के अंदर स्वार्थ का सागर इतना गहरा हो जाता है कि कभी-कभी के उसको मनुष्य कहना उचित नहीं लगता। शायद उनकी इंसानियत मर चुकी होती है। सुना है आजकल लोग अपने स्वार्थ के लिए काम वाली को क़ैद कर के रख रहे हैं। कुछ दिन तो आप उसकी जगह ख़ुद को रख कर देखिए। क्या आपको महसूस नहीं होगा कि आप कितना अन्याय करते आ रहे हैं और अब सारी हदें पार कर दीं? उसका परिवार और उसके बच्चों का थोड़ा तो ख़्याल करना ज़रूरी है। लोग उनको बाहर नहीं जाने दे रहे, और बोल रहे हैं कि यहीं रहकर कार्य करो वरना आप भी संक्रमित हो जाओगे। मुझे इस बात में कोई सकरात्मकता नहीं दिखी। सबका परिवार होता है और घर की जिम्मेदारियां भी। आप उसको भावनात्मक तौर पर तो प्रताड़ित कर रहे हैं साथ के साथ शारीरिक प्रताड़ना भी दे रहे हैं।

गृहणी/हाउसवाइफ

दूसरी तरफ बात आती है घर पर रहने वाली गृहणियों की, उनके लिए तो सब दिन बराबर। क्या वाकई में? या सब दिन बराबर नहीं? चलो! हम संडे की बात करते हैं, लगता नहीं इस दिन गृहणियों पर कुछ ज़्यादा ही बोझ होता है। इधर से आवाज़ आएगी, “आज ज़रा पकोड़े तल लो”, उधर से आवाज़ आएगी, “मम्मी आज पास्ता बना लो प्लीज।”

औरत नहीं रोबोट

रही सही कसर घर की बुज़ुर्ग पूरी कर देते हैं, “बेटी ज़रा हल्की सी खिचड़ी बना देना।” यह बहु, माँ या पत्नी नहीं रोबोट है, हैं न? जिसकी न संवेदनाएं हैं, न शरीर, और एक क्षमता है काम करने की? सबके सब को अपने मन की बात मनवानी है।

और अगर सोचिए लॉक डाउन हो और पूरे 21-22 दिन यही स्तिथि हो? फिर क्या हालत होगी? ऐसे में तो पति भी घर पर और बच्चे भी घर पर। ऐसे में अनेक उपाय हैं जिनके सहारे हम घर के माहौल में समानता का बीज बो सकते हैं, और महिलाओं की मदद भी हो सकती है। उनको भी कुछ दिन आराम के मिल जाएंगे।

पुरुषों की भी ज़िम्मेदारी

क्या आप थोड़ा समय निकाल कर पत्नी और बच्चों के साथ मूवी देख सकते हैं, और लूडो खेल सकते हैं? क्या ऐसा हो सकता है कि आप लोग सब मिल कर हफ़्ते में कुछ दिन खाना खुद बनाएं और अपनी पत्नी को आराम करने के लिए कहें। क्यों ना कपड़े धोने, या घर की साफ सफाई में हाथ बटाएं, जो हम साल में शायद सिर्फ एक बार करते हैं, वो भी शायद सिर्फ त्यौहार के दिनों में।

ऐसे में घर का माहौल विषैला नहीं होगा और सारा का सारा दारोमदार पत्नी ही पर नहीं होगा, पति भी थोड़ा सा वह जीवन जी कर तो देखे, जो उसकी पत्नी जीती आ रही है।

अब तीसरे पक्ष में बात आती है कामकाजी महिलाओं की –

कामकाजी महिलाएं

अगर महिला घर पर है तो उसको काम ज़रूर करना पड़ेगा

यहाँ भी बड़ी समस्या आती है, अगर महिला घर पर है तो उसको काम ज़रूर करना पड़ेगा। ऑफिस से छुट्टी नहीं मिली, बस जगह बदली है। मगर अक्सर पति सोचते हैं, कोई नहीं मेड छुट्टी पर है तो क्या, पत्नी तो भी तो घर पर है, वो सब संभाल लेगी। बड़ी ही अजीब बात है।

घर पर तो आप भी हैं ना? आप मेड की छुट्टी अपने बिना पर भी कर सकते हैं ना? आप घर का सारा काम संभाल सकते हैं ना? महिला को ही घर के काम के लिए ही क्यों नियुक्त किया जाता है। अगर उनको घर से काम करने की अनुमति मिली है कि वह अपना ऑफिस का काम घर से करेंगी, तो उनको कुछ तो सुकून के पल भी मिलने चाहियें।

यह उनके लिए भी राहत भरा समय रह सकता है।ऑफिस जाते समय उनको कितनी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लॉक डाउन की स्तिथि में उनको भी आपके जितना आराम करने का हक़ है। उनको यक़ीन दिलवाएं कि बहुत समय बाद आप दोनों एक साथ घर पर हैं। यह सौभाग्य की बात है। अगर वह घर के काम करती हैं तो उनका मनोबल बढ़ाएं और उनका हाथ भी बटाएं।

लॉक डाउन के खट्टे मीठे परिणाम

जीवन में ऐसे पल बहुत कम आते हैं जब हम सब एक साथ हो, तकनीकी दुनिया में सब फ़ोन में या अपने कार्य में लगे होते हैं। इंसान इंसान को भूलता जा रहा है। लॉक डाउन के खट्टे मीठे परिणाम हैं, बशर्ते आप जीना चाहते हों, आप में उमंग हो। प्राकृतिक को महसूस करने की ताकत हो।

इस लेख के द्वारा मैंने कुछ समस्याओं से रूबरू करवाया है और कुछ असहाय और पिछड़ी हुई महिलाओं की आवाज़ों को काग़ज़ पर उतार कर आप तक पहुंचाने की एक कोशिश की है, और कुछ उपायों का नमूना पेश किया है, जो सार्थक तो है साथ के साथ अभी आपातकाल की स्तिथि में उपयोगी भी। और अंत में यही कहूंगा, आप लोग घर पर रहकर मज़े करें, इस बीमारी से लड़िये भी ज़रूर, मगर ऐसे कुछ लोगों को भूल मत जाईएगा जिनको हमारी ज़रूरत है।

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

I am imran and I am passionate about grooming children and Women in areas where

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

1 Comment


  1. Gr8 work for women but jo maid ko nikal rahe hai is situation mai wo unki puri salary denge agr aisa nhi krte hai to wo maid unki complaint kar sakti hai

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?