कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

रावण की मनकही कब तक सुनते रहेंगे?

Posted: December 8, 2019

दशहरा गए, रावण जलाये तो दिन हो गए लेकिन रोज़-रोज़ के रावणों का क्या किया जाए? क्यों ना एक बार ऐसा दशहरा मनाएं कि कोई रावण वापस ना आ सके? 

काठ का पुतला जला कर खुश हो तो रहे हो
अपने मन के रावण को जला पाओ, तो जानूं!

आए सीता जब-जब कोई तुम्हारी शरण में
तो सकुशल लौटा पाओ, तो जानूं!

असत्य की स्वर्ण लंका को भेद तो रहे हो अपने बाण से
दिल को सत्य का अभेद्य किला बना पाओ, तो जानूं!

विजय का जश्न चाहे जितना भी मना लो
दुश्मन को हराकर, गले लगा पाओ, तो जानूं!

हर साल जुटते हो मेरी तबाही का मेला देखने
समाज से हर कुरीति हटा, खुशियों से आबाद करा पाओ, तो जानूं!

रावण को भूलते नहीं, हर बार फिर से लौटा लाते हो
राम को सदा के लिए जीवन में उतार पाओ, तो जानूं!

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?