कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

वह अजीब औरत कहीं आप और मैं तो नहीं?

Posted: फ़रवरी 26, 2020

कल! देखा मैंने, उस अजीब औरत को! सोचा कभी जाने क्यों इतनी अजीब होती हैं ये औरतें? इतनी सशक्त होते हुए भी, असहाय सी दिखती हैं, ये औरतें।

कल! देखा मैंने,
उस अजीब औरत को,
जो गृह के असंख्य कार्यों का;
समापन कर, नियत समय पर,
हैलमेट पहन, स्कूटी से;
जा रही थी दफ़्तर,
हेलमेट के अंदर ;
उसके माथे पर;
असंख्य पसीने की बूंदों को।

देखा मैंने;
उस अजीब औरत को,
जो गोद में अपने बच्चे को लेकर,
पहुँच गयी थी मजदूरी करने,
कभी देखती अपने बच्चे को ,
कभी ढोती ईंट सर पर,
वह अजीब औरत।

देखा मैने;
अपने छोटे भाई को,
सांत्वना देती; उस छोटी बच्ची में,
परिपक्व होती; उस अजीब औरत को।

देखा मैने;
उस अजीब औरत को,
छत से टपकते हुए;
बारिश की बूंदों से,
अपने बच्चों को भीगने से;
बचाने की कोशिश में,
खुद भींगते हुए।

देखा मैने;
उस अजीब औरत को;
रसोई में; भीषण गर्मी में भी,
चूल्हे में कोयले की जगह,
खुद को जलाते हुए,
माथे से निकलती पसीने की बूंदों को,
उसकी आँखों में जाते हुए
कभी आँख पर हाथ रखते,
कभी रोटी सेंकते हुए।

देखा मैने;
उस अजीब औरत को,
वृद्धाश्रम में; अपने बच्चों के लिए,
प्रार्थना करते हुए।

कहाँ से लाती हैं, ये औरतें;
विषम परिस्थितियों को भी,
अनुकूल बना लेने की क्षमता,
कहाँ से लाती हैं ये औरतें,
जिजीविषा?

कितनी अजीब होती हैं,
ये औरतें।
इतनी सशक्त होते हुए भी,
असहाय सी दिखती हैं,
ये औरतें।

ये अजीब औरतें।
ये अजीब औरतें।

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

A mother, reader and just started as a blogger

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020