कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

चटकती-बहकती मैं हूँ गुलदाउदी

Posted: जनवरी 1, 2020

तुम वही मौसम बन जाओ, कभी प्यार की धुँध में छन जाओ, कभी सुनहरी धूप बन जाओ।
फिर देखना, मैं इक बार खिली तो, बस खिलती ही जाऊँगी।

मैं गुलदाउदी!
जानती हूँ कि मैं गुलमेंहदी,
गुलमोहर और गुलबहार नहीं।
पता है कि मैं चमेली, चम्पा,
मालती और माधवी भी नहीं।
नहीं हूँ मैं कामलता, कामिनी,
रात की रानी और छुई-मुई भी नहीं।
ये भी मानती हूँ कि मैं,
गुलाबी गुलाब सी नवाबी तो, बिलकुल भी नहीं।

क्योंकि ये सब भी, मुझसे कहाँ हैं?
इनमें से कोई लता पर,
अपने रंग संग, लहकती हैं।
तो कोई पेड़ों पर,
अपनी महक संग, महकती हैं।
कुछ कोमल शाखाओं पर,
अपना सौंदर्य लिए, टहकती हैं।

इन सबको झट-से, फट-से खिलते देख,
तुम शिकायत करते हो कि,
मैं क्यों नहीं, इन जैसी खिलती?

शायद याद नहीं रहता तुमको!
मैं भी तो अपने मौसम में खिलती हूँ।
चटकती-बहकती, मैं भी तो
समय आने पर, तुमसे मिलती हूँ।

मगर शर्त यह कि,
तुम वही मौसम बन जाओ।
कभी प्यार की धुँध में छन जाओ।
कभी सुनहरी धूप बन जाओ।
फिर देखना! मैं इक बार खिली तो,
बस खिलती ही जाऊँगी।

सर्द-सर्द, दिन-रात में,
मैं बस आगे ही कदम बढ़ाऊँगी।
और महसूस करोगे तुम भी,
बाकी तो केवल बहार में,
पर मैं गुलदाउदी,
पतझड़ में भी साथ निभाऊँगी।

मूल चित्र: Chandrakant Sontakke via Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020