कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

अबके होली में मोहे रंग ऐसा पक्का दीजो कि छुटन न जाए…

Posted: मार्च 6, 2020
Tags:

होली मोहब्बत और अपनेपन के साथ ऐसे खेलें कि सारे बाहरी रंग छूट जाएं, लेकिन प्यार के पक्के रंग सामने वाला से न छूटें और न ही वह छुड़ाना चाहे।

‘होली’ उच्चारण से मन में हिलोरे उठते हैं। ये केवल एक शब्द मात्र नहीं है, यह फाल्गुनी पूर्णिमा पर वसंत का फैलता सुवास, भारतीय जन-जीवन में डूबता उतरता गंगा-जमुनी तहज़ीब के बीच में पल रहा रंग-अबीर का रंगोत्सव है। जिसमें पीले सरसों, रंग-बिरगे फूलों के रंगों के साथ मिलकर समस्त मानवता, पहली रात में होलीका के आग के साथ सारी रंजिशे जलाते-भुलाते है, दूसरे दिन मन के बचे-खुचे मैल रंगों से धोते है और शाम को खुले और धुले मन से प्रेम-प्यार के वातावरण में गुलाल के रंगों के साथ एक-दूसरे से गले मिलते हैं।

रंग खुशी का प्रेम भाव मन को मोह कर हर किसी को अपना अज़ीज़ बना लेता है। हम हर समय एक-दूसरे को अपने भावों के रंग से रंगते रहते हैं, दूसरा चाहे न चाहे वह हमारे भावों, हाव-भाव, तरंगों के रंग से अछूता नहीं रह सकता। बाहरी तन पर लगने वाले इन रंगों के साथ हम उन रंगों को भी लगाते हैं जो दिखाई तो कम देते हैं पर असर सबसे ज़्यादा और गहरा डालते हैं। रंगपर्व होली का उज्जवल भाव हमारे ज़हन में, हरेक के जीवन को प्रभावित करता है। रंग न धर्म देखता है और न ही जाति, न अमीर न ही फकीर, रंग न उम्र देखता है और न ही अवस्था। हर जगह होली, हमजोली की प्रेरणा देती है और सबों को सराबोर कर देती है।

सूफी संत बुल्ले शाह के अल्फाज़ भारतीय संस्कृति के मिली-जुली गंगा-जमुनी तहज़ीब और तबीयत की गवाही देते हैं कि

“होरी खेलूंगी कह कर बिस्मिल्लाह नाम नबी की रतन चढी, बूँद पडी इल्लल्लाह
रंग-रंगीली उही खिलावे, जो सखी होवे फ़ना-फी-अल्लाह
होरी खेलूंगी कह कर बिस्मिल्लाह

अलस्तु बिरब्बिकुम पीतम बोले, सभ सखियाँ ने घूंघट खोले
क़ालू बला ही यूँ कर बोले, ला-इलाहा-इल्लल्लाह
होरी खेलूंगी कह कर बिस्मिल्लाह।”

होली का रंग अपनी धार्मिक मान्यताओं से अलग प्रेम-सौहार्द्द के सामासिक संस्कृति का वह ईश्क-रंग है जिसकी सैकड़ों कहानियां भारतीय संस्कृति में देखने को मिल जाती हैं। फाग, फगुआ और फागुन की मस्ती से भारतीय संस्कृति में पला-बढ़ा हर इंसान वाकिफ़ है। फाग-गीत के संग होली की मस्ती का आलम हर जगह कम-ओ-बेश एक सा होता है। चेहरे और मन की इस रंगीनी को ख़ास नज़र से देखे तो महसूस होता है रंग-पर्व के रंग-अबीर के रंगोत्सव में हर इंसान हर तरह के भेदभाव और ऊंच-नीच से अलग एक इंसानी अज़मत के तराने पर मदमस्त झूमने वाला करने एक मासूम-सा बच्चा भर है।

देखा जाए तो होली के रंग बसंत में तन, मन और प्रकृति तीनों रंग-रोगन में डूबे हुए हैं, यानी अनेक रंगों का रंगपर्व एक ही रौ में रहता है। तन, मन और प्रकृति तीनों से एक ही तरह की रौशनी निकलती है नवीन, नूतन, नवउमंग और मादकता। सच जानिये जीवन के वसंत में रंग इसलिए भी हैं कि जीवन की एकरसता दूर कर सकें और इसलिए भी कि हम सादगी का जीवन-मूल्य पहचान सकें। रंगपर्व का रंगोत्सव, फागुनी धूप सरीखे गुनगुनेपन को महसूस कराता है कि जीवन भी रंग-रोगन का उत्सव ही तो है।

रंग-अबीर का यह रंगोत्सव केवल चंद रंग भर ही नहीं है। ‘होली है!’ की ध्वनियों का नटखट शब्द-रंग सुनने वाले के मन में तरूणाई और मधुरता का रंग घोलता है, कबीर के शब्द उधार लूं तो, “ऐसी वाणी बोलिए मन का आपा खोए..” शब्द ध्वनि की शीतलता मन को रंग-विभोर कर देती है। रंग-अबीरों से मिलकर बनते रंगपर्व के दृश्य-रंग जो दूसरे हमको दिखाते हैं, दूसरे हमारे रंग देखते हैं और एक-दूसरे के मुस्कानों का भाव स्वत: खींच लेता है रंग रोगन होने के लिए।

सब निकल पड़ते हैं एक-दूसरे के रंग मुस्कान के छीटों से रंग घोल कर, स्पर्श-रंग स्नेह की कोमल अनुभूति के साथ गले मिलने के लिए। रंग-अबीर के इस महोत्सव में कालिमा की कोई ज़गह नहीं है, इसमें जोरा-जोड़ी या हठजोड़ी नहीं है मान-मुनव्ल जरूर है जिनके चेहरे पर गुलाल रंग लगाने के पात्र है उनके चेहरे पर, जिनके चरणों पर गुलाल लगाकर आशीवार्द लेने का और जिनको स्पर्श का रंग पसंद नहीं है, उन्हें नमस्कार कर भावों का स्पर्श-रंग लगाया जाता है। होली का वसंतोत्सव स्वाद-रंग में व्यंजनों का रंग जुबान पर आने से पहले आंखे पहचानते हुए व्यंजन खाने के बाद संबंधों में नव-मधुरता का रंग घोल देता है।

रंगपर्व होली दृश्य बोली रंग, दृश्य रंग, स्पर्श रंग और स्वाद रंग मानवता के कैनवास को रंगकर उसके लिए प्रेम, स्नेह के भावों को रंग भर देता है। सभी के रंगों से लिपे-पुते चेहरे, पहले सामने वाले के मन से मन को भाव से रंगते हैं, तब ही हम उसको सब तरह के रंगों में डुबा पाएगें। साल में एक बार आने वाले रंगपर्व में मन के रंग तो हज़ार हैं, इतने कि सिर्फ बाहर के रंग ही नहीं बल्कि दूसरों को त्योहार पर रंगने के लिए इनमें से अच्छे और सच्चे रंग, यानी प्यार, मनुहार, मनौव्वल, मान, निश्छलता आदि के रंगों को चुनकर उल्लास, प्रसन्नता के भावों से होली खेलना ज़रूरी है।

यह होली मोहब्बत और अपनेपन के असली रंगों के साथ खेलें, ऐसे खेलें कि बाहरी रंग छूट जाएं पर ये रंग, जिन्हें हर तरह से सामने वाले को लगाने जा रहे हैं, न छूटें और न ही वह छुड़ाना चाहे।

मूल चित्र  और अन्य  चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020