कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

इस लॉक डाउन में पुरुषों के नाम एक खुला पत्र!

इस 21 दिन के लॉकडाउन के दौरान, हर किसी को अपना काम खुद करने की ज़रुरत है, और ऐसा अपने घर से शुरू होना चाहिए - पुरुषों का अपने घरों में काम करने के साथ। 

इस 21 दिन के लॉकडाउन के दौरान, हर किसी को अपना काम खुद करने की ज़रुरत है, और ऐसा अपने घर से शुरू होना चाहिए – पुरुषों का अपने घरों में काम करने के साथ। 

अनुवाद : शगुन मंगल 

मेरे प्रिय पुरुष गण,

(और मैं विशेष रूप से उन संपन्न परिवारों के पुरुषों को संबोधित कर रही हूं, जिनके पास एक अच्छा-खासा मासिक वेतन का चेक है और इस लॉक डाउन के दौरान वे घर में आराम कर रहे हैं…)

जैसा कि भारत आज 21 दिनों के लॉकडाउन में जाता है, आप अगले 3 हफ्तों के लिए घर पर ही रहने वाले हैं। अधिकांश भारतियों की तरह, आप में से ज़्यादातर लोग अपने परिवार के साथ रह रहे होंगे, और इन परिवारों में कई महिलाएँ शामिल होंगी – माताएँ, पत्नियाँ, बहनें, बेटियाँ!

यदि आप उन लोगों में से हैं, जो अपने घर का लोड शेयर करते हैं, जिन्हें अपनी माँ या पत्नी से यह नहीं पूछना पड़ता कि आपके मोज़े कहाँ हैं, तो यह पोस्ट आपके लिए नहीं है (लेकिन फिर भी आप पढ़ते रहें क्यूंकि आप इसे अपने साथियों के साथ साँझा कर सकते है; और हाँ याद रखें कि वे आपकी कही बात, एक महिला की कही बात की तुलना में, ज़्यादा इत्मीनान से सुनेंगे। दुःख की बात है ना? लेकिन क्या करें, आज भी ये ही सबसे बड़ा सच है।

यदि आप उन पुरुषों में से एक हैं जो कि आश्चर्य करते हैं कि आपकी पत्नी / माँ पूरे दिन क्या करती है या
आपकी पत्नी जो घर के बाहर काम करती है, वह ‘मेरी माँ की तरह’ खाना नहीं बना सकती, तो मैं तहे दिल ये उम्मीद करती हूँ कि ये 21 दिन आपको कुछ तो ज़रूर सिखाएंगे। उनमें से कुछ बातें ये हैं –

  • बचपन से आपने जैसा खाना खाया है, उसे बनाने में पर्याप्त मात्रा में योजना और समय लगता है। यहां तक ​​कि अगर आपके घर में एक रसोइया या घरेलू कर्मचारी भी काम करता है, तो भी आपके जीवन में जो भी महिला है, उसका उसमें मानसिक और शारीरिक श्रम होता है। इतना समझें कि बिना किसी से कुछ कहे, घर में भी कुछ नहीं होता।
  • सफाई करना अपने आप में एक काम है। यह केवल ‘एक छोटी चीज़’ नहीं है। और विशेष रूप से अब, जब हम, वायरस के कारण, कुछ भी छूने से डर रहे हैं। अब तो पहले की तुलना में और भी अधिक समय और मेहनत लगेगी।
  • कपड़े धोना कोई जादू नहीं है। वाशिंग मशीन होने पर भी लोडिंग, अनलोडिंग, कपडे फोल्डिंग आदि में समय लगता है।
  • चाइल्ड केयर… इसमें एक अड़ियल बच्चे को खाने के लिए मनाना से लेकर स्कूल का होमवर्क करवाना, पालन-पोषण की भावनात्मक और शारीरिक थकान तक, सब कुछ शामिल है। इन 21 दिनों में आप
    देख सकते हैं कि यह एक ऐसा काम भी है जिसे तुरंत करने की ज़रुरत होती है। वह भूखा बच्चा न तो इंतजार कर सकता है और न ही चोट लगे घुटने को खुद साफ कर सकता है। शायद आप अपनी महिला सहकर्मी को भी अब टोकना बंद कर दें, जिसे हमेशा 5 बजे जल्दी से काम करके घर वापस जाना होता
    है।
  • मूल रूप से घर चलाने में भारी मात्रा में प्लैनिंग शामिल है। अब जब हम सभी चिंतित हैं कि हमारे किराने का सामान कहाँ से आएगा, तो शायद अब आप सराहना करेंगे कि इन चीजों को समय रहते सुनिश्चित करने में नियमित रूप से कितना समय और प्रयास लगता है।

डॉक्टरों की अपॉइंटमेंट, दोस्तों के साथ डिनर, घर की किसी भी तरह की मरम्मत की ज़रूरत … आप शायद लॉकडाउन के अंत तक इनमें से कई चीज़ों को टाल देंगे। हो सकता है कि आपके द्वारा सहन की जाने वाली ये असुविधा, आपको उस श्रम के बारे में सोचने में मजबूर कर दे जो आमतौर पर इन कामों को करने में लगता है।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

और, इन कामों में से कोई भी काम रविवार के लिए नहीं रुकता। अब हो सकता है कि कामवाली के बिना, जिनके बिना शायद हमारी रोजमर्रा की जिंदगी नहीं चल सकती, गुज़ारे ये 3 हफ्ते आपको ये सब अच्छी तरह से सोचने पर मजबूर कर दें।

और अभी तो मैं उन स्थितियों के बारे में भी बात नहीं कर रही हूं जिनमें असाधारण जतन की आवश्यकता है, जैसे कि एक बीमार बुजुर्ग की देखभाल।

आजकल मैं बहुत से लोगों के सकारात्मकता से भरे-निचुड़े ज्ञान को सुन रही हूँ कि इस तरह के समय में, हम सभी को एक-दूसरे के लिए होना चाहिए।

वास्तव में हमें यही करना है। आइये, शुरुवात हम अपने घर से ही करें…..

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

Aparna Vedapuri Singh

Founder & Chief Editor of Women's Web, Aparna believes in the power of ideas and conversations to create change. She has been writing since she was ten. In another life, she used to be read more...

3 Posts | 24,914 Views
All Categories