कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

बेसिक कुकिंग टिप्स जो बनाएंगे रसोई में आपकी ज़िंदगी आसान

लॉक डाउन हो चाहे ना हो, कभी न कभी हम सभी को अपना खाना खुद बनाना पड़ सकता है और इसलिए हम यहां बात करने जा रहे हैं कुछ बेसिक कुकिंग टिप्स की। 

लॉक डाउन हो चाहे ना हो, कभी न कभी हम सभी को अपना खाना खुद बनाना पड़ सकता है और इसलिए हम यहां बात करने जा रहे हैं कुछ बेसिक कुकिंग टिप्स की।

वैसे तो लॉक डाउन में हमें कई मुश्किलें आ रहीं हैं लेकिन कई लोग लोगों के लिए तो अब एक और है। और वो मुश्किल है कि अब कइयों को अपना खाना खुद बनाना पड़ रहा है। हैरान न हों, क्यूंकि आज वो समय नहीं है कि हर कोई अपना खाना ख़ुद बनाता हो। समय की कमी ने हम लोगों को कई तरीकों से दूसरों पर निर्भर बना दिया है। रोज़ की भागदौड़ में कई लोगों को कुकिंग करने का भी समय नहीं मिलता। और फिर ये अचानक लॉक डाउन।

वैसे भी कई बार देखा जाता है कि बाहर का खाना खाते खाते इंसान को कई तरह की बीमारी हो जाती हैं। लिवर का फैटी होना और केलोस्ट्रोल का बढ़ना इस बात की सबसे बड़ी वजह है। यहां कुछ छोटी छोटी बेसिक बातें हैं जिनसे आपको कुकिंग बोरिंग नहीं इंटरेस्टिंग लगेगी। आज के इस लेख में हम देखेंगे कि कुकिंग का असली आधार क्या होता है, जैसे- मसाला बनाना, मसाला भूनना,आटा गूँथना, चावल बनाना, चटनी बनाना,दाल बनाना आदि।

मेरे निजी अनुभव से कुछ कुकिंग टिप्स आपके लिए

आज आपके सामने जो भी अनुभव और तरीके मैं बताने जा रहा हूँ, ये मेरे निजी अनुभव हैं। मुझे यक़ीन है आप सभी को ये छोटे छोटे टिप्स और रेसिपी अच्छी लगेंगी।

साथ ही, आप सबके लिए मैं एक वीडियो भी शेयर कर रहा हूँ। ये वीडियो मेरा नहीं है लेकिन इस वीडियो में भी आपको काम के कई टिप्स मिल जाएंगे।

बेसिक कुकिंग टिप्स :

सबसे पहले हम बात करेंगे मसाले जो भूनने की। अक्सर जिन लोगों को कुकिंग का अनुभव नहीं होता, उनको मसालों को लेकर काफी समस्या आती है। उसमें ज़्यादा कुछ नहीं करना पड़ता बस संयम और मसालों की मात्रा का ध्यान रखना आवश्यक है।

(नीचे दिए गए सभी तत्वों की मुख्य मात्रा 250 ग्राम के लिए है)

Never miss real stories from India's women.

Register Now

मसाला कैसे भूनें?

