कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

आटा-साटा, किसी का फायदा, किसी का घाटा

Posted: February 7, 2020

अक्सर नाकारा बेटे के माता पिता बेटे को शादी के लिए लड़की ना मिल पाने पर ये शर्त रखते हैं कि अगर आप हमें बेटी दोगे तो हम भी अपनी बेटी का ब्याह आपके बेटे से कर देंगे।

सुनयना, जैसा नाम वैसी ही बड़े बड़े नैनों वाली खूबसूरत सी लड़की! सुनयना अपनी मां के साथ हाथ बंटाने हमारे घर आती थी। उसकी मां को मेरी मम्मी कुछ घरेलू कार्यों में मदद के लिए बुला लेती थी। दो भाईयों के बाद सुनयना पैदा हुई थी, उससे छोटी और दो बहनें थीं। उसके पिता सिनेमा हॉल के बाहर पॉपकॉर्न और बैलून का ठेला लगाते थे और मां का काम होता था पॉपकॉर्न बनाना और पैक करना। वह घर से भी कुछ सामान बेच लेती थी जैसे पॉपकॉर्न, खिलौने, पेप्सी (एक प्लास्टिक के रैपर में जमी हुई शर्बत की स्टिक्स), चॉकलेट आदि।

गाड़ी जैसे-तैसे चल रही थी। दसवीं करने के बाद सुनयना की पढ़ाई छुड़वा दी गई थी क्योंकि उसकी बहनों को भी पढ़ाना था। अब सुनयना घर के काम में मां का हाथ बंटाती और मोहल्ले के एक घर में खाना बनाती व बच्चे संभालती। धीरे-धीरे उसकी शादी लायक उम्र हो गई।

समाज में लड़कियों की कमी थी तो उसके लिए गांव के ही औसत लड़कों के रिश्ते आने लगे, लेकिन उसकी मां गांव में बेटी देना नहीं चाहती थी। इसलिए किसी को हां नहीं की। उसके दो बड़े भाई थे जिन्होंने छोटी सी किराना दुकान खोल ली थी। एक दिन उसके बड़े भाई राजेश के लिए एक रिश्ता आया।

लड़की पास ही के गांव की थी। वह बेहद खूबसूरत थी, पर उनकी एक शर्त थी कि लड़की के भाई के साथ सुनयना ब्याह दी जाए। उसकी मां ने सुनयना से बिना पूछे ही हां कर दी। आनन फानन में शादी कर दी गई पर भाग्य की विडंबना देखो कि सुनयना का पति किसी दुकान में काम करता था, वह जो कमाता दारू में उड़ा देता। एक बेटी का जन्म होते ही उसके पिता और भाई ने उसे अलग कर दिया।

अब तो वह बहुत ही गैर जिम्मेदार हो गया। सारा दिन पीकर पड़ा रहता। सुनयना बेचारी सिलाई करके थोड़ा बहुत कमाती उससे वह भी छीन लेता। कुछ दिन पहले वही सुनयना मेरी दीदी को एक दुकान में डाइपर बेचती हुई दिखी। दीदी के पूछने पर वह रो पड़ी और बोली कि अब उसके पति ने किसी दूसरी महिला को अपने घर में रख लिया है और सुनयना और उसकी बेटियां नौकरानी बन कर रह गई हैं।

दीदी ने पूछा कि तेरे भाई कुछ नहीं बोलते। तो बोली कि एक बार बोला था तो मेरी भाभी घर छोड़कर चली गई थी। इसलिए अब वो कुछ नहीं बोलता।

दीदी ने उसके भाई को फोन किया और इस बारे में बोला तो वह कहने लगा क्या करें दीदी सुनयना की किस्मत ही ऐसी है, उसके लिए मैं अपना घर थोड़ी ना उजाडूंगा। इतना कहकर उसके भाई ने पल्ला झाड़ लिया। अगर भाई चाहता तो अपने ससुराल वालों के साथ थोड़ा कड़क बनकर अपने जीजा को सुधार सकता था। लेकिन खुद की पत्नी को खोने के डर से उसने ऐसा कुछ नहीं किया।

अगर वह अपने ससुराल वालों को धमकाता कि अगर आपके यहां मेरी बहन सुखी नहीं रहेगी तो मेरे घर में आपकी बेटी भी खुश नहीं रहेगी, तो झक मार के सुनयना के ससुराल वाले अपने बेटे पर दबाव बनाते या उसे सुधारते और सुनयना भी सुखी रहती। मगर स्वार्थवश राजेश ने ऐसा कुछ नहीं किया।और सुनयना को संघर्ष करने के लिए अकेला छोड़ दिया।

दोस्तों ये एक सच्ची घटना है। कई जगह अक्सर किसी नाकारा बेटे के माता-पिता बेटे को शादी के लिए लड़की ना मिल पाने पर ये शर्त रखते हैं कि अगर आप हमें बेटी दोगे तो हम भी अपनी बेटी का ब्याह आपके बेटे से कर देंगे। ऐसे माता पिता अपने बेटे कि ज़िन्दगी संवारने के लिए बेटी की ज़िन्दगी बर्बाद कर देते हैं। इसे आटा-साटा कहते हैं। ऐसे रिश्ते हर बार सफल नहीं होते, किसी एक को तो पिसना ही होता है।

आप लोगों को मेरा ये ब्लॉग पसंद आए तो कृपया इसे फॉलो एवं शेयर ज़रूर कीजिएगा।

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Behind a successful women is herself.

और जाने

Vaginal Health & Reproductive Health - योनि का स्वास्थ्य एवं प्रजनन स्वास्थ्य (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?