कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

अपने पर्यावरण को बचाएँ, धरती को हरा-भरा बनाएँ

Posted: December 10, 2019

आज हम संकल्प-रत हैं, और प्रण है यह – उगायेंगे निर्जन मरूभूमि में मधुबन, एक पौधा पितृ सा पावन,
पुण्य तर्पण से अधिक सिंचन!

गलतियाँ मानव ने बहुत की
कर भी रहे हैं
मानती हूँ!
दूर तक सुनसान राहें,
और ये मासूम जंगल
दे रहे गवाही,
जानती हूँ!

मूर्खता ने राह में काँटे बिछाए हैं,
उन्हें पहचानती हूँ!

भूल हम ने ऐसी की है –
कि प्रायश्चित जिसका
पीढ़ियाँ दर पीढ़ियाँ करती रहेंगी!

ये कटे बीहड़ – निर्जन वन,
वस्त्र हीनता, वृक्ष हीनता,
नग्न धरती –
देख कर हम खुद लजाते हैं!

मत करो हमारी शिकायत,
मत करो अब भर्त्सना,
क्योंकि पश्चाताप-रत हैं हम
और अनुभव कर रहे हैं –
आत्मा-हनन पूर्ण कार्यों की घुटन!

आज हम संकल्प-रत हैं,
और प्रण है यह – उगायेंगे
निर्जन मरूभूमि में मधुबन!

एक पौधा पितृ सा पावन,
पुण्य तर्पण से अधिक सिंचन

लक्ष्य है यदि जो, मनुज-आरोहण,
तो करेंगे हम, वृक्ष – आरोपण!

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Vaginal Health & Reproductive Health - योनि का स्वास्थ्य एवं प्रजनन स्वास्थ्य (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?