  • सबसे पहले तेल लें एक बड़ा चम्मच अच्छा गर्म होने दें।
  • फिर उसमें 1 छोटी चम्मच ज़ीरा कड़कड़ा लें, ( यहाँ मैंने कड़कड़ाने का शब्द इसलिए लिखा है क्योंकि हम कई बार ज़ीरा डालते ही मसाले डाल देते हैं जिस से ज़ीरे का स्वाद कहीं खो जाता है।)
  • ज़ीरे के बाद इसमें बारीक कटा हुआ 1 प्याज़ डालें और हल्का सुनहरा होने तक भूनें।
  • उसके बाद उसमें अदरक लहसुन का आधा टीस्पून डालें(ऑप्शनल है) फिर 3 मिनट तक बिना पानी के हल्की आँच पर भूने।
  • उसके बाद उसमें 3 बड़े चम्मच दही के डालें और फिर भूने 5 मिनट( दही या तो नॉन वेज बनाने में डाला जाता है या फिर पनीर, या सोयाबीन चांप)
  • अब बारी आएगी सूखे मसालों की – 1 छोटा चम्मच हल्दी, नमक और मिर्च स्वादानुसार( मिर्च और नमक में आप हाथ थोड़ा कम रखें, ताकि अगर दोनों में से कुछ कम हो जाए तो बाद में भी डाला जा सकता है)
    आधा छोटा चम्मच पिसा हुआ धनिया पाउडर। सारे मिश्रण को पैन में डाल दें और 2 मिनट तक बिना पानी के भूनें, फिर उसमें एक छोटा कप पानी का डाल कर 7-8 मिनट तक भूनें।
  • इसके बाद 2 बारीक़ कटा टमाटर डाल दें (नॉन वेजेटेरियन के मसाले में टमाटर का इस्तेमाल नहीं होता और जिसमें होता है उसके मसाले की रेसिपी अलग होती है)
  • अब इन सभी मिश्रण को तब तक भूने जब तक के इसका तेल ऊपर न आ जाए। इसके बाद आपका मसाला तैयार है। आप इसमें सब्ज़ियां, दालें, पनीर, चिकन, चांप डाल कर बना सकते हैं।

(उपरोक्त सभी सामग्री में प्याज़, लहसुन,अदरक,टमाटर ऑप्शनल है इसके बिना भी आप मसाले को बना सकते हैं)

दाल बनाने की विधि

दालों में सबसे आसान विधि मूंग मसूर की दाल, या फिर अरहर की दाल से आप अपनी कुकिंग की शुरुआत कर सकते हैं, वैसे दाल का नाम सुनकर आपके नाक मुँह सिकुड़ जाते होंगे, खासकर बच्चों के। क्या आप नहीं चाहते आप स्वादिष्ट दाल भी खाएं और प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत भी है दाल।

उपरोक्त मसाले के साथ चने जी दाल और काली मसूर की दाल बना सकते हैं, आप यक़ीन मानिए आप दाल के स्वाद को ज़िन्दगी भर नहीं भूलेंगे।

अरहर दाल

अरहर की दाल बनाने में आपको बस क्या करना है

-250 ग्राम दाल
-1 छोटा चम्मच हल्दी
-4 सूखी लाल मिर्च जिसे आपको घर पर ही कूटना है।
-नमक स्वादानुसार
-छोंक के लिए – देसी घी और लहसुन की चार कलियाँ( लहसुन बहुत बारीक बारिक काँटे, नहीं तो आपको किसी के भी गुस्से का सामना करना पड़ सकता है,अक्सर लोगों को सबूत लहसुन खाने में अच्छे नहीं लगते)

विधि :

  • दाल को अच्छी तरह से धो कर पतीली या कुकर में डाल दें और उसमें हल्दी और नमक , कुटी हुई लाल सूखी मिर्च और हल्का सा आधा छोटा चम्मच घी डालकर पकने के लिए रख दें। कुकर में इसको बनने के लिए 20 मिनट तक लगते हैं और पतीले में बनाने में 1 घण्टे का समय लगता है। नहीं! नहीं! यह बीरबल की खिचड़ी नहीं हैं, मगर समय तो लगता है।
  • इसके बाद जब दाल गल जाए तब उसमें तड़का लगाने की तैयारी की जाए। छोटे करछे में घी और लहसुन दाल कर लहसुन के काला होने तक पकाएं उसके बाद सारा घी दाल में डाल दें और ऊपर से 5 मिनट के लिए ढक्कन से बंद कर दें।

आपकी स्वादिष्ट अरहर की दाल तैयार है।

मूंग मसूर की दाल की रेसिपी लगभग ऐसी ही होती है बस उसमे लहसुन की जगह ज़ीरे का तड़का लगाया जाता है।

टिप्स :

  • दाल को कुकर की बजाए पतीली में बनाएं जिस से उसका स्वाद बढ़ जाता है और दाल खाली गलती नहीं पकती भी है सही तरह से, अगर समय की कमी है तो आप कुकर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं
  • दाल को अधिक न गलने दें, वरना उसका स्वाद खो जाता है।
  • दाल में तड़के के लिए देशी घी का इस्तेमाल बेहतरीन टेस्ट देता है। इसके अलावा आप किसी भी तेल से तड़का लगा सकते हैं।

