कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मासूमियत ही भगवान

Posted: December 6, 2019

मैं बहुत खुशी खुशी घर आई, आइने में अपने आप को ‌देखा तो एक अजीब सी चमक थी और एक विश्वास था कि मेरा दिन बहुत सुन्दर जाएगा।

दो चार दिनों से मौसम बेहतरीन हो रहा है। तेज ठंडी पर फिर भी कोमल हवा बह रही है। पेड़ों को भी जैसे बहुत मस्ती आ रही है और वह एक ही जगह पर रह कर भी ऐसे नाच रहे हैं मानों इन हवाओं से सबसे ज्यादा बस वही खुश हैं। कोई शर्म,‌ कोई विचार उन्हें हंसने, खिलखिलाने, और नाचने से नहीं रोक सकता।

आज सुबह बहुत जल्दी उठ गई मैं और मुझे मेरे अलार्म ने नहीं बल्कि इन‌‌ पेड़ों की खुशी ने, उनके हंसने ‌की आवाज ‌ने उठाया। पर्दा हटाया और नजारा लिया।‌ इतनी मासूमियत थी बाहर। वातावरण से कोई छेड़छाड़ नहीं।  एक हल्की सी रोशनी, ठंडी हवा, और झूलते हुए‌ पेड़। वह मासूमियत, वह शांति भगवान से कम नहीं थी। दिन की शुरुआत एक मुस्कान से हुई और पहला‌ विचार आया कि क्यों लोग भगवान को ढूंढने मंदिरों में जाते हैं।‌ मुझे तो वह इस मौसम में ही दिख रहे थे।

फिर मैं जल्दी से जूते पहन के तैयार हुई और नीचे सैर के लिए निकल गई।

रास्ते में मेरे पास से दो गिलहैरिया निकली।‌ मैंने घ्यान से देखा तो वह दोनों आपस में खेल रहीं थीं। अपने में मस्त, किसी का भय नहीं, और किसी के साथ कोई मुकाबला नहीं। भागती, कूदती, पेड़ों पे चढ़ती, अपने आप में सम्पूर्ण थी।

तभी अचानक एक बहुत ही छोटी सी, नीली सी चिड़िया मेरे सामने से निकली और एक डाल पे बैठ गई और अपनी छोटी सी चोंच से चहचहाने लगी।  वैसी चिड़िया मैंने आज तक नहीं देखी थी। मैं थोड़ी देर खड़े होकर उसे देखती रही। कमाल की सुन्दर चिड़िया थी।

अभी मैं उसे देख ही रही थी कि एक बहुत ही बुजुर्ग से व्यक्ति वाहा से निकले। मैं उन्हें जानती नहीं थी। जब मैंने उन्हे निकलने के लिये रास्ता दिया तो उन्होंने मुझे हाथ जोड़ कर नमस्कार किया। उनके मुंह में दांत नहीं थे और उनकी मुस्कान बहुत ही सरल और मासूम थी। मैंने भी उन्हें हाथ जोड़ के, मुस्कुराते हुए नमस्कार किया।

फिर किसी के घर से आरती की आवाज आने लगी और दो बहुत ही छोटे बच्चे स्कूल के लिए अपने पापा की उंगली पकड़े निकले। पापा के हाथों में वो छोटे छोटे हाथ कितने मासूम और निश्चित लग रहा थे।

यह सब देखते हुए मुझे एहसास हुआ कि मैं तब से सिर्फ मुस्करा ही रही थी।

एक बार फिर लगा कि लोग भगवान को ढूंढने मन्दिर क्यों जाते हैं जब वह आपके आसपास हि है। भगवान हर उस मासूमियत में है जिसे हम कितनी आसानी से नजर अंदाज कर देते हैं।

मैं बहुत खुशी खुशी घर आई। आइने में अपने आप को ‌देखा तो एक अजीब सी चमक थी और एक विश्वास था कि मेरा दिन बहुत सुन्दर जाएगा।

आज सही मायने में मुझे भगवान दिखे थे।

मूल चित्र : Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Ruchi is a new person who has dared to break all walls of monotony in

और जाने

Vaginal Health & Reproductive Health - योनि का स्वास्थ्य एवं प्रजनन स्वास्थ्य (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?