कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

आज मैं अपने घर के साथ-साथ अपने लेखन को भी निखार रही हूँ – विनीता धीमान

Posted: मार्च 3, 2020

‘होम-मेकर होने का मेरा सफर’ कांटेस्ट की तीन बेहतरीन कहानियों की श्रृंखला में आज तीसरी कहानी है विनीता धीमान की! विनीता आपको हार्दिक बधाई!

आज, मैं आपको अपने बारे में बताती हूँ। मैं एक साधारण सी शक्ल-सूरत वाली पढ़ी-लिखी लडक़ी…या अब कहूँ औरत हूँ।

पापा ने हम को बहुत प्यार से पाला-पोसा

मेरा बचपन बीकानेर राजस्थान में बीता है। बचपन से ही मैं अपने पापा की लाडली रही। मेरे पापा मेकेनिकल इंजीनियर हैं और वहीं ऊन की फैक्ट्री में काम करते थे।  हम चार भाई बहिन है, पापा ने हम को बहुत प्यार से पाला-पोसा। कभी-कभी तो मम्मी की मार से भी बचाया, जहां मम्मी को बहुत जल्दी गुस्सा आता था। इसके पीछे भी सबक था कि मैं आगे आने वाले समय की लिए तैयार हो गयी। मैंने बी.एड, एम.फिल किया उसके बाद मुझे बैंक में डाटा एंट्री की जॉब मिल गई।

नौकरी करने के बाद पापा ने शादी करवा दी

कुछ समय नौकरी करने के बाद पापा ने शादी करवा दी और मैं अपने ससुराल में बिना कोई परेशानी के एड्जस्ट हो गई। मेरे ससुराल में सास, ससुर, देवर, पति सब हैं।

यहां दिल्ली में मेरी एक स्कूल में जॉब लग गयी लेकिन अपनी बेटी होने के कारण मुझे स्कूल छोड़ना पड़ा और उसके ढाई साल के बाद मैंने फिर से स्कूल जॉइन कर लिया। सोचा था कि अब सब अच्छे से होगा मेरा स्कूल और घर सब बढ़िया चल रहा था।

मुझे अपनी नौकरी छोड़नी पड़ी

लेकिन भगवान को कुछ और ही मंजूर था और मैं फिर से प्रेग्नेंट हो गयी इस बार प्रेग्नेंसी में दिक्कतें थीं, तो डॉक्टर्स ने ज़्यादा काम न करने को कहा। सब ने कहा जॉब छोड़ दो लेकिन मैंने पूरे 7 महीने जॉब की। फिर शरीर ने जवाब देना शुरू कर दिया और मुझे अपनी नौकरी छोड़नी पड़ी।

एक होम-मेकर होना भी बहुत मुश्किल वाली 24 घण्टे की नौकरी है

अब तो मैं दो बच्चों की माँ हूँ। फिर सब कहते है कि परिवार पूरा हो गया तो तुम फिर से नौकरी कर लो, लेकिन अब मैंने सोचा है कि मुझे पहले अपना घर और बच्चों की देखभाल करनी है। मेरे पति ने भी कभी भी दवाब नहीं बनाया है कि तुम घर में क्यों रहती हो? बाकी औरतों की तरह नौकरी क्यों नहीं करतीं? उनका कहना है कि एक होम-मेकर होना भी बहुत मुश्किल वाली 24 घण्टे की नौकरी है। इसमें न तो छुट्टी मिलती है और न ही कोई तनख्वाह। एक औरत अपने प्यार से घर का सारा काम भी करती है और अपने बच्चों की भी देखभाल करती है।

होम-मेकर के साथ मेरी नई पहचान मेरा लेखन

होम-मेकर के साथ मेरी नई पहचान मेरा लेखन जो अब तक मुझ तक सीमित था, उसे मैंने अपना नया जॉब बना लिया। अब मैं एक हिंदी ब्लॉगर बन गयी और इस मंच पर मैंने ब्लॉग लिखने शुरू कर दिए। और अब मेरा सपना कि मैं जॉब करूँ वो पूरा होने लगा। अब मैं अपने परिवार के साथ इस नई जॉब को भी अच्छे से कर रही हूं, और बहुत खुश भी हूँ… अब आप सोचोगे कि क्या कमा रही हूँ? अब मैं अपने पढ़ने का प्यार पा रही हूँ जो किसी पैसे का मोहताज नही है।

सच मे यहाँ पर मैंने बहुत प्यार पाया, फॉलोवर्स मिले, नए दोस्त मिले और मुझे एक नई पहचान मिली।

अपने घर के साथ-साथ अपने लेखन को भी निखार रही हूँ

इस तरह मैने जब तक नौकरी की तब तक परिवार और पति का साथ मिला और अब जब अपने घर के साथ साथ अपने लेखन को भी निखार रही हूँ। अब सब मेरे जान पहचान वाले भी मेरे होम मेकर के इस सफ़र को सलाम करते है और मेरी कलम से निकले ब्लॉग्स, कविताओं और कहानियों को अपने आप से जोड़ कर खुश हो जाते है और उनके द्वारा किये गए कमेंट्स को पढ़कर मैं अपनी होम-मेकर की जॉब को जी लेती हूँ।

मैं अपने इस होम-मकेर के साथ लेखक, ब्लॉगर के कभी न खत्म होने वाले सफर से बहुत खुश हूँ यहाँ से मुझे कोई निकाल नहीं सकता। न ही मुझे कोई सेवानिवृत्त कर सकता है।

आपको मेरी नयी पहचान कैसी लगी? मुझे ज़रूर बताएं।

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य - महत्त्वपूर्ण जानकारी आपके लिए

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020