कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

‘हर दिन बराबरी का’ क्या दे पाओगे तुम?

Posted: मार्च 8, 2020

नहीं बनना देवी, ना तो दिन खास चाहिए, आधी दुनिया को जीने का अहसास चाहिए, ‘दिन बराबरी वाला’ नहीं चाहते हैं हम, ‘हर दिन बराबरी का’ क्या दे पाओगे तुम?

आज फिर यूं बराबरी की बातें होंगी।
‘नारी ही दुनिया है’ मैसेज फारवर्ड होंगी।।

सुबह बिस्तर से माथा चूम जगाओगे।
अगले दिन बेड पर टॉवल फेंक जाओगे।।

एक दिन मेरे लिए बनाओगे चाय नाश्ता।
पूरे साल चाय के लिए मेरा देखोगे रास्ता।।

किसी के प्रेमी बन केयरिंग हो जाओगे।
बस में किसी और की एडवांटेज लेने से न कतराओगे।।

कहते हो मेरी बेटी तो चांद पर जाएगी।
स्टूपिड औरतें सड़क पर कार कैसे चलायेंगी।।

बराबरी की बातें तो खूब करते हो।
ऑफिस में कलिग को कमतर आंकते हो।।

ठहाके लगा कहोगे मैडम सज-धज कर आतीं हैं।
टीम लीडर तो त्रियाचरित्र दिखा बन जाती हैं।।

कमजोर काया को ही उसकी ताकत कहते हो।
वाह! अपने हिसाब से उसका चरित्र गढ़ते हो।।

चलो, जाओ, छोड़ो! नारी सशक्तिकरण की बातें।
जब ऑफिस से आए बीवी तो बस घर साफ दिखे।।

नहीं बनना देवी, ना तो दिन खास चाहिए।
आधी दुनिया को जीने का अहसास चाहिए।।

‘दिन बराबरी वाला’ नहीं चाहते हैं हम।
‘हर दिन बराबरी का’ क्या दे पाओगे तुम।।

जिस दिन ये विश्वास दे पाओगे।
यकीं करो वूमेंस डे न मनाओगे।।

मूल चित्र : Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020