कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

जो मंजिल पाने की ज़िद हो तेरी तो ख़ुद पर ऐतबार ज़रूरी है

Posted: जनवरी 14, 2020

दूसरों से उम्मीद अब बहुत हुयी अब खुद पे ऐतबार ज़रूरी है, अगर चाह है कि बदल जाए ये दुनिया, तो सबसे पहले ख़ुद का बदल जाना भी ज़रूरी है।

ख्वाहिशों के महल,
मिलते नहीं बस सोचने से।
मंजिल को पाने के लिए,
चलने की ज़िद भी ज़रूरी है।

थक गए होंगे
भाग्य को आज़माते आज़माते।
अब ज़रा खुद को
आज़माना भी ज़रूरी है।

जीना है अगर जी भरकर
जीवन को ज़रा सा भी।
तो फिर से बचपन में,
लौट जाना भी ज़रुरी है।

अगर चाह है कि
बदल जाए ये दुनिया।
तो सबसे पहले ख़ुद का
बदल जाना भी ज़रूरी है।

सर अपना रखना है,
अगर सम्मान से ऊँचा।
तो अहम् छोड़ कर थोड़ा,
झुक जाना भी ज़रुरी है।

चाहते हो जो कुछ,
सामने वाले से तुम।
तो पहले
उसे देना भी ज़रूरी है।

प्यार, नफरत या दुआ
जो दोगे, वही मिलेगा।
अच्छे के लिए सत्कर्मों का ,
व्यापार भी ज़रुरी है।

सही वक्त पर सब कुछ,
तुझे भी मिलेगा।
बस अपने पर तेरा,
ऐतबार ज़रुरी है।

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Samidha Naveen Varma Blogger | Writer | Translator | YouTuber • Postgraduate in English Literature. • Blogger at Women's

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020