आटा गूंथने की विधि

आटा गूँथना सबको नहीं पसंद और हो भी कैसे पसन्द क्यूंकि अक्सर आटा गूंथने की जगह वह आटे का हलवा ज़रूर बना देते हैं। इसमें भी ध्यान देने वाली बात है मात्रा की। पानी और आटे की मात्रा का ज्ञान होना बहुत ज़रूरी है।

आटा गूंथने का तरीका सभी चीज़ों के लिए अलग अलग होता है –

चपाती के लिए – नरम आटा
पूरियों के लिए – कड़ा आटा
परांठो के लिए – ढला हुआ आटा( ढला हुआ मतलब 1 घण्टे तक रखा हुआ आटा जब आटे का पानी पूरा आटा सोख लेता है)

फिलहाल, हम चपाती के आटे के लिए विधि बताने जा रहे हैं –

  • 2 कप आटे के लिए, 1 1/2 कप पानी यानी डेढ़ कप पानी
  • थोड़ा सा या 2 चुटकी नमक(ऑप्शनल)

थाली या आटा गूंथने वाला बर्तन को परात बोलते हैं। 2 कप आटे में धीरे धीरे पानी डालकर आटे में एकसार मिला लें और हाथ से मसलते रहें, जब सारा पानी एकसार हो जाए फिर दोबारा पानी डालकर उसको गूँथना शुरू करें। धीरे धीरे आटे को समेटते हुए फिर पानी डालकर आउट गूंथे जब तक आटा सारा पानी न सोख ले। इसके बाद आपका आटा चपाती के लिए तैयार है।

टिप्स :

आटा गूँथने के समय हल्का गुनगुना पानी का इस्तेमाल करेंगे तो रोटी मुलायम बनेगी।

रोटी के बाद बात करते हैं चावलों की

चावलों की बहुत सारी किस्मे होती हैं। बासमती कच्चा, बासमती सेलाह, मंसूरी, परमल आदि। इन किस्मों में दो तरह के चावल आते हैं – नए चावल, पुराने चावल।

नए चावलों को बनाने की विधि

इसमें अगर हम 1 कप चावल लेंगे तो 1 1/2 कप ही पानी डालेंगे, जैसे कच्चे बासमती, नया परमल। इसमें पानी की मात्रा कम रखी जाएगी।

पुराने चावलों को बनाने की विधि

इसमें पानी की मात्रा अधिक इस्तेमाल होती है। जैसे एक कप चावल हैं तो इसमें 2 कप पानी डाला जाएगा। जैसे सेलाह बासमती।

टिप्स :

  • चावलों को बनाते समय 1 छोटा चम्मच घी का डालने से चावल खिले खिले बनेंगे। आप एक छोटी चम्मच नींबू के रस का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • पक्के चावलों को कम से कम 2 घण्टे भीगो कर रखें।उसके बाद उसको बनाने के किये तैयार करें।

कुछ और कुकिंग टिप्स

दाल और चनों को भिगोने का समय अंतराल

दालों को भिगोने का समय अलग अलग हो सकता है। जिसमे विशेष दालें हैं, जैसे –

  • उड़द की दाल-6 घण्टे
  • चने की दाल-6 घण्टे
  • मटर की दाल-6 घण्टे
  • इनको भिगाने से एक तो यह अच्छी तरह गल जाती है कम समय में और इनकी गुणवत्ता भी बढ़ जाती है।इनका बादीपन भी खत्म हो जाता है। जिससे गैस की प्रॉब्लम नहीं होती।
  • चने, मटर ,राजमा, और छोले की बात करें तो इनको भिगाने के लिए कम से कम 12 घण्टे की आवश्यकता होती है। इनको फूलने में समय लगता है।

आप इस लेख को ज़रूर पढ़ियेगा, कहीं न कहीं यह आपके लिए मददगार साबित होगा। आपको ये छोटी-छोटी कुकिंग टिप्स ज़रूर काम आएंगी। मुझे आशा है इस से आप आसानी से अपनी कुकिंग की शुरुआत कर सकते हैं।

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

96 Posts | 1,371,725 Views
All Categories