आइये हम सब मिल कर इस नव वर्ष की शुरुआत इस संकल्प से करें!

Posted: December 31, 2019

एक संकल्प नव वर्ष के लिए – जब नर और नारी दोनों मिल कर, सृष्टि की रचना कर सकते हैं, क्यूँ नहीं दोनों मिल कर इस धरा को, राक्षस विहीन कर सकते हैं?

नववर्ष की पहली सुबह में,
आप सबका करती हूँ स्वागत।
एक संकल्प ले हम सभी,
करें न किसी के मन को आहत।

क्रोध से बढ़ता है क्रोध,
चाहत से बढ़ती है चाहत।
प्यार बाँटें, प्यार मिलेगा,
इसमें लगे ना कोई लागत।

संकल्पों की इस श्रंखला में,
एक संकल्प हम मिल कर लें।
न होने देंगे अपमान नारी का,
इसका दृढ़ निश्चय कर लें।

कुदृष्टि डालने से पहले बस,
हर पुरुष ये कर ले ध्यान,
मेरी बेटी, बहन और माँ,
क्या सह सकेंगी ये अपमान?

जब नर और नारी दोनों मिल कर,
सृष्टि की रचना कर सकते हैं।
क्यूँ नहीं दोनों मिल कर इस धरा को,
राक्षस विहीन कर सकते हैं?

अस्तित्व नर का है तभी तक
मान लें इस बात को सब,
जब तक नारी है सुरक्षित
अब न जागे तो जागोगे कब।

याद रहे ए नर तुझको,
जो तूने लाँघी मर्यादा।
सृष्टि खत्म कर देगी नारी,
क्या कहूं इससे ज़्यादा!

और संकल्प लो न लो,
नारी सम्मान का कर लो स्वागत
बीत न जाए ये वर्ष भी,
बस व्यर्थ में यूँ ही भागत भागत।

नववर्ष की पहली सुबह में,
आप सबका करती हूँ स्वागत।
एक संकल्प ले हम सभी,
करें न किसी के मन को आहत।

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Gaslighting in a relationship: गैसलाइटिंग क्या है?

